You are here

मेरा देश बदल रहा है ! 5000 की नौकरी के लिए M.Phil, इंजीनियरिंग डिग्री वाले कतार में, 117 पद 18000 आवेदन

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

देश में करोड़ों युवाओं को नौकरी का झांसा देकर वोट हासिल करने वाली केन्द्र की मोदी सरकार के राज में नोटबंदी के बाद से नौकरियों का और अकाल पड़ गया है। सामान्य शिक्षित तो छोड़िए उच्च शिक्षित बेरोजगारी की फौज की संख्या बढ़ती जा रही है।

मेरा देश बदल रहा है के नारे की हकीकत ये है कि राशन की दुकान में 5000 रुपये वेतन वाली सेल्समैन की नौकरी के लिए एम.ए., बी.ए. डिग्रीधारियों की बात तो छोड़ दीजिए, एम.फिल. और इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने वाले युवा भी कतार में आ खड़े हुए हैं।

तमिलनाडु में राशन की दुकानों में सेल्समैन के कुल 117 पदों के लिए आवेदन मंगाए गए थे जिसमें कुल 18 हजार 200 युवकों ने आवेदन किए हैं। आवेदन में योग्यता 12वीं पास रखी गई थी लेकिन उच्च शिक्षित युवकों ने भी आवेदन किया है। विभाग ने जांच-पड़ताल के बाद कुल 15000 उम्मीदवारों को प्रमाण-पत्रों के सत्यापन के लिए बुलाया है।

बुधवार को आवेदकों के प्रमाण-पत्रों का सत्यापन शुरू हो गया। इस दौरान तिरुनेवेली डिस्ट्रिक्ट सेंट्रस कॉपरेटिव सोसायटी में युवकों की लंबी कतार दिखी। इनमें से अधिकांश उच्च शिक्षित थे। प्रमाण पत्रों का सत्यापन कर रहे अधिकारी इन उम्मीदवारों को देख दंग रह गए।

बता दें कि तमिलनाडु में ज्वाइन्ट रजिस्ट्रार ऑफ कॉपरेटिव सोसायटीज के तहत कुल 807 फुल टाइम और 375 पार्ट टाइम राशन की दुकानें संचालित हैं। इन्हीं दुकानों के लिए कुल 117 रिक्तियों के लिए आवेदन मंगाए गए हैं।

आवेदन के नियमों के मुताबिक चयनित अभ्यर्थियों को पहले एक साल तक पांच हजार रुपये प्रति माह दिए जाएंगे, उसके बाद उन्हें पे स्केल का वेतन दिया जाएगा। भर्ती प्रक्रिया से जुड़े एक अधिकारी ने ‘बताया कि कुल 15 हजार उम्मीदवारों को सत्यापन के लिए बुलाया गया है।

उनकी मौत पर आज भी सवाल हैं. इसके बाद सोहराबुद्दीन और तुलसीराम प्रजापति की मौत और फिर जज लोया की मौत, जो और भी महत्वपूर्ण है. इन सब के मौत पर सवाल कायम है. अदालत अगर इन मामलों में न्याय नहीं दे सकती तो लोकतंत्र के मूल्यों पर सवाल खड़ा हो जाएगा.’

कानूनविदों और पत्रकारों ने कहा, अमित शाह का केस देख रहे जज लोया की मौत, पूर्व नियोजित हत्या

बुंदेलखंड के उरई में राष्ट्रमाता जीजाबाई जयंती समारोह 21 को, प्रदेश भर से नारी शक्ति का होगा जुटान

कभी स्कूटर पर साथ घूमते थे दोनों, CM बनते ही संबंध बिगड़े तो मोदी ने तोगड़िया को साइड लाइन कर दिया

समझिए पूरा मामला, जिसकी वजह से चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने लोकतंत्र को ताक पर रख दिया !

अब SC-HC के कई पूर्व जस्टिस ने लगाए आरोप, CJI दीपक मिश्रा अहम मामले अपने चहेते जजों को देते हैं

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के नरम पड़े तेवर, रविवार को सवाल उठाने वाले जजों से मिल सकते हैं !

 

Related posts

Share
Share