गुजरात के कई हिस्सों में राहुल गांधी को मिल रहा पाटीदारों का समर्थन, BJP को पड़ सकता है भारी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

गुजरात में तेजी से बदलते राजनीतिक समीकरणों के बीच कांग्रेस कई साल बाद गुजरात में उत्साहित दिख रही है। कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी नए जोश के साथ लगातार गुजरात के दौरे कर रहे हैं। वजह सिर्फ एक है गुजरात में बीजेपी से नाराज पाटीदारों का राहुल गांधी को मिलता समर्थन।

इसी प्रचार के क्रम में मंगलवार को राहुल गांधी छोटा उदयपुर पहुंचे थे। यहां पाटीदार अनामत आंदोलन समिति ने बोडेली में आयोजित एक सभा के दौरान राहुल गांधी को सम्मानित किया। इस सम्मान को कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ी राजनीतिक सफलता माना जा रहा है।

छोटा उदयपुर एक आदिवासी बहुल जिला है। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में गुजरात की 27 आदिवासी सीटों में से कांग्रेस ने 14 सीटें जीती थीं। इस आदिवासी बहुल इलाके में अगर कांग्रेस को पाटीदारों का समर्थन मिल जाए तो राहुल गांधी के लिए सोने पर सुहागा हो जाएगा।

साल 2012 के विधानसभा चुनाव के एक साल बाद छोटा उदयपुर को वडोदरा से अलग करके जिला बनाया गया था। जिस तरह से राहुल गांधी को प्रचार के दौरान बीजेपी से नाराज पाटीदारों का समर्थन मिला है, वह भारतीय जनता पार्टी पर भारी पड़ सकता है।

नर्मदा डैम प्रभावितों को मुआवजे की घोषणा- 

राहुल ने नर्मदा डैम से प्रभावित परिवारों को संबोधित करते हुए कहा, ‘हम लोग विकास के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन इसका फायदा सबको मिलना चाहिए। आप लोगों ने गुजरात के विकास के लिए अपनी जमीन खो दी। आपका ख्याल रखते हुए मुआवजा दिया जाना चाहिए था।

आप लोगों को 22 वर्षों में कोई मुआवजा नहीं मिला, राहुल ने आश्वस्त किया अगर गुजरात में हमारी सरकार बनती है तो आपको कांग्रेस छह महीने के अंदर मुआवजा देगी।

19 वें ‘यूथ एंड स्टूडेंट’ विश्व सम्मेलन में शामिल होंगे सत्येन्द्र कुमार पटेल, आज जाएंगे रूस

शिवराज का रामराज: छतरपुर में दलित छात्राओं से साफ कराते हैं टॉयलेट, MIDDAY MEAL में फेंककर देते हैं रोटी

बिहार: CM नीतीश की सामाजिक मुहिम का असर, जेल पहुंच रहे हैं नाबालिग लड़कियों से शादी कर रहे दूल्हे

BBC के रोजगार वाले कार्टून से चिढ़ गए BJP आईटी सेल के हेड, सोशल मीडिया पर बना मजाक

देशभक्त’ PM के राज में बोरियों और गत्तों में भरे गए 7 शहीद जवानों के शव, सोशल मीडिया पर उठे सवाल

RBI के सर्वे में ‘बदलते मूड’ के संकेत, अर्थव्यवस्था को लेकर लोगों में बढ़ी निराशा, बेरोजगारी बड़ा मुद्दा

राबर्ट वाड्रा के खिलाफ लिखा तो BJP बोली साहसिक पत्रकारिता, अब शाह के बेटे की पोल खोली तो फर्जी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share