4 मंत्री फतेहपुर में मौजूद इसके बाद भी दिलीप पटेल की गोली मारकर हत्या, कुर्मी समाज में आक्रोश

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो।

योगी सरकार में पिछड़े और दलित समुदाय में हो रहे हमलों से कुर्मी समेत पूरे ओबीसी समाज में आक्रोश है. लोंगों का कहना है कि सुशासन के नाम पर जिस सरकार को वोट दिए उसी मे हमारी नहीं सुनी जा रही. इलाहाबाद में अनुज पटेल की हत्या को लेकर आक्रोश अभी थमा भी नहीं था कि उससे सटे फतेहपुर में दिलीप पटेल को गोली मार दी गई.

इसे भी पढ़ें- मोदी विरोध में देशभर में बढ़ा नीतीश का कद, आज चेन्नई में विपक्षी दलों की रैली में होंगे शामिल

बीजेपी के चार मंत्री मौजूद थे फतेहपुर में-

जिस समय दिलीप पटेल की हत्या की गई उस समय फतेहपुर में बीजेपी और अपना दल गठबंधन के चार मंत्री मौजूद थे. मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर फतेहपुर जिले में आयोजित कार्यक्रम में आए थे चारों मंत्री. कार्यक्रम में जिले के मंत्री जय कुमाार पटेल जैकी, स्वामी प्रसाद मौर्य, केन्द्रीय मंत्री निरंजन ज्योति और ऱणवेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ धुन्नी सिंह मौजूद थे. बेखौफ अपराधियो को इस बात का भी भय नहीं रहा.

इसे भी पढ़ें- जिस ट्रंप की जीत के लिए हवन पूजन करते रहे भगवाधारी, उसी ट्रंप ने भारत को गंदा देश कहा

फतेहपुर में पुलिस लाइन स्थित सरकारी अस्पताल के चीफ फार्मासिस्ट एवं पोस्टमार्टम हाउस प्रभारी दिलीप पटेल की शुक्रवार दोपहर एक व्यक्ति ने गोली मारकर हत्या कर दी। घटना उस समय जब वह बाइक से रोज की तरह नऊवाबाग से होकर पोस्टमार्टम हाउस जा रहे थे। तभी बालाजी धर्मकांटा के पास गली में उन पर हमला हुआ. घटना के बाद उन्हें जिला अस्पताल लाया गया. तुरंत उन्हें कानपुर रेफर किया गया था.

इसे भी पढ़ें- व्हाट्सअप पर चल रहे सरदार पटेल स्टूडेंट प्रोग्राम को बड़ी कामयाबी, 3 छात्र आईएएस बने

कैसे हुई घटना-

शहर के हबीबपुर नई तहसील के पीछे रहने वाले दिलीप पटेल (राजा साहब) पुलिस लाइन अस्पताल में चीफ फार्मासिस्ट के पद पर तैनात थे. वह पोस्टमार्टम हाउस प्रभारी भी थे. वह शुक्रवार को दोपहर करीब दो बजे बाइक से रोज की तरह पोस्टमार्टम हाउस जा रहे थे। नऊवाबाग के पहले एक शार्टकट गली हैं जो बालाजी धर्मकांटा के पास से होकर हाईवे पर निकलती है। दिलीप पटेल इसी गली से होकर निकल रहे थे। उन्होंने पुलिस को बताया कि गली के अंदर पहुंचते ही हाईवे के नजदीक पीछे से आए बाइक सवार ने उन पर गोली चला दी। गोली के छर्रे दिलीप पटेल के पीठ के नीचे जाकर धंस गए। इससे वह गिर पड़े। यह देख हमलावर वहां से भाग निकले।

इसे भी पढ़ें- शिवाजी और शाहूजी महाराज की मानस संतान दिव्यांशु पटेल बने आईएएस बोले जय भीम

जानलेवा हमले की सूचना पर पुलिस दौड़ पड़ी। आनन-फानन में एंबुलेंस से उन्हें जिला अस्पताल लाया गया और फिर कानपुर रेफर कर दिया गया। इससे पहले की वह हैलट पहुंचते रास्ते में ही उनकी सांसे थम गई। यह देख परिजन बिलख पड़े। इधर, घटना के बाद मौके पर पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक, सीओ सिटी व शहर कोतवाल ने राजा साहब से हमलावरों के बारे में बातचीत की।

इसे भी पढें- अनुज पटेल की पीट पीटकर हत्या, आरोपी ब्राह्मणों की गिरफ्तारी ना होने से कुर्मी समाज में उबाल

खबर है कि दिलीप पटेल ने पोस्टमार्टम हाउस में चतुर्थ श्रेणी कर्मी से रंजिश होने की बात कही और बताया कि जब गोली लगने के बाद वह बाइक सवार को देखने के लिए घूमे तो उन्हें ऐसा लगा कि शायद चतुर्थ श्रेणी कर्मी है। पुलिस ने तुरंत इस कर्मचारी के घर छापेमारी की तो वह घर में ही मिल गया। पुलिस शंका के आधार पर उसे पकड़कर कोतवाली ले गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share