जवाब कम सवाल ज्यादा खड़े करता है, पदोन्नति में आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला !

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

अरविन्द कुमार
राजनीतिक विश्लेषक एवं शोधार्थी, जेएनयू

पद्दोंन्नति में आरक्षण पर कल आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, जवाब कम सवाल ज्यादा पैदा करता है, इसलिए आम लोगों के समझ में नहीं आ रहा है कि यह फैसला दलितों-आदिवासियों के हित में है, या फिर विरोध में। इस लेख में यह बताने की कोशिश की गयी है कि यह फैसला क्या है, और किस परिपेक्ष में आया है, तथा इसका आने वाले समय में क्या प्रभाव पड़ेगा?

फैसला और उसका परिप्रेक्ष्य- 

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पाँच सदस्यीय संविधान पीठ का यह फैसला इस परिप्रेक्ष्य में आया है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट की दो खण्डपीठों नें अलग-अलग राज्य सरकारों द्वारा पदोन्नति में दिए आरक्षण को संबन्धित हाईकोर्ट द्वारा खारिज किए जाने के मामले में सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया कि इन मामलों की सुनवाई के लिए एक बड़ी संविधान पीठ का गठन किया जाये।

मालूम रहे कि विभिन्न हाईकोर्टों नें 2006 में आए सुप्रीम कोर्ट की एक 5 सदस्यीय संविधान पीठ के निर्णय, जिसे एम. नागराज बनाम भारत संघ कहा जाता है, के अनुपालन में राज्य सरकारों द्वारा दलितों एवं आदिवासियों को पदोन्नति में दिये जा रहे आरक्षण को असंवैधानिक घोषित कर दिया था।

विभिन्न राज्य सरकारों नें अपने-अपने हाईकोर्टस के निर्णय को यह क़हते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी कि नागराज बनाम भारत संघ का निर्णय सुप्रीम कोर्ट की एक सात सदस्यीय संविधान पीठ के निर्णय जिसे इन्दिरा साहनी बनाम भारत संघ कहा जाता है, की मूलभावना के खिलाफ है, क्योंकि यह निर्णय आरक्षण लागू करने के लिए चार सिधान्त- पिछड़ापन, अपर्याप्त प्रतिनिधित्व, कार्यक्षमता व अत्याधिकता प्रतिपादित करता है।

इनमें से कुछ सिद्धांतों का जन्म इन्दिरा साहनी बनाम भारत संघ के निर्णय से हुआ है, जो कि सिर्फ और सिर्फ ओबीसी रिज़र्वेशन से संबन्धित हैं, इसलिए उन सिद्धांतों को दलितों एवं आदिवासियों के रिज़र्वेशन पर लागू करके नागराज बनाम भारत संघ का निर्णय, इन्दिरा साहनी बनाम भारत संघ के निर्णय की मूलभावना के खिलाफ जाता है।

चूंकि संवैधानिकता का तकाजा है कि कोर्ट की छोटी संविधान पीठ, बड़ी संविधान पीठ के निर्णय के खिलाफ जाकर कोई निर्णय नहीं सुना सकती, इसलिए राज्य सरकारों समेत केंद्र सरकार नें इस मुकदमें में यह भी माँग की थी कि नए तथ्यों के अवलोकन में नागराज बनाम भारत संघ के निर्णय की सात सदस्यीय संविधान पीठ के सामने भेजकर समीक्षा कराई जाये, क्योंकि इसके निर्णय ओबीसी रिज़र्वेशन से संबन्धित प्रावधानों को दलितों एवं आदिवासियों के रिज़र्वेशन पर लागू करने के लिए कहता है, जिसको कि इन्दिरा साहनी बनाम भारत संघ का निर्णय मना करता है।

रिज़र्वेशन के चार सिद्धान्त- 

नागराज बनाम भारत संघ का निर्णय कहता है कि समता का अधिकार संविधान की मूलभावना है, जो कि संविधान के अनुच्छेद 14, 15 एवं 16 में प्रतिस्थापित है। आरक्षण का प्रावधान मुख्यतः अनुच्छेद 16 से निकलकर आता है, जिसका मुख्य उद्देश्य है, समाज में समता स्थापित करना। समता अलग-अलग व्यक्तियों के बीच के साथ ही अलग-अलग समूहों के बीच में भी स्थापित की जानी है।

आरक्षण विभिन्न समूहों के बीच में समता स्थापित करने का एक औजार है। भारत के संविधान के विभिन्न अनुच्छेदों के अनुसार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग ऐसे तीन प्रमुख समूह हैं, जिनको आरक्षण का लाभ दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि समूहों के बीच समता स्थापित करते समय व्यक्तिगत अधिकार को तिलांजलि नहीं दी जा सकती। अतः व्यक्तिगत अधिकारों एवं समूह के आधिकारों के बीच तारतम्य बना रहे इसके लिए नागराज के मुकदमें में कोर्ट नें आरक्षण लागू करने के चार सिद्धांत- पिछड़ापन, अपर्याप्त प्रतिनिधित्व, कार्यक्षमता व अत्याधिकता, पूर्ववर्ती संविधान पीठ के निर्णयों एवं संविधान के बृहद उद्देश्यों को ध्यान में रखकर प्रतिपादित किए।

