फैक्ट चैक: गोडसे भक्तों द्वारा वायरल, महात्मा गांधी की आपत्तिजनक तस्वीर का सच !

नेशनल जनमत ब्यूरो, नई दिल्ली

दक्षिणपंथी, धार्मिक उन्मादी, साम्प्रदायिक, नाथूराम गोडसे समर्थक और कट्टर हिन्दुंत्व के पैरोकार ये तमाम शब्द वैसे तो अलग-अलग हैं लेकिन मौजूदा हालात में एक दूसरे के पर्याय बन चुके हैं क्योंकि नफरवादियों को इस तरह का झूठ परोसने के लिए गोदी मीडिया और सरकार का अप्रत्यक्ष समर्थन और सहयोग हासिल है।

सरकार की नाकामियों को छुपाने और जरूरी मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ऐतिहासिक प्रतीक पुरुषो पर लगातार अशोभनीय टिप्पणियां करना, इतिहास की टांग तोड़ना इसी घटिया राजनीति का हिस्सा है। एक बार फिर से गोडसे भक्तों ने एक तस्वीर के माध्यम से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का चरित्र हनन करने की नाकाम कोशिश की है।

वायरल दावा और तस्वीर –

ट्विटर पर महात्मा गांधी की एक महिला के साथ तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में दोनों एक दूसरे को बहुत नज़दीक से देखते हुए दिख रहे हैं। इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर अशोभनीय टिप्पणियों के साथ साझा किया जा रहा है। 

महात्मा गांधी की इस आपत्तिजनक तस्वीर को सोशल मीडिया पर कई नफरत पसंद व नाथूराम गोडसे समर्थकों ने अशोभनीय दावों के साथ साझा किया है।

महात्मा गांधी की वायरल तस्वीर पर हमारी पड़ताल-

रिवर्स इमेज टूल की मदद से हमने पाया कि वायरल तस्वीर से मेल खाती एक तस्वीर Associated Press नामक वेबसाइट पर भी छपी है। वेबसाइट के मुताबिक प्राप्त तस्वीर 6 जुलाई साल 1946 में खींची गयी थी।

वायरल महात्मा गांधी की ओरिजिनल तस्वीर AP news द्वारा छापी गयी।

लेकिन उपरोक्त प्राप्त तस्वीर में महिला के स्थान पर हमें भारत के प्रथम PM जवाहर लाल नेहरू बैठे हुए दिखे।

पड़ताल में महात्मा गांधी की जवाहर लाल नेहरू के साथ की यह तस्वीर हमें Indian express अथवा BBC न्यूज़ की वेबसाइट पर भी मिली ।

वायरल महात्मा गांधी की ओरिजिनल तस्वीर indian express  द्वारा छापी गयी।
वायरल महात्मा गांधी की ओरिजिनल तस्वीर bbc news द्वारा छापी गयी।

इन दोनों ही प्रतिष्ठित वेबसाइट पर महात्मा गांधी की नेहरू जी के साथ की यह तस्वीर प्राप्त होने पर हमें वायरल तस्वीर के फोटोशॉप होने का शक हुआ। जिसके बाद हमने दोनों की तस्वीरों की तुलना की।

महिला के साथ महात्मा गांधी की वायरल तस्वीर की तुलना

तुलना के दौरान हमने दोनों ही तस्वीरों में काई समानताएं मिली। जैसे गांधी जी दोनों ही तस्वीर में एक ही पोज मे बैठे हैं। दोनों ही तस्वीरों में गाँधी जी किताब जैसी कोई चीज़ अपने हाथ में लिए हुए हैं। साथ ही उनके हाथ का आकर भी एक ही पोज में है। इसके अलावा महिला के गर्दन के पास कुछ सफ़ेद रंग जैसा दिख रहा है वह असल में कुछ और नहीं बल्कि नेहरू जी की कमीज है।

दोनों तस्वीरों की तुलना करने पर हमने पाया कि महात्मा गांधी की महिला के साथ की वायरल यह तस्वीर फोटोशॉप्ड है।

पड़ताल के दौरान हमें महात्मा गाँधी की इस वायरल तस्वीर का फैक्ट चेक asiannetnews नामक वेबसाइट पर भी मिला। जहां वायरल इस तस्वीर को फोटोशॉप्ड बताया गया है।

पड़ताल का निष्कर्ष – भ्रामक (Misleading)


इसे भी पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share