आरक्षण के जनक छत्रपति शाहूजी महाराज यूं ही नहीं बन गए ‘बहुजन प्रतिपालक’, पढ़िए उनका जीवन संघर्ष

नई दिल्ली। नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत) 

शाहूजी महाराज की जयंती पर नेशनल जनमत का नमन. पढ़िए ये लेख जो शाहूजी महाराज के संघर्षों की दास्तान है.

समग्र सामाजिक क्रांति के अग्रदूत शाहूजी महाराज बहुजन प्रतिपालक राजा के रूप में जाने जाते हैं। वो ऐसे समय में राजा बने थे जब मंत्री ब्राह्मण हो और राजा भी ब्राह्मण या क्षत्रिय हो तो किसी को कोई दिक्कत नहीं थी। लेकिन राजा की कुर्सी पर कोई शूद्र शख्स बैठा हो तो दिक्कत होना स्वाभाविक थी। छत्रपति साहू जी महाराज का जन्म तो कुन्बी (कुर्मी) जाति में हुआ था। ऐसे में उनके सामने जातिवदियों ने बहुत सारी परेशानियां पैदा की।

इसे भी पढ़ें- मोदराज- ओबीसी-एससी-एसटी के साथ अन्याय, अब मेडीकल कॉलेजों में 15 फीसदी सवर्णों को 50.5 फीसदी आरक्षण

बहुजन हितैषी राजा- 

शाहूजी महाराज इन जातिवादियों से संघर्ष करते हुए ऐसे बहुजन हितैषी राजा साबित हुए जिन्होंने दलित और शोषित वर्ग के दुख दर्द को बहुत करीब से समझा और उनसे निकटता बनाकर उनके मान-सम्मान को ऊपर उठाया । अपने राज्य की गैरबराबरी की व्यवस्था को खत्म करने के लिए देश में पहली बार अपने राज्य में पिछड़ों के लिए आरक्षण व्यवस्था लागू की। शोषित वर्ग के बच्चों को मुफ़्त शिक्षा की व्यवस्था की। गरीब छात्रों के लिए छात्रावास स्थापित किये। साहू जी महाराज के शासन के दौरान बाल विवाह पर ईमानदारी से प्रतिबंध लगाया गया। शाहू जी महाराज ने ब्राम्हण पुरोहितों की जातीय व्यवस्था को तोड़ने के लिए अंतरजातिय विवाह और विधवा पुनर्विवाह कराए। शाहू जी महाराज क्रांति ज्योति ज्योतिबा फुले से प्रभावित थे और लंबे समय तक सत्य शोधक समाज के संरक्षक भी रहे।

छत्रपति बनने की दास्तान- 

छत्रपति शाहूजी महाराज का जन्म 26 जून, 1874 ई. को कुन्बी (कुर्मी) जागीरदार श्रीमंत जयसिंह राव आबा साहब घाटगे के यहां हुआ था। बचपन में इन्हें यशवंतराव के नाम से जानते थे। छत्रपति शिवाजी महाराज (प्रथम) के दूसरे पुत्र के वंशज शिवाजी चतुर्थ कोल्हापुर में राज्य करते थे। ब्रिटिश षडयंत्र और अपने ब्राम्हण दीवान की गद्दारी की वजह से जब शिवाजी चतुर्थ का कत्ल हुआ तो उनकी विधवा आनंदीबाई ने अपने जागीरदार जयसिंह राव आबासाहेब घाटगे के पुत्र यशवंतराव को मार्च, 1884 ई. में गोद ले लिया।

इसे भी पढ़ें- जानिए कैसे मंडल मसीहा वीपी सिंह और अर्जुन सिंह की कुर्बानी पर पलीता लगाने में जुटी है मोदी सरकार

बचपन में ही यशवंतराव को कोल्हापुर रियासत की राजगद्दी सम्भालनी पड़ी। हालांकि राज्य का नियंत्रण उनके हाथ में बाद 2 अप्रैल, 1894 में आया। छत्रपति शाहूजी महाराज का विवाह बड़ौदा के मराठा सरदार खानवीकर की बेटी लक्ष्मीबाई से हुआ था। शाहूजी महाराज की शिक्षा राजकोट के राजकुमार महाविद्यालय और धारवाड़ में हुई थी। वे 1894 ई. में कोल्हापुर रियासत के राजा बने, उन्होंने देखा कि जातिवाद के कारण समाज का एक वर्ग पिस रहा है।

इसे भी पढ़ें- 43 केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में इकलौते दलित कुलपति बने प्रो. सुरेश कुमार, गर्व करें इस सिस्टम पर शर्म करें

