बेटे का शव रखकर अनशन पर बैठे हैं अपना दल नेता बांकेलाल पटेल, प्रशासन मांगे मानने को तैयार नहीं

नई दिल्ली/प्रतापगढ़। नेशनल जनमत ब्यूरो

उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराधों के बावजूद पुलिस और प्रशासन के कार्य करने की शैली में कोई बदलाव नहीं आया है। घटना होना अलग बात है लेकिन घटना के बाद भी पुलिस प्रशासन अपनी सक्रियता और कार्यशैली से आगे के बवालों को रोक सकती है, लेकिन उत्तर प्रदेश में ऐसा होता नहीं दिख रहा। कई जगह प्रशासन के अड़ियल और पक्षपात पूर्ण कार्रवाई से बनती बात बिगड़ जाती है।

प्रतापगढ़ में अपना दल नेता बांकेलाल पटेल के 13 साल के बेटे की निर्मम तरीके से हत्या होने के दो दिन बाद भी परिजनों ने अंतिम संस्कार नहीं किया है। पिता बांकेलाल पटेल घर पर ही गांव वालों के साथ अनशन पर बैठे हैं और प्रशासन से सुरक्षा की मांग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-चल रहा मौतों का खेल, मारे जा रहे बेगुनाह पटेल….शायर मुज़म्मिल अय्यूब की झकझोर देने वाली नज़्म

हैरत की बात देखिए सत्ता पक्ष और प्रशासन की तरफ से दो दिन बीतने के बाद इस पिता का दर्द सुनने कोई नही पहुंचा। पूर्व सपा विधायक राम सिंह पटेल के जरूर पहुंचे लेकिन प्रशासन अब उनकी बातों को कितनी तरजीह देगा ये सच किसी से छुपा हुआ नहीं है।

दो दिन बाद भी नहीं हुआ अंतिम संस्कार- 

मृतक सूरज पटेल के पिता बांकेलाल पटेल ने सुरक्षा, शस्त्र लाइसेंस, घटना के खुलासे की मांग को लेकर आमरण अनशन शुरू कर दिया है। इधर, पुलिस हत्या में नामजद लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। परिजनों का कहना है कि इतनी बड़ी घटना के बाद भी कोई जिम्मेदार जिले का अधिकारी नहीं आया, ना ही सत्ता पक्ष का कोई नेता हमारी तकलीफों को सुनने आया।

बांकेलाल ने बताया जान का खतरा- 

बांकेलाल पटेल ने कहा कि मेरे बेटे की हत्या करने वाले दोनों भाई विजय कमार मिश्र और राजेन्द्र कुमार मिश्र मेरी राजनीतिक सक्रियता से जलते है। मेरे विद्यालय को लेकर तमाम कुचक्र रचे जा रहे हैं। मेरे बेटे की तरह ही ये लोग मेरी हत्या भी करा सकते हैं। मैंने इस बारे में पुलिस प्रशासन को बताकर अपनी सुरक्षा की गुहार भी लगाई है लेकिन अभी तक एक सिपाही भी उपलब्ध नहीं कराया गया। मांगे ना मानने तक वह ना तो अंतिम संस्कार करेंगे न ही अन्न जल ग्रहण करेंगे।

इसे भी पढ़े-प्रतापगढ़: अपना दल नेता बांकेलाल पटेल के बेटे की हत्या, पुलिस के रवैये से कुर्मी समाज में आक्रोश

सत्ता पक्ष का कोई नेता या जनप्रतिनिधि नहीं पहुंचा-

पट्टी के पूर्व विधायक राम सिंह पटेल मृतक के घर पहुंचे

पूर्व सपा विधायक राम सिंह पटेल, अपना दल कृष्णा पटेल गुट के जिलाध्यक्ष बृजेश पटेल, पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुनीता पटेल, सपा नेता प्रमोद पटेल, ब्लाक प्रमुख के पति कुलदीप वर्मा, अशोक पटेल तो बांकेलाल पटेल के घर पर सांत्वना जताने पहुंचे लेकिन सत्ता पक्ष या सत्ता में शामिल अनुप्रिया पटेल के अपना दल गुट का कोई नेता मृतक के घर नहीं पहुंचा। घटना के बाद अपना दल (एस) क विधायक डॉ. आरके वर्मा जरूर अस्तपाल पहुंचे थे और परिजनो को आश्वासन दिया था।

 ईंट से कूचकर हुई थी हत्या- 

अपना दल विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बांकेलाल  पेशे से वकील हैं। पटेल के इकलौते पुत्र सूरज की कोचिंग से लौटते समय रविवार सुबह सिर कूचकर हत्या कर दी गई थी। कल देर शाम पोस्टमार्टम के बाद सूरज का शव घर पहुंचा तो परिजनों का रोना देख वहां मौजूद ग्रामीणों की भी आंखें भर आईं।

इसे भी पढ़ें-मृतक सुमित पटेल को इंसाफ और मुआवजे की मांग को लेकर सड़क पर उतरा कुर्मी स्वाभिमान महासंघ

इसके बाद परिजनों ने सुरक्षा के लिए शस्त्र लाइसेंस और आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। दोपहर बाद तक न तो पुलिस और प्रशासन के अफसर पहुंचे ओर न ही सत्तादल से जुड़े जनप्रतिनिधि। करीब दो बजे एसडीएम पट्टी जेपी मिश्र और सीओ रमेशचंद पहुंचे और परिजनों से बातचीत की।

सीओ पट्टी राजेश कुमार ने बताया कि पुलिस तेजी से अपना काम कर रही है। पट्टी कोतवाल का कहना है कि पुलिस को इस मामले में अहम सुराग हाथ लगे हैं। जल्द ही घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।

(प्रतापगढ़ से सूरज वर्मा की रिपोर्ट ) 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share