जेल की सलाखें भी हौसला डिगा नहीं पाईं लालू समर्थकों का, जेपी की तर्ज पर ‘एलपी’ आंदोलन का ऐलान

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

अपने पत्रकारीय दायित्वों के कारण सीधे-सीधे तो वजह नहीं लिख सकता कि आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के प्रति लोगों की दीवानगी क्यों है ? लेकिन सड़क पर उतरे लालू यादव के समर्थकों की भीड़ देखकर आंख भी नहीं बंद कर सकता।

इसलिए बिहार में घटित हो रहे राजनीतिक हालातों को देखते हुए इतना तो कह ही सकता हूं कि लालू प्रसाद यादव जननेता हैं, इसमें कोई दोराय नहीं हैं। सजा होने के बाद भी लालू समर्थकों का उत्साह देखकर इस बात का सौ फीसदी जिम्मेदारी ली जा सकती है कि लालू यादव को सजा होने के बाद भी उनके समर्थकों के बीच उनका कद एक संघर्षशील नेता के रूप में बढ़ गया है।

लालू यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाये जाने के बाद बिहार में सत्ता पक्ष और विपक्ष के एक बाद फिर से तलवारें खिंच गई है। बीजेपी और जेडीयू ने इस फैसले का स्वागत किया है। बिहार के उपमुख्यमंत्री तथा इस मामले के याचिकाकर्ताओं में से एक सुशील कुमार मोदी ने कहा, “सजा सजा होती है, चाहे वह साढ़े तीन साल की हो या सात साल की।

आरजेडी ने बताया विपक्ष की साजिश- 

वहीं आरजेडी ने इस फैसले को सत्तारूढ़ दलों की साजिश बताया है और कहा है कि वे लोग हाईकोर्ट जाएंगे। सजा के बाद लालू यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने कहा कि, “हमलोग अदालत के फैसले का सम्मान करते हैं। जमानत के लिए उच्च न्यायालय में अपील करेंगे। हमें न्यायपालिका पर पूरा यकीन है।”

उन्होंने कहा, “जिस तरह जेपी आंदोलन के दौरान लालू जेल गए, ठीक उसी तरह अब बिहार में एलपी (लालू प्रसाद) आंदोलन शुरू होगा। राजद का संघर्ष जारी रहेगा। हम डरनेवाले नहीं हैं।”

लालू यादव के बड़े पुत्र तेज प्रताप यादव ने कहा कि पार्टी के नेता और कार्यकर्ता मकर संक्रांति के बाद बिहार के कोने-कोने में जाकर मोदी और नीतीश सरकार की पोल खोलेंगे।

वंचितों की आवाज उठाने वाले को सरकार दबा रही है- 

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने भी बिहार सरकार और केन्द्र की नीतीश सरकार पर हमला बोला। तेजस्वी यादव ने कहा कि गरीबों, पिछड़ों, मुसलमानों की आवाज उठाने वालों को यह सरकार दबाना चाहती है।

तेजस्वी ने कहा कि उन्हें हाईकोर्ट से लालू यादव को जमानत मिलने का भरोसा है। तेजस्वी ने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल का लक्ष्य कभी भी सत्ता हासिल करना नहीं है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू यादव, नीतीश कुमार नहीं हैं जो कुर्सी की खातिर किसी से भी समझौता कर लें। उन्होंने कहा कि अगर लालू यादव का मकसद कुर्सी होता तो आज वह सत्ता के सर्वोच्च शिखर पर होते।

लालू ने किया ट्विट बीजेपी की राह नहीं जाऊंगा- 

तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, ‘ थैंक्यू, वैरी मच नीतीश कुमार।’ बता दें कि लालू यादव के ट्विटर अकाउंट से भी एक ट्वीट किया गया, “भाजपा की राह में चलने के बजाए मैं सामाजिक न्याय, सद्भाव और समानता के लिए खुशी से मरना पसंद करूंगा।”

गौरतलब है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा को इसी केस में बरी कर दिया गया था और लालू यादव को देवघर कोषागार से 89 लाख रुपये की अवैध निकासी के मामले में अदालत ने दोषी करार दिया था। जिस पर आज साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई।

धर्म की चासनी में लपेटकर योगी सरकार ने दिया OBC को धोखा, सचिवालय के 465 पदों में OBC की 0 वैकेंसी

जातिवाद के खिलाफ एक PCS अधिकारी के क्रोध को दर्शाती कविता-“ये कौन तय करेगा कि सच क्या है” ?

भीमा कोरेगांव एवं मनुवादी बौखलाहट पर साथी सूरज कुमार बौद्ध की कविता: 56 इंची परिभाषा

जातिवाद का आरोप झेल रही योगी सरकार ने, 4 वरिष्ठों को दरकिनार कर दूसरे ‘सिंह साहब’ को बनाया DGP

OBC को आबादी के हिसाब से आरक्षण देने की मांग, ग्वालियर से दिल्ली पदयात्रा करेंगे प्रेमचंद कुशवाहा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share