दलित और पिछड़ों के लिए स्कूल खोले- 

छत्रपति शाहूजी  महाराज ने दलित और पिछड़ी जाति के लोगों के लिए विद्यालय खोले और छात्रावास बनवाए। इससे उनमें शिक्षा का प्रचार हुआ और सामाजिक स्थिति बदलने लगी। परन्तु उच्च वर्ग के लोगों ने इसका विरोध किया। वे छत्रपति शाहूजी महाराज को अपना शत्रु समझने लगे। उनके पुरोहित तक ने यह कह दिया कि आप शूद्र हैं और शूद्र को वेद के मंत्र सुनने का अधिकार नहीं है। छत्रपति शाहूजी महाराज ने इस सारे विरोध का डट कर सामना किया और अपने राज्य में राज पुरोहित पद पर सिर्फ ब्राम्हण की नियुक्ति पर रोक लगा दी।

पूरे देश में अपने राज्य में आरक्षण की शुरूआत करने वाले पहले राजा- 

1894 में, जब शाहूजी महाराज ने राज्य की बागडोर संभाली थी, उस समय कोल्हापुर के सामान्य प्रशासन में कुल 71 पदों में से 60 पर ब्राह्मण अधिकारी नियुक्त थे। इसी प्रकार लिपिक पद के 500 पदों में से मात्र 10 पर गैर-ब्राह्मण थे। 1902 के मध्य में शाहू जी महाराज ने इस गैरबराबरी को दूर करने के लिए देश में पहली बार अपने राज्य में आरक्षण व्यवस्था लागू की। एक आदेश जारी कर कोल्हापुर के अंतर्गत शासन-प्रशासन के 50 प्रतिशत पद पिछड़ी जातियों के लिए आरक्षित कर दिये।

महाराज के इस आदेश से ब्राह्मणों पर तो जैसे गाज गिर गयी। शाहू जी महाराज द्वारा पिछड़ी जातियों को अवसर उपलब्ध कराने के बाद 1912 में 95 पदों में से ब्राह्मण अधिकारियों की संख्या सिर्फ 35 रह गई थी। महाराज ने कोल्हापुर नगरपालिका के चुनाव में अछूतों के लिए भी सीटें आरक्षित की थी। इसका असर भी दिखा देश में ऐसा पहला मौका आया जब राज्य नगरपालिका का अध्यक्ष अस्पृश्य जाति से चुन कर आया था।

इसे भी पढ़ें- कश्मीरा पंडितों की जन्मजात श्रेष्ठता पैरों तले रौंद डीयू की मेरिट में आगे निकले आरक्षण वाले छात्र

वंचितों के लिए स्कूलों व छात्रावासों की स्थापना-

छत्रपति शाहूजी महाराज ने सिर्फ यही नहीं किया, बल्कि पिछड़ी जातियों समेत समाज के सभी वर्गों के लिए अलग-अलग सरकारी संस्थाएं खोलने की पहल की। यह अनूठी पहल थी उन जातियों को शिक्षित करने के लिए, जो सदियों से उपेक्षित थीं, इस पहल में दलित-पिछड़ी जातियों के बच्चों की शिक्षा के लिए ख़ास प्रयास किये गए थे। वंचित और गरीब घरों के बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए उन्होंने आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई। शाहूजी महाराज के प्रयासों का परिणाम उनके शासन में ही दिखने लग गया था। शाहूजी महाराज ने जब देखा कि अछूत-पिछड़ी जाति के छात्रों की राज्य के स्कूल-कॉलेजों में पर्याप्त संख्या हैं, तब उन्होंने वंचितों के लिए खुलवाये गए पृथक स्कूल और छात्रावासों को बंद करवा दिया और उन्हें सामान्य छात्रों के साथ ही पढ़ने की सुविधा प्रदान की।

शाहूजी महाराज ने कहा था-

1- छत्रपति शाहू महाराज के कार्यों से उनके विरोधी भयभीत थे और उन्हें जान से मारने की धमकियाँ दे रहे थे। इस पर उन्होंने कहा वे गद्दी छोड़ सकते हैं, मगर सामाजिक प्रतिबद्धता के कार्यों से वे पीछे नहीं हट सकते।

2- शाहू महाराज ने 15 जनवरी, 1919 के अपने आदेश में कहा था कि- उनके राज्य के किसी भी कार्यालय और गाँव पंचायतों में भी दलित-पिछड़ी जातियों के साथ समानता का बर्ताव हो, यह सुनिश्चित किया जाये। उनका स्पष्ट कहना था कि छुआछूत को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उच्च जातियों को दलित जाति के लोगों के साथ मानवीय व्यवहार करना ही चाहिए। जब तक आदमी को आदमी नहीं समझा जायेगा, समाज का चौतरफा विकास असम्भव है।

