You are here

योगीराज: दबंगों ने प्रजापति समाज के 6 लोगों को जिंदा जलाया, 3 की मौत

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो।

योगी सरकार अपराध में अंकुश लगाने में असमर्थ है, जनपद मैनपुरी में 18 जून की रात को कुछ दबंगों ने एक प्रजापति परिवार के सभी सदस्यों को मिट्टी का तेल डाल कर जिंदा जलाने का प्रयास किया है। मैनपुरी के इलाके माघव नगर खरपरी थाना कोतवाली में प्रजापति समाज की पीड़िता ने मरने से पहले बताया था कि गांव के दबंग मुरारी बाथम और संजय सिंह ने उनके पूरे परिवार को घर के अंदर बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी थी। जिसके बाद में दबंगों ने केरोसिन डालकर जिंदा जलाने दिया। जहां 3 लोगों की मौके पर मौत हो गयी और परिवार के बचे हुए अन्य सदस्यों की हालत बेहद गंभीर है।

उक्त वारदात की जानकारी तब मिली जब पीड़ित पक्ष की तरफ से जगदीश प्रजापति पुत्र बच्चन लाल ने गांव के दबंग मुरारी बाथम के परिवार से जान का खतरा बताते हुए नामजद मुकदमा दर्ज करवाया था। हालांकि पुलिस की तरफ से अभी तक मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की गयी है। पीड़ित परिवार के मुताबिक घटना का मुख्य आरोपी मुरारी बाथम के परिवार का सदस्य संजय सिंह है, जिसे अब तक पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया है।

मुकदमा दर्ज कराने वाले जगदीश पुत्र बच्चन लाल मरने वाले रामबहदुर के भाई है। जिन्होंने ने बताया 18 जून की देर रात करीब साढ़े 12 बजे मेरे 48 वर्षीय भाई रामबहादुर, उनकी पत्नी 44 वर्षीय सरला देवी, पुत्री संध्या, 15 वर्षीय रोली, 19 वर्षीय शिखा तथा नाती 2 वर्षीय ऋषि के साथ घर में सोये हुए थे। तभी पड़ोस के रहने वाला मुरारी आया और कमरे के दरवाजों को बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी। इसके बाद उसने पूरे घर में बाहर से मिट्टी का तेल डालकर जान से मारने के लिए आग लगा दी और वहां से फरार हो गया।

आग की लपटें देखकर जब चीख-पुकार लगायी गयी तो जगदीश और उनका परिवार बाहर निकलकर आया। जब उन्होंने कुंडी खोलकर देखा तो उनके भाई रामबहादुर, भाई की पत्नी सरला देवी, उनकी पुत्री संध्या, रोली, सिखा सहित नाती ऋषि बुरी तरह जल चुके थे।ग्रामीणों के साथ मिलकर उन्हें जिला अस्पताल मैनपुरी ले जाया गया। जहां पीड़ितों की हालत बहुत गंभीर देख कर डॉक्टरों ने उन्हें पीजीआई सैफई रिफर कर दिया था। इस दौरान रास्ते में 2 साल के ऋषि की मौत हो गयी उसके बाद इलाज के दौरान 22 जून को रामबहादुर और उनकी पत्नी सरला की भी मौत हो गयी। साथ ही जले हुए तीन अन्य परिजनों (संध्या, शिखा और पुत्री रोली) की भी हालत बहुत गंभीर है।

पीड़ित पक्ष के मुताबिक रामबहादुर और हत्यारोपी परिवार के बीच इसी साल होली में झगड़ा हुआ था। जहां मुरारी बाथम ने जान से मरने की धमकी दी थी। जिसके बाद दोनों परिवारों के बीच बोलचाल भी बंद हो गया था। वारदात में मृत रामबहादुर के भाई जगदीश ने बताया कि मुरारी ने दी हुई धमकी को अब अंजाम दिया है।

 

 

 

 

Related posts

Leave a Comment

Share
Share