नोटबंदी की ‘जयंती’ 8 नवंबर पर विपक्ष मनाएगा काला दिवस, बिहार में विरोध में रैली करेंगे लालू यादव

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

विपक्ष ने नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर आठ नवंबर को ‘काला दिवस’ मनाने की घोषणा की है। विपक्ष का दावा है कि नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था और नौकरियों को नुकसान पहुंचा है।

विपक्षी दलों ने नोटबंदी को सदी का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए इसे तानाशाही पूर्ण फैसला करार दिया। कांग्रेस की अगुवाई में 18 विपक्षी दलों ने नोटबंदी के फैसले के विरोध में प्रदर्शन करने की घोषणा की है.

8 नवंबर को ही पीएम ने की थी नोटबंदी की घोषणा- 

पिछले साल 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1000 रुपये और 500 रुपये के नोटों को प्रचलन से बंद किये जाने की घोषणा की थी. प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद पूरा देश सड़कों पर आ गया और लोगों को लाइनों में घंटों खड़े रहने के लिए मजबूर होना पड़ा.

नोटबंदी के कारण सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 120 लोग मारे गये जबकि अनाधिकारिक आंकड़ों के अनुसार इनकी संख्या 300-400 है. इनमें लाइन में खड़े होने के दौरान दिल का दौरा पड़ने से जान गंवाने वाले व्यक्ति भी शामिल हैं.

प्रेस कांफ्रेंस में विपक्ष एकजुट था- 

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के साथ संवाददाता सम्मेलन में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओब्रायन और जेडीयू नेता शरद यादव भी मौजूद थे। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि विपक्षी नेताओं की बैठक में तय किया गया कि आठ नवंबर को सभी विपक्षी दल अपनी-अपनी तरह से काला दिवस मनाएंगे।

उन्होंने कहा सरकार ने काला धन, जाली मुद्रा और आतंकवादियों के वित्त पोषण पर रोक जैसे जिन उद्देश्यों के लिए नोटबंदी का फैसला किया था, उनमें से कोई भी मकसद पूरा नहीं हुआ क्योंकि 99 प्रतिशत मुद्रा तो वापस आ गयी. शेष मुद्रा सहकारी बैंकों और पड़ोस के देशों के बैंक में जमा कराई गयी है.

नोटबंदी और जीएसटी के विरोध में एकजुट होने की अपील- 

पटना स्थित आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए लालू यादव ने कहा कि नोटबंदी की वजह से सैकड़ों लोगों की मौत हो गई और अभी भी बहुत लोगों को दुर्गति झेलनी पड़ रही है।

उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू किए जाने के कारण बाजार प्रभावित हुआ है और व्यापार चौपट हो गया है. लालू ने नोटबंदी और जीएसटी के कारण देश की अर्थव्यवस्था के चौपट होने का आरोप लगाते हुए कहा कि मंहगाई बढ़ गयी है और चारों तरफ तबाही है।

उन्होंने कांग्रेस, वामदलों और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी से नोटबंदी और जीएसटी की कथित विफलता के विरोध में आगामी 8 नवंबर को आंदोलन छेड़ने की अपील करते हुए कहा कि सभी दल अपने अपने राज्यों में रैली करें और धरने पर बैठकर विरोध जताएं।

पत्रकार विनोद वर्मा बोले, मेरे पास छत्तीसगढ़ के मंत्री की SEX CD है इसलिए BJP सरकार मुझे फंसा रही है

अब मोदीराज में हास्य पर भी पहरा, श्याम रंगीला से चैनल ने कहा राहुल की मिमिक्री कर लो मोदी की नहीं

29 अक्टूबर को आयोजित सरदार पटेल जयंती की तैयारियां पूरी, दिल्ली में 19 जगहों पर होगी वाहन व्यवस्था

पढ़िए समग्र विश्लेषण: क्यों राजस्थान में BJP चुनाव आने से पहले ही चुनाव हार गई है ?

तो क्या चुनाव आयोग समेत अन्य संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट करने पर तुली है मोदी सरकार ?

योगी के रामराज में जातिवाद का जहर, कूड़े का टोकरा छू जाने पर गर्भवती दलित महिला की हत्या

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share