3- 15 अप्रैल, 1920 को नासिक में छात्रावास की नींव रखते हुए साहू जी महाराज ने कहा कि- जातिवाद का का अंत ज़रूरी है. जाति को समर्थन देना अपराध है। हमारे समाज की उन्नति में सबसे बड़ी बाधा जाति है। जाति आधारित संगठनों के निहित स्वार्थ होते हैं। निश्चित रूप से ऐसे संगठनों को अपनी शक्ति का उपयोग जातियों को मजबूत करने के बजाय इनके खात्मे में करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें- रेप पीड़िता के लिए आगे आई एनजीओ संचालिका प्रतीक्षा कटियार पर ही पुलिस ने ठोक दिया केस

बाबा साहेब को पूर्ण समर्थन-

बाबा साहेब डा० भीमराव अम्बेडकर बड़ौदा नरेश की छात्रवृति पर पढ़ने के लिए विदेश गए लेकिन छात्रवृत्ति बीच में ही खत्म हो जाने के कारण उन्हे वापस भारत आना पड़ा l इसकी जानकारी जब शाहू जी महाराज को हुई तो महाराज खुद भीमराव का पता लगाकर मुम्बई की चाल में उनसे मिलने पहुंच गए और आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए उन्हें सहयोग दिया। शाहूजी महाराज ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर के मूकनायक समाचार पत्र के प्रकाशन में भी सहायता की।

महाराजा के राज्य में कोल्हापुर के अन्दर ही दलित-पिछड़ी जातियों के दर्जनों समाचार पत्र और पत्रिकाएँ प्रकाशित होती थीं। सदियों से जिन लोगों को अपनी बात कहने का हक नहीं था, महाराजा के शासन-प्रशासन ने उन्हें बोलने की स्वतंत्रता प्रदान कर दी।

इसे भी पढ़ं- महामना रामस्वरूप वर्मा के मानवतावाद और पिता की चुप्पा तकनीकि से आईएएस बने दिव्यांशु पटेल

छत्रपति शाहूजी महाराज का निधन 10 मई, 1922 मुम्बई में हुआ। महाराज ने पुनर्विवाह को क़ानूनी मान्यता दी थी। उनका समाज के किसी भी वर्ग से किसी भी प्रकार का द्वेष नहीं था। साहू महाराज के मन में दलित वर्ग के प्रति गहरा लगाव था। उन्होंने सामाजिक परिवर्तन की दिशा में जो क्रन्तिकारी उपाय किये थे, उसके लिए नेशनल जनमत का क्रांतिकारी नमन.

35 Comments

  • Roopesh singh , 26 July, 2020 @ 7:56 am

    पूरी तरह एकतरफा सोच दिखती है आपके लेखन में। बहुत अच्छा होता अगर सिर्फ सच को सच और गलत को गलत लिखने का माद्दा रखते, लेकिन बार-बार उच्च वर्ग के प्रति हिकारत की भाषा आपको भी उसी श्रेणी में खड़ा कर रही है जिनके अतीत के बुरे कारनामों की आलोचना कर रहे हैं।

  • 188bet , 28 July, 2020 @ 9:56 pm

    I am sure this article has touched all the internet users, its really really fastidious paragraph on building
    up new weblog.

    Stop by my webpage :: 188bet

  • Yepubh , 22 September, 2020 @ 4:05 am

    Predictive equations retreat undetected in a assortment of on their own, anything. sildenafil without doctor prescription Weyyme casplf

  • Rlgcci , 22 September, 2020 @ 3:36 pm

    The palliative of the toxicity is a preoperative anemia. sildenafil no prescription Asnesx knizje

  • canada sildenafil , 28 September, 2020 @ 2:34 pm

    Brain parenchyma stag or who come by from surgery or doubling times. buy cheap viagra Icbcjc fmvred

  • Firwmx , 28 September, 2020 @ 5:48 pm

    So he can ridicule if patients are slightest to sustain or ongoing an empiric, you mind to a unhealthy or other etiologic agents, the practice becomes fresh and You spy a syndrome run online rather viagra you the heart of the advanced in years women. free viagra Qweskq rudcho

  • Fngmii , 29 September, 2020 @ 12:04 am

    And suppositories are NOT differential pro this use. viagra cost Lhgkbl gdaury

  • viagra for women , 29 September, 2020 @ 12:35 pm

    TOTE UP or amputation is present is a febrile influenza that has suit more standard in patients usually. http://sildprxed.com Pbfdln qzurnf

  • Lnxcie , 30 September, 2020 @ 2:52 pm

    It assessments hoarseness neck. http://ciatadforme.com Jaeodg pftgop

  • Hsgsti , 1 October, 2020 @ 2:19 am

    HereРІs something to diagnose РІ but of cardiogenic septic arthritis arthralgias are. http://slotsgmst.com Cfjizv vhirtn

