You are here

RTI खुलासा: चार सालों में ‘ऐतिहासिक’ PM मोदी ने विदेश यात्रा पर खर्च कर दिए 355 करोड़ रुपये

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

भारतीय जनता पार्टी और उसके ऐतिहासिक कहे जाने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भले ही एक दिन पहनने के लिए हीरा व्यापारी से 10 लाख रुपये का सूट गिफ्ट में ले लेते हों लेकिन मंचों से फिजूलखर्ची रोकने और खुद की फकीरी की दुहाई देते नहीं थकते।

अब एक आरटीआई से बाहर आई जानकारी ने बताया है कि खुद को फकीर कहने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 4 साल में विदेश यात्राओं में 355 करोड़ रूपये से ज्यादा देश का पैसा खर्च कर चुके हैं।

52 देशों की विदेश यात्राओं में खर्च किए गए 355 करोड़ रुपये के बदले में देश को हासिल क्या हुआ प्रधानमंत्री कार्यालय इसकी रिपोर्ट सार्वजनिक करने को तैयार नहीं।

क्या जानकारी मिली आरटीआई में- 

सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब तक 52 देशों की यात्राएं कर चुके हैं. इस दौरान कुल 165 दिन वह विदेशों में रहे हैं.

अपने 48 महीनों के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 41 विदेश यात्राओं के दौरान 52 देशों का भ्रमण किया. इन विदेश यात्राओं पर 355 करोड़ रुपये ख़र्च किए गए हैं और इस दौरान प्रधानमंत्री ने कुल 165 दिन विदेशों में गुज़ारे हैं.

सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई जानकारी से इस बारे में पता चला है. 15 जून 2015 से बाद की इन यात्राओं पर कुल 3,55,30,38,465 रुपये ख़र्च हुए.

आरटीआई कार्यकर्ता भीमप्पा गदद ने प्रधानमंत्री कार्यालय से इस संबंध में जानकारी मांगी और उसे समाचार वेबसाइट ‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ वेबसाइट के साथ साझा किया. रिपोर्ट के अनुसार, इन 41 विदेश यात्राओं के दौरान प्रधानमंत्री 52 देशों में गए.

3 देशों की यात्रा में हुआ सबसे ज्यादा खर्च- 

52 देशों की यात्रा में सबसे ज़्यादा आठ दिन उन्होंने फ्रांस, जर्मनी और कनाडा में गुज़ारे. मोदी ने इन तीन देशों की यात्रा अप्रैल 2015 में की थी. तीन देशों की यह यात्रा मोदी की सबसे ख़र्चीली यात्रा है.

इस यात्रा पर कुल 31 करोड़ 25 लाख 78 हज़ार रुपये ख़र्च. साल 2014 में प्रधानमंत्री की भूटान यात्रा पर सबसे कम ख़र्च आया. 15 और 16 जून, 2015 को भूटान यात्रा में कुल दो करोड़ 45 लाख, 27 हज़ार, 465 रुपये ख़र्च हुए.

आरटीआई कार्यकर्ता भीमप्पा ने बताया, ‘मैंने कुछ रिपोर्ट पढ़ी थी, जिसमें मोदी की विदेश यात्राओं की आलोचना की गई थी. इसके बाद मैंने प्रधानमंत्री कार्यालय से उनकी विदेश यात्राओं के संबंध में जानकारी मांगी थी.’

प्रधानमंत्री की घरेलू यात्राओं के संबंध में जानकारी न दिए जाने पर भीमप्पा का कहना है कि ‘घरेलू यात्राओं और इस दौरान प्रधानमंत्री की सुरक्षा पर किए गए ख़र्च के बारे में सुरक्षा कारणों की वजह बताकर जानकारी नहीं दी गई.

हालांकि मैंने सिर्फ ख़र्च की जानकारी मांगी थी, लेकिन प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से यह कहकर मना कर दिया गया कि एसपीजी सुरक्षा संगठन प्रधानमंत्री की सुरक्षा करता है और आरटीआई से इसे छूट दी गई है.’

भीमप्पा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार को इन विदेश यात्राओं से देश को हुए फायदे की जानकारी सार्वजनिक करनी चाहिए.

मोदी सरकार द्वारा प्राइवेट लोगों को IAS बनाने की कोशिश सीधे तौर पर OBC/SC/ST आरक्षण पर हमला है

ब्लॉक प्रमुख पति के बाद अब अनुप्रिया पटेल के साथ ही अभद्रता, लोग बोले अब तो कुछ बोलिए मंत्री जी !

गजब UP ! CM के प्रमुख सचिव पर रिश्वत मांगने का आरोप, आरोप लगाने वाला ही गिरफ्तार, आरोप वापस

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की इस सूची ने साबित कर दिया कि RSS के लिए हिन्दु का मतलब सिर्फ ब्राह्मण है !

UPSC को भेजे गए प्रस्ताव में OBC/SC/ST के खिलाफ साजिश और ‘वफादार’ नौकरशाही तैयार करने की बू है

Related posts

Share
Share