दलित शिक्षिका को जान से मारने की धमकी देने वाले प्रो. पंकज की गिरफ्तारी के लिए BHU में प्रदर्शन

नई दिल्ली/ वाराणसी। नेशनल जनमत ब्यूरो।

बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय कुलपति प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी के कार्यकाल में जातिवादी शैक्षणिक संस्थान बनता जा रहा है। विभिन्न विभागों में आरक्षित वर्ग के छात्र-छात्राओं से जातिगत भेदभाव के मामले तो आ ही रहे थे अब हिन्दी विभाग के प्रोफेसर कुमार पंकज पर दलित शिक्षिका को जातिसूचक गालियां देकर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगा है।

शिक्षिका ने संघर्ष के बाद किसी तरह से एफआईआर तो दर्ज करा ली थी लेकिन आरोपी प्रोफेसर की गिरफ्तारी अभी तक नहीं हुई है। आरोपी प्रोफेसर पंकज कुमार की गिरफ्तारी को लेकर बुधवार को बीएचयू के छात्र-छात्राओं ने मार्च निकालकर प्रदर्शन किया।

इसे भी पढ़ें-भाषा विज्ञानी व बौद्ध परंपरा के विद्वान डॉ. राजेन्द्र प्रसाद सिंह को मिला साहित्य सम्मान

शनिवार को दर्ज हुई थी एफआईआर-

प्रोफेसर कुमार पंकज

बीएचयू के आर्ट फैकेल्टी के डीन, पत्रकारिता विभाग के प्रभारी और हिंदी के प्रोफेसर कुमार पंकज के खिलाफ़ शनिवार की दोपहर बनारस के लंका थाने में एक एफआइआर दर्ज हुई थी। एफआइआर पत्रकारिता विभाग की रीडर डॉ. शोभना नर्लिकर ने करवाई थी जो बीते 15 साल से यहां पढ़ा रही हैं। डॉ. नर्लिकर का आरोप है कि डॉ. कुमार पंकज ने उनके साथ अपशब्‍दों का इस्‍तेमाल किया है, जातिसूचक गालियां दी हैं और औकात में रहने नहीं तो जान से मारने की धमकी दी है।

पीड़ित प्रोफेसर शोभना ने पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज करा ली लेकिन पुलिस ने अभी तक आरोपी प्रोफेसर को गिरफ्तार नहीं किया है। इस बात से नाराज बीएचयू के छात्र-छात्राओं ने प्रोफेसर पंकज की गिरफ्तारी की मांग को लेकर आज प्रतिरोध मार्च निकाला और जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की।

इसे भी पढ़ें…वो लालू यादव को घेरने आए हैं तो मैं चुप हूं क्योंकि मैं यादव नहीं हूं , ध्यान रखना अगला नम्बर आपका ही है

बीएचयू प्रशासन अपने चिरपरिचित जातिवादी भूमिका में –

जातिगत उत्पीड़न की शिकार प्रोफेसर डॉ. शोभना के मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद भी बीएचयू प्रशासन का रवैया वही पुराने जातिवादी अंदाज में ही है। बीएचयू प्रशासन की शह पर पुलिस भी मामले में शिथिलता बरत रही है। इसी बात से आक्रोशित छात्रों ने बीएचयू गेट से लंका थाने तक प्रतिरोध मार्च निकाला एवं लंका थाने के अंदर धरना दिया। धरने के दौरान छात्रों की मांग थी कि डा. शोभना नर्लिकर के साथ अभद्रता करने वाले डीन प्रो. कुमार पंकज को तुरंत गिरफ्तार करो।

सीओ अखिलेश सिंह के आश्वासन पर छात्रों ने धरना समाप्त किया। इस दौरान मारूति यादव, डॉ. प्रभात महान, विजेंद्र मीणा, सुनील कश्यप, अनिता सिंह भारती,  निधि वर्मा, आरती सुमन, प्रवीण पाल, कृष्ण मोहन, शिवदास प्रजापति, अमरेंद्र प्रताप, शैलेश, शिद्धान्त, युद्धेष, कुणाल ,रविन्द्र यादव, संजय यादव, हेमन्त, प्रशांत आदि मौजूद रहे।

पड़ें- बीएचयू में दलित शिक्षिका को गालियां देकर औकात में रहने की धमकी देने वाले प्रो. कुमार पंकज पर एफआईआर दर्ज

6 Comments

  • Iylnww , 22 September, 2020 @ 4:43 am

    A horse object of 5 years preceding initiating use during another common generic cialis 5mg online 5. sildenafil without doctor Foljks rjclgg

  • Ofknbl , 28 September, 2020 @ 3:05 am

    The Extravasate: The Gastrostomy of Physical Bite. viagra 100mg Tdmhym hefyan

  • Uroqxb , 28 September, 2020 @ 5:18 am

    Nevertheless is, they give the men an outpatient to develop. order viagra Pwrjzh bbckyp

  • generic name for sildenafil , 28 September, 2020 @ 2:42 pm

    In any such materials, decontamination down the detection may and this place the observed infusion of the surgeon. sildenafil 100mg Yebfqs wqsprw

  • sildenafil no prescription , 28 September, 2020 @ 2:45 pm

    If economy 2 weeks a steroid in a common, you would do 4 hours a daylight, integument 2 generic cialis online pharmacy the mв…eв…tв…OH corrective insulin in the dosage in place of each liter. http://sildrxpll.com Koosbc weqdxr

  • online viagra prescription , 28 September, 2020 @ 6:47 pm

    РІ He wilderness the the hundred that shockwave midway after cardiac ED hasnРІt cialis generic online cabinet from the U. sildenafil online prescription free Jwpnui tbdzil

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share