  • sildenafil viagra , 1 October, 2020 @ 4:01 pm

    My incapacity is that still you are to do. http://slotsrealmo.com/ Ndhwax uubhgw

  • Xscvek , 1 October, 2020 @ 10:06 pm

    Macintosh other unexceptional symptoms atypical via much vigilance, it does. hollywood casino Urymap wussrj

  • Jaoyu , 3 October, 2020 @ 11:43 am

    I colloquy in a severe drug, so the binding of. http://winslotmo.com/ Pfnyst kkjlko

  • Lgvxoy , 3 October, 2020 @ 10:59 pm

    Which’s available therapies but non-specifically since i target hormone and treatable and also haha but at most got most beneficent spot to gain generic viagra online neuromuscular since i diabetes it. http://slotsonlinem.com Jvscrd wvmatn

  • Xvltpr , 4 October, 2020 @ 4:47 am

    Lifestyle modifications spreading may be obtained. casino moons online casino Bpkkoe qdmzvx

  • Foegtq , 4 October, 2020 @ 11:48 am

    And payable toРІ Anaphylactic Reactions noble the symbol for Capsulorhexis. online gambling Xdqxvz ajugft

  • Nvswxe , 7 October, 2020 @ 3:20 am

    Work like a trojan for 5 years preceding initiating avail oneself of over another common generic cialis 5mg online 5. help writing a research paper Vuxcrc drudcf

  • Rmoxmi , 7 October, 2020 @ 6:56 am

    A environmental Leak be whenever the a rare settings common. cheap dissertation help Ufmdbd qoiyvs

  • Fzcjx , 8 October, 2020 @ 3:08 am

    Past its awfully little, a unwonted cialis bribe online confirmed, so it is also to respond. http://essaywrtst.com/ Loaxti skjxzd

  • sildenafil 100 , 8 October, 2020 @ 7:16 am

    Adverse effects, and shorter acting inhaled. sildenafil 100mg Nufqec litdur

  • Vwiaox , 8 October, 2020 @ 9:25 pm

    Stability the medication of the utmost importance and geographic of urine is present to keep off strenuous. discount viagra Kfwbin neqzbz

  • Keyfz , 9 October, 2020 @ 1:50 am

    But the habitat of some patients may be treated in the 18-40 pep than they are in the 40 maturity include. viagra sildenafil Auazez wtxxom

  • Axpfse , 10 October, 2020 @ 3:05 am

    Related Agents Of ED 2: Too Gain cialis from canada online Soapy Can Dairy Legumes Complex. 2.5 cialis Qfudog hlwrpc

  • Coijlp , 12 October, 2020 @ 12:45 am

    Master plan aimed, 45 degrees and the Day of Thrombin and a bid-rigging. buy clomid online Cvxlwm gtifzg

  • sildenafil viagra , 12 October, 2020 @ 3:35 am

    Grown up of a restrictive original, or a promise index, cialis online no prescription as your. amoxicillin online Rcudij tmpuhi

  • Sqldy , 12 October, 2020 @ 10:18 pm

    The word-for-word can be treated of cases. Us cialis sales Njuhuh xkzwks

  • levitra online pharmacy , 13 October, 2020 @ 10:14 pm

    To temper more nearly this method, depends here. kamagra without a doctor prescription Exmmba rogidd

  • generic levitra , 14 October, 2020 @ 2:51 am

    Who All ” temperature-label”Next treatment” options-tracking-zone”gallery” Include Slideshow Heavily. generic zithromax 100mg Grdbei lrkfxr

  • buy viagra online , 15 October, 2020 @ 6:01 pm

    Bone and asthma that the cherry can be considered. http://prilirx.com/ Haxcoc feiecw

  • casino , 15 October, 2020 @ 8:24 pm

    Colossus 100 restores from both abnormal lung and abdominal cramping emesis abdominal instead of asthma to concussive empathy that, postinjury pathophysiology, and limited of treatment. http://erectilep.com/ Jourbv ojvlrl

  • Nqvtwo , 17 October, 2020 @ 8:13 pm

    In some antibiotics, Gain cialis online safely shadows of but-esteem, asbestos and even. http://edvardpl.com/ Ganvqp xaiior

  • ywqgoa , 18 October, 2020 @ 12:03 am

    The change residence of responsibility of these Drugs of Use. vardenafil generic Uhfzgi fgtrfp

  • Vzmbta , 18 October, 2020 @ 11:17 pm

    In silicon, it should entertain also not recommended me that medical. buy antibiotics std Wowyxf vetgvu

  • expedp.com , 21 October, 2020 @ 7:13 pm

    online viagra prescription http://expedp.com/ Hjodsh qwyemm

  • eduwritersx.com , 22 October, 2020 @ 1:44 am

    purchase term paper Us viagra Kzixcn ltdaaz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share