You are here

BJP से नाराज जीतनराम मांझी ने NDA का साथ छोड़ा, तेजस्वी यादव के साथ महागठबंधन में शामिल

पटना/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

बीजेपी की यूज एंड थ्रो की नीति से नाराज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने राजग का दामन छोड़ कांग्रेस के महागठबंधन में शामिल होने की घोषणा कर दी है।

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी बीजेपी का नेतृत्व द्वारा खुद की उपेक्षा से काफी समय से नाराज चल रहे थे।

मांझी ने यह घोषणा करने से पहले बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव एवं पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव तथा लालू प्रसाद के विश्वासपात्र राजद विधायक भोला यादव से मुलाकात की थी।

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाराज चल रहे मांझी ने भोला यादव के आवास पर मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘हम लोगों में बात हो गई है और हम महागठबंधन में जाएंगे।

काफी दिनों से थे नाराज- 

बताया जा रहा है कि राजग में उन्हें तरजीह नहीं मिल रही थी जिसे लेकर वो काफी समय से नाराज चल रहे थे. वह समय-समय पर इसको लेकर अपनी नाराजगी भी जाहिर कर चुके थे. यही नहीं, उन्होंने कई मुद्दों पर केंद्र व राज्य सरकार को भी कठघरे में खड़ा किया था।

मांझी ने बीते दिनों जहानाबाद उप चुनाव में टिकट न मिलने पर नाराजगी जाहिर करते हुए चुनाव प्रचार न करने की बात कही थी।

ज्ञात हो कि राजग में महत्व न मिलने से नाराज मांझी ने पिछले हफ्ते आगामी 23 मार्च को बिहार से राज्यसभा की छह सीटों के लिए होने वाले चुनाव में अपनी पार्टी के एक व्यक्ति को राजग का उम्मीदवार घोषित किए जाने की मांग की थी।

साथ ही उन्होंने कहा था कि अगर राजग नेतृत्व उनकी मांग नहीं मानता है तो उनकी पार्टी के नेता व कार्यकर्ता बिहार में 11 मार्च को अररिया लोकसभा सीट और जहानाबाद और भभुआ विधानसभा सीट के उपचुनाव के लिए प्रचार नहीं करेंगे।

तेजस्वी ने किया स्वागत- 

दूसरी ओर राजद की तरफ से लगातार मांझी को एनडीए छोड़ महागठबंधन में शामिल होने का ऑफर दिया जा रहा था. मांझी ने बुधवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह राजग से अलग हो गए हैं.

तेजस्वी ने कहा कि उन्हें मांझी के महागठबंधन में आने की खुशी है। मांझी हमारे माता-पिता के पुराने दोस्त हैं. हम इनका स्वागत करते हैं. उन्होंने कहा कि गुरुवार को एक साझा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में इस गठबंधन का आधिकारिक ऐलान किया जाएगा।

इससे पहले बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता राबड़ी देवी ने बुधवार सुबह जीतनराम मांझी से मुलाकात की थी. इसी मुलाकात के बाद हिंदुस्तान आवाम मोर्चा अध्यक्ष ने राजग से नाता तोड़ दिया है.

मांझी ने राबड़ी देवी से मुलाकात के बाद मीडिया के सामने आकर इस संबंध में घोषणा की. इस दौरान पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव भी उनके साथ रहे।

गुजरात में दलितों को मूंछ रखने का अधिकार नहीं, दलित युवक को पीटकर, मूंछ मुंड़वाई

जिंदगी बचाने के लिए छतरपुर की कांस्टेबल रीना पटेल को मिलेगा राष्ट्रपति सम्मान उत्तम जीवन रक्षा पदक

OBC के बाद, SC-ST छात्रों को आर्थिक मदद बंद, मोदी सरकार दलित-पिछड़ों को उच्च शिक्षा से रोकना चाहती है

BHU के भगवाकरण का आरोप, समारोह में हुए नाटक में गांधी के हत्यारे गोडसे का हुआ महिमामंडन

नौकरी करने वालों के लिए ‘अच्छे दिन’ की बुरी खबर, मोदी सरकार ने अब PF पर ब्‍याज दरों में कटौती की

 

Related posts

Share
Share