You are here

अब अनुप्रिया के विधायक चौधरी अमर सिंह ने योगी सरकार को चेताया, बोले 2019 में दलित-पिछड़े सिखाएंगे सबक

लखनऊ, नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत) 

भारतीय जनता पार्टी की सरकार द्वारा केन्द्र व उत्तर प्रदेश में खामोशी के साथ खत्म होते आरक्षण, ट्रांसफर-पोस्टिंग से लेकर विश्वविद्यालयों में हो रही जातिवादी नियुक्तियों, सरकार से लेकर संगठन में पिछड़ी जाति के लोगों की उपेक्षा व दलित-पिछड़ों के उत्पीड़न व हत्याओं से पूरे प्रदेश के जागरूक दलित-पिछड़े वर्ग में गुस्सा पनप रहा है।

सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार में दलित-पिछड़ों की हिस्सेदारी को लेकर हर रोज आ रही खबरों के बाद लोगों ने अब जाति के नेताओं से सवाल करना शुरू कर दिया है। फेसबुक से लेकर व्हाट्सअप ग्रुप में भी युवाओं में बीजेपी सरकार में कुर्मी समाज सहित किसी भी पिछड़े समाज को हिस्सेदारी ना मिलने का आक्रोश साफ देखा जा रहा है।

ऐसी स्थिति में अपनी पार्टीगत मजबूरी से परे जाकर जनता के बीच रहने वाले वास्तविक जन प्रतिनिधि दवाब महसूस कर रहे हैं, फिर चाहे वो बीजेपी के विधायक, सांसद हों या बीजेपी की सहयोगी अपना दल एस और भारतीय समाज पार्टी के विधायक या मंत्री हों।

अब चौधरी अमर सिंह ने उठाए योगी सरकार पर सवाल- 

अब पार्टी के तेजतर्रार माने जाने वाले व सिद्धार्थनगर जिले की शोहतरगढ़ विधानसभा से पिछड़ो व दलितों की आवाज उठाने वाले विधायक चौधरी अमर सिंह ने अपनी पार्टी के नेतृ्त्व पर तो सवाल नहीं उठाए लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार पर सवाल हीं नहीं जबरदस्त हमला बोला है।

विधायक अमर सिह ने कहा कि शायद मेरी आवाज इसलिए नहीं सुनी जाति की मैं सिद्धार्थनगर से पिछड़ी जाति का एक मात्र जनप्रतिनिधि हूं, इतना ही नहीं उन्होंने सरकार पर पिछड़ों की उपेक्षा का आरोप भी लगाया।

दरअसल सिद्धार्थनगर में आज (गुरुवार) को नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना का कार्यक्रम था, लेकिन सरकार में सहयोगी होने के बाद भी कार्यक्रम के बारे में ना तो विधायक जी को कोई सूचना दी गई थी ना ही विज्ञापन से लेकर बैनर में कहीं उनका नाम दिया गया था। उपेक्षा से आहत विधायक चौधरी अमर सिंह ने शांत बैठने के बजाए विरोध का रास्ता चुना।

भ्रष्टाचार पर भी उठाए सवाल- 

शोहरतगढ़ बढ़नी नगर पंचायत में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए विधायक ने कहा कि इस नगर पंचायत में ठेके बिना टेंडर प्रक्रिया के ही भरे जा रहे हैं। बिना बोर्ड बैठक के कार्ययोजना बनाकर लूट-खसोट की जा रही है। पूरे जिले के सामंतवादी नेता उनको पचा नहीं पा रहे हैं। शिकायत करने के बाद भी उनकी सुनवाई नहीं की जा रही है।

2019 में प्रचंड बहुमत के बजाए खंड-खंड हो जाएगा- 

पिछड़े व दलित समाज के लोगों ने भारतीय जनता पार्टी को सबका साथ सबका विकास के आधार पर वोट दिया था लेकिन आज सरकार पूरी तरह सामंतवादियों के चंगुल में है। अगर दलितों-पिछड़ों की ऐसे ही उपेक्षा की गई तो ध्यान रखिए 2019 में प्रचंड बहुमत के स्थान पर खंड-खंड बहुमत हो जाएगा।

इतना ही नहीं विधायक ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि लगता है कि सरकार को अब पिछड़ों की जरूरत नहीं रह गई है अगर दलितों-पिछड़ों की ऐसे ही उपेक्षा की जाती रही तो यकीन मानिए 2019 में यही समाज इन लोगों को सबक सिखा देगा।

पहले नाराज हुए झ डॉ. आर के वर्मा- 

अपना दल के संस्थापक डॉ. सोनेलाल पटेल के जन्मदिन समारोह के अवसर पर लखनऊ में अपना दल एस द्वारा आयोजित कार्यक्रम जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान शामिल हुए थे।

इसे भी पढ़ें- अपना दल (S) में बड़ी दरार के संकेत, अनुप्रिया पटेल के शक्ति प्रदर्शन में नहीं पहुंचे विधायक आर के वर्मा

उसमें अपना दल एस के सबसे वरिष्ठ विधायक डॉ. आर के वर्मा ने शामिल ना होकर संदेश दिया था कि प्रतापगढ़ में बीजेपी मंत्री द्वारा किए जा रहे कुर्मी समाज के उत्पीड़न पर कुछ ना बोलकर मुख्यमंत्री की तारीफ करने से स्पष्ट है कि अनुप्रिया जी को अब समाज के दुख-दर्द तकलीफ से कोई वास्ता नहीं रह गया है।

Related posts

Share
Share