जब विदेशी मीडिया ने भीम आर्मी से पूछा, इंडियन मीडिया कहां है ?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत 

जंतर-मंतर के प्रदर्शन को दिल्ली में साल का सबसे बड़ा प्रदर्शन कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा. सुबह से लोग नीला झंडा लगाए संसद के बिल्कुल पास जंतर मंतर पर जुटने लगे. मानों संसद पर कब्जा करने की तैयारी में हों. दोपहर होते-होते हजारों की संख्या में भीम सैनिक टोपी लगाए जंतर-मंतर पहुंच गए. उनमें गजब का उत्साह था. लेकिन भारतीय मीडिया को ये सब नजर नहीं आया. हर कोई ये सवाल करता रहा इंडियन मीडिया कहां है?

अमेरिका, यूरोप, जापान के मीडियाकर्मी थे, भारतीय नदारद- 

कार्यक्रम की विशालता को समझते हुए जंतर-मंतर पर विदेशी मीडिया कर्मी आने लगे. जिनमें अमेरिकी, यूरोपीय, जापानी, आस्ट्रेलियाई के अलावा कनाडा और रुस के मीडियाकर्मी भी थे. लेकिन इस भीड़ में भारतीय मीडिया नदारद थी. हो भी क्यों ना उनकी जन्मजात श्रेष्ठता को खुलेआम चुनौती जो दी जा रही थी. हैरत तब हुई जब विदेशी मीडिया ने भारतीय मीडिया की अनुपस्थिति पर सवाल उठाते हुए एक भीम सैनिक से पूछ लिया where is indian media ?

सोशल मीडिया पर भी उठे सवाल मीडिया कहां है? 

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल फेसबुक पर मीडिया की गैरहाजिरी को लेकर लिखते हैं कि  Where is Indian Media? भारतीय मीडिया कहाँ है? वो लिखते हैं आयोजक कार्यक्रम में व्यस्त थे. कारण बता नहीं पाए. लेकिन वह सवाल अब भी हवा में टँगा है- Where is Indian Media?भारतीय मीडिया कहाँ है?

32 Comments

  • Navneet K PhuleS , 22 May, 2017 @ 7:53 am

    हम तो प्रोग्रेसिव पॉडे जी के फैन है । हमेशा पॉडे जी के साथ खडे रहे डटकर । लेकिन जब हमारे साथ खडा होने की बारी आई तो पॉडे जी बैठ गए !!!! पतानही मॅदिर मे बैठे है या मयखाने मे !!!!

  • Jaivir Singh chauhan , 22 May, 2017 @ 7:55 am

    दिल्ली में दलितों की भीड़ देख मीडिया और संघी सरकार की पेशाब निकल गई। चार दिन पहले एक चैनल में काम करने वाला तोपचंद बोल रहा था ,हमें सीरियल भी दिखाना होता है,सास बहु और गृह नक्षत्र भी दिखाना होता है,बड़ी जिम्मेदारी होती है न्यूज़ चैनलों की। वही दिखाओं तुम लोग। अभी कपिल मिश्रा पहुँच जाये जंतर मंतर पीछे एक दर्जन कैमरा भी पहुँच जायेगा।

    दोगले,झूठे और खोखले लोग। हमें तुम्हारी जरूरत भी नहीं है। विदेशी मीडिया और यहाँ के निष्पक्ष पत्रकारों के वेब पोर्टल हमारा काम कर देते हैं।

  • संतोष बौद्ध , 22 May, 2017 @ 8:43 am

    चन्द मीडिया को अलग करने के बाद ।
    दुनिया की सभी मिडिया में भारतीय मीडिया
    कमीनापन , भ्रष्टाचार, जातिवादी , में लिप्त
    नम्बर एक के स्थान पर है ।
    जय भीम जय भारत
    संतोष बौद्ध ( संस्थापक )
    भीम फाईटरस इन्टरनेशनल
    सामाजिक संगठन कानपुर
    9415079869

    • नीरज यादव , 22 May, 2017 @ 1:31 pm

      इसी तरह संघर्ष कीजिए, भांड मीडिया से उम्मीद मत रखिये। अगर संघर्ष नही किये तो ये भारत को फिर मध्ययुग में पहुंच देंगे।मेरी शुभकामनाएं आप सभी भाइयों के साथ है।

