कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता डॉ. अनूप पटेल गिरफ्तार, कांग्रेस बोली नाकामी छुपाने की साजिश

लखनऊ: नेशनल जनमत ब्यूरो

यूपी विधानसभा के बाहर बीते 17 जुलाई को मां-बेटी आत्मदाह के मामले में कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. अनूप पटेल को आखिरकार पुलिस ने लखनऊ से गिरफ्तार कर ही लिया। मां-बेटी के आत्मदाह कांड के बाद बैकपुट पर आई सरकार ने अब सारा आरोप विपक्ष के सर मढ़ दिया है।

गिरफ्तारी से पहले अपने एक बयान में अनूप पटेल ने सारे आरोपों से इनकार करते हुए इस सरकार की नाकामी ढ़कने की साजिश करार दिया था और इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की अपील भी की थी।

अनूप पटेल पर मां-बेटी को आत्मदाह के लिए उकसाने का आरोप है। आपको बता दें कि बीते 17 जुलाई को यूपी विधानसभा और लोकभवन यानि मुख्यमंत्री कार्यालय के ठीक सामने अमेठी की रहने वाली मां-बेटी ने आत्मदाह का प्रयास किया था. मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने दोनों के शरीर पर कंबल डालकर आग बुझाई थी.

मां-बेटी को लखनऊ सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान सोफिया (मां) ने 22 जुलाई को दम तोड़ दिया था, जबकि बेटी गुड़िया बच गई. डॉक्टरों के मुताबिक सोफिया 90 फीसदी जल गई थी, जबकि गुड़िया 10 फीसदी जली थी. पुलिस ने अस्तपाल में ही दोनों का बयान लिया था, जिसमें पता चला था कि जमीन विवाद में पुलिस-प्रशासन की ओर से कार्रवाई न होने के चलते उन्होंने आत्मदाह का कदम उठाया था.

पहले लखनऊ के ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस लॉ एंड आर्डर नवीन अरोरा ने बताया था कि, ”मां-बेटी अमेठी के जामो की रहने वाली हैं. वहां कुछ लोगों से नाली का विवाद था. इसे लेकर मारपीट हुई थी. बेटी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया था. दोनों ने वहां की पुलिस व प्रशासन पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए 17 जुलाई की शाम लखनऊ लोकभवन के सामने आत्मदाह का प्रयास किया.”

इसके बाद इस मामले में किरकिरी होने के बाद योगी सरकार की तरफ से एक तरफ अमेठी के पुलिसकर्मियों का निलंबन किया गया वहीं आत्मदाह को साजिश बताते हुए सारा आरोप विपक्ष के सर मढ़ दिया गया था।

बाद में लखनऊ पुलिस ने कहा कि इस मामले में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के अमेठी जिलाध्यक्ष कादिर खान, कांग्रेस प्रवक्ता अनूप पटेल का नाम सामने आया था. इसके अलावा आसमा और सुल्तान ने भी इस षडयंत्र में शामिल थे. इन लोगों पर गुड़िया और उसकी मां सोफिया को आत्मदाह के लिए उकसाने और दोनों को लखनऊ तक पहुंचने में मदद करने का आरोप है.

लखनऊ के हजरत गंज थाने में इन चारों पर एफआईआर भी दर्ज की गई ​थी. साथ ही अमेठी के जामो थाना प्रभारी रतन सिंह, एक उप निरीक्षक एवं एक सिपाही को निलंबित कर दिया गया था.

कांग्रेस नेता बोले अनूप को गलत फंसाया गया है –

किसान कांग्रेस के अध्यक्ष तरुण पटेल का कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत पूरी पार्टी मानती और जानती है कि अनूप पटेल को इस मामले में गलत तरीके से फंसाया जा रहा है। सरकार अपनी नाकामी का ठीकरा विपक्ष के सर फोड़ना चाहती है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी इस मामले में हाइकोर्ट तक लड़ाई लड़ रही है। माननीय उच्च न्यायालय का इस मामले में जो भी आदेश होगा उसके बाद हम अगली रणनीति तय करेंगे।

अनूप पटेल का पक्ष जानने के लिए पढ़ें-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share