      • bijendra singh , 22 May, 2017 @ 2:28 pm

        Bc/sc/st/and all dalit majdooro ek hona hee chaiya orin.rifuojio khoo mar bagan chaiya danibad

    • L.G.Chauhan , 27 May, 2017 @ 11:57 pm

      डॉ, बाबा साहेब आंबेडकर ” ऐजनट ” शब्द का ही इस्तेमाल किया कहते थे ! ऐजनट का मतलब दलाल होता है,और गुजराती में “भडवा”होता है, जो चंद पैसों के लिए निरंतर ईमानदारी को बेचता रहते हैं ,सच को दबाने की कोशिश कर रहे हैं, मगर सचाई छुप नहीं शकती एसी दलाल भारतीय मीडिया के दलालो से !!!!!!! 24/7 भले घंटा बजाते रहे:

  • Msdhawa , 22 May, 2017 @ 9:16 am

    Indian media should have to be there. There absence shows partial behave . It also reflect doubt on the sanctity of indian media . They are to reveal the Facts to the society. It is sad , indian society still have strong root of hatred in the name of castes .

  • जगदीस , 22 May, 2017 @ 9:46 am

    जब जब मूलनीवाशीयौ पर संकट आया मनूवादी मीडीया बीली की तराह आँख मिचोली ही खेलता है

  • दीपक , 22 May, 2017 @ 9:50 am

    आज कल हमारे योगी जी cm बन गए है ।उनका सुसु कैसा है पोटी कैसे किये । पानी कोन से लौटे से पिए धोए कैसे ये सब मे बहुत व्यस्त आज के लोग ये ही सब देख रहे है । और कई बार हमारे मीडिया ने तो पाकिस्तान पे स्टूडियो से ही बम बारी शुरू कर दी ।बस देखना पसंद कर रहे है आज कल लोग इसी में व्यस्तता थोड़ा ज्यादा है ।

  • Ramdas singh , 22 May, 2017 @ 10:27 am

    Jaha modi aur yogi waha par hi media dekhta hai ja fir kejriwal ke khilaf kuch dikhana ho dalal ban chuka hai india ka media

  • Sunil Kumar Jha , 22 May, 2017 @ 11:10 am

    Media bikau h par faith nahi hota tha par ab 100% lagta h bat sahi h main ek Aam public hun main jab bhi news channel dekhta hun bus kewal news reader government ka hi gungan Karta rahta h lagta h aur koi mudda hai hi nahi. Lagta h esi ko ache din kahte hn Ramrajya aa Gaya. Main ye bakwas news dekhna chor Diya. Mujhe Kisi party sse koi Lena Dena nahi.

  • राहुल , 22 May, 2017 @ 1:34 pm

    भारतीय मीडिया बस मोदी जी और योगी जी क्या खाते हैं कैसे हगते हैं कितने बजे हगते , कितने बजे उठते हैं ये सब पता करने में व्यस्त है।। do not disturb..

    • imran , 22 May, 2017 @ 3:03 pm

      hahhaha right bro

  • Daljeet , 22 May, 2017 @ 3:28 pm

    I faith Ke m Indian ho par our media ka naam Aata h sharm s sir jhuk jaata h media mean bJP

  • Ravish Qureshi , 22 May, 2017 @ 3:36 pm

    Bhai mulims or dalit ko ek ho jana chahiye Ye bahut bdi bat hai kai mulims or dalito ko roj mara ja raha hai or pm & cm chup bethe hai

  • दीपक वर्मा , 22 May, 2017 @ 6:05 pm

    बहन जी को तुरंत एक चैनल शुरू कर देना चाहिए क्योंकि मीडिया जिसकी सत्ता उसकी यह इसलिए कह रहा हूं कि अधिकतर पार्टियो के अपने चैनल है और वह वही दिखाते है जो दिखाना चाहते है इसी वजह से 2014 से bjp जीतती आ रही है यह सभी जानते है ।

    • अक्षय , 23 May, 2017 @ 2:55 am

      इन सभीobc/sc/stके नेताओं ने इस पर ध्यान न ही दिया

  • Parag , 22 May, 2017 @ 8:23 pm

    Aaj tak, Sabse Tez… This is the tagline of aaj tak.
    Bharat desh ka sabse slow channel he Aaj tak

    • sourabh singh , 23 May, 2017 @ 6:00 pm

      Bhai ye media bikau hai .ye to modi or yogi ki sunti hai …. kamjor logo ki nhi.

  • Dr Umesh Chandola , 22 May, 2017 @ 9:14 pm

    JAATI DHARM ME NAHI BATENGE MIL JUL KAR SANGHARSH KARENGE ! YE VARG SANGHARSH HAI. Enagrik.com ,JAI BHEEM LAAL SALAAM LEKH

  • manoj nanda , 22 May, 2017 @ 10:20 pm

    आखिर कार भारतीय मिडिया ने हर बार की तरह अपनी औकाद दिखा दी हमे यह उम्मीद ही नही बल्कि ये विश्वास भी था की भारतीय मिडिया इस आयोजन को प्रसारित नही करेगा इस लिए हमारे भीम सेनिको ने सोसल मिडिया का सहारा लिया जो काफी हद तक रंग लाया इस लिए आपसे यही कहना चाहूँगा जब जुल्म और आत्याचार हद से बढ़ जाये और सहनशीलता खत्म हो जाये तब क्रांति की शुरुआत होती है सभी विदेश की मिडिया और सोसल मिडिया को धन्यवाद जय भीम नमो बुद्धाय

  • kanchan kumar paswan , 22 May, 2017 @ 11:11 pm

    Foreign media is batter than INDIAN media.this is historical proved that Indian media is a corrupted abhorrence and basheful shameless.

  • lovelesh ji , 23 May, 2017 @ 10:38 am

    दलितो के साथ ऐसा व्यवहार सम्पूर्ण लोकतन्त्र असली असली हिन्दुओ की हत्या है

  • DR KIRAN PAL SINGH , 23 May, 2017 @ 1:16 pm

    Media always ignored any proigarmme/ agitation/ when conducted by bahujans community because it is a very old habits of media due to under pressure of brahamani, At time of of Baba saheb called it Conspiracy of silence,…………………Jai bhim

  • jp , 23 May, 2017 @ 2:05 pm

    Jald se jald tv Chanel suru kro
    Jay bheem jay bhart

  • kamlesh sadashiv kawle , 23 May, 2017 @ 4:33 pm

    hum sab ne milkar indian news dekhna band karna chaiye aur aaj ke samay ke hisab se social net pe activ rahna chaiye. abhi tak hum tv serial se bor the aur aaz kal news ke bhagwa karan se isleyye tv pe apana kimati samay barbad mat kijiye.

  • parmar kirtikumar , 23 May, 2017 @ 10:10 pm

    Jab take hum jagrut nhi hoge or ek nhi hoge tan take hmare upar htyacar hote rhenge.

  • Jeinendra kumar , 24 May, 2017 @ 2:13 pm

    Maya Bati please start a New channal In TV Because Indian Media is Not fair

  • PRATAP SINGH , 24 May, 2017 @ 3:14 pm

    जब तक 85% नही जागेगे और आगे नही बढेगे,तब तक ऐसा होगा।

  • संदीप ताकसांडे , 26 May, 2017 @ 12:07 am

    मुझे ये लगता हैं की ये सोच सभी दलित भाईको जो खाटीक हो सीपर हो मोची हो बोधं हो मातग हो ये खड़ी लठाई हैं जो चंदु भाई लड रहे हम चंदु भाई के साथ है

  • Chandan kumar , 15 June, 2017 @ 8:48 am

    Ye midea wale to brahmno ke dalal bne hua h
    Bne bhi kyon nhi usi ka to paidaish h
    Ak do midea hmare samaj k h to uska sarkar chlne nhi deta h
    Sbhi obc, sc, st , muslim ko ek ho jana chahiye
    Tbhi in aryo ko des se bahar nikal skte h

  • Jiddi Jeetu , 17 June, 2017 @ 10:55 am

    धरती भी नीली हो गयी,

    जैसे की अम्बर नीला है,

    भीम Army के ख़ातिर,

    अब जंतर मंतर नीला है।

    खुद की बनी मिडिया से,

    फेसबुक ट्विटर नीला है,

    निकल पड़े हैं राष्ट्रवादी,

    कर झंडा लेकर नीला है।

    जातिवादी मानव मन में,

    हमें भाईचारा लाना है,

    भीम आर्मी का मक़सद,

    अत्याचार मिटाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share