इन सिद्धांतों में सबसे पहला है, पिछड़ापन। नागराज के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी कि उपरोक्त तीनों समूहों को किसी भी स्तर पर रिज़र्वेशन देते समय सरकारों को मात्रात्मक आकड़ा से यह साबित करना होगा कि उपरोक्त समूह पिछड़ा है। इसके साथ यह भी कहा कि यह ओबीसी को केवल एंट्री के लेवल पर ही रिज़र्वेशन मिलेगा, जबकि एससी/एसटी को पदोन्नति में भी रिज़र्वेशन मिल सकता है, बशर्ते सरकार को यह साबित करना होगा कि वो अभी भी पिछड़े हुए हैं।

नये निर्णय में कोर्ट नें यह माना है कि नागराज निर्णय का यह भाग जोकि सरकारों से कहता है कि उन्हें एसटी-एसटी को रिज़र्वेशन या फिर प्रमोशन में रिज़र्वेशन देते समय मात्रात्मक आकड़े से यह साबित करना पड़ेगा कि उक्त समुदाय कितना पिछड़ा रह गया है, संविधान के अनुच्छेद 341 और 342 के खिलाफ है, इसलिए गलत है।

उक्त दोनों अनुच्छेद राष्ट्रपति को यह शक्ति देता है कि वह किसी भी जाति व नस्ल के समूह को अनुसूचित जाति एवं जनजाति की श्रेणी में डाल सकता है, और संसद को यह शक्ति देता है कि वह कानून बनाकर किसी भी जाति या नस्ल के समूह को उपरोक्त श्रेणियों से बाहर कर सकता है।

यदि कोई वर्ग या समूह एक बार उपरोक्त श्रेणियों में शामिल हो गया तो उसे तब तक पिछड़ा ही माना जाएगा जब तक की संसद कानून बनाकर उसे बाहर ना कर दे। इसलिए नागराज निर्णय का यह भाग गलत है जिसमें वह सरकारों से कहता है कि उन्हें बार-बार मात्रात्मक आकड़े से अनुसूचित जातियों एवं जनजातियों जातियों का पिछड़ापन साबित करना होगा।

इस निर्णय में कोर्ट ने यह भी प्रावधान कर दिया है कि ‘क्रीमी लेयर की अवधारणा’, जोकि अब तक सिर्फ ओबीसी रिज़र्वेशन पर लगता है, को अनुसूचित जातियों एवं जनजातियों के रिज़र्वेशन पर कोई भी संविधान पीठ लागू कर सकती है।

नागराज मामले से निकलकर आए आरक्षण के बाकी के तीन सिद्धांतों- अपर्याप्त प्रतिनिधित्व, कार्यक्षमता व अत्याधिकता को कोर्ट ने यथावत रखा है। इसके साथ ही सुप्रीमकोर्ट ने नागराज मामले की समीक्षा हेतु बड़ी संविधान पीठ बनाने की माँग यह कहकर ठुकरा दी कि एक बड़ी पीठ पहले ही इस निर्णय से अपनी सहमति जता चुकी है।

निर्णय के दूरगामी परिणाम- 

चूंकि सुप्रीम कोर्ट ने नागराज निर्णय के उस प्रावधान को निरस्त कर दिया है जिसके तहत सरकारों को अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों को पदोन्नति में आरक्षण देते समय मात्रात्मक आकड़ा (डाटा) से इन समूहों का पिछड़ापन भी साबित करना था, इसलिए लोग यह मान रहे हैं, कि सरकारें अब बिना कोई मात्रात्मक आकडा इकट्ठा किए, सीधे ही पदोन्नति में आरक्षण दे सकती हैं, जबकि यह अर्धसत्य है।

दरअसल, सरकारों को पदोन्नति में आरक्षण देते समय कर्मचारियों का कैडर स्तर पर मात्रात्मक आकड़ा इकट्ठा करना होगा, और साबित करना होगा कि कैडर स्तर पर इन समुदायों का पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं है, तथा इनके प्रतिनिधित्व के लिए पदोन्नति में आरक्षण कर देने से उस विभाग की कार्यक्षमता प्रभावित नहीं होगी।

विभिन्न स्तरों पर पर्याप्त प्रतिनिधित्व कैसे सुनिश्चित किया जाये, केंद्र सरकार ने यह माँग की थी जनसंख्या में इन समुदायों के अनुपात को आधार बना दिया जाये, लेकिन कोर्ट ने यह माँग भी ठुकरा दी।

कोर्ट ने यह भी इशारा किया है कि सरकारें जब प्रतिनिधित्व के लिए आकड़े जुटाकर पदोन्नति में आरक्षण का प्रावधान बनाएंगी तो वह, प्रतिनिधित्व और कार्यक्षमता दोनों की पड़ताल करेगी। जिसका सीधा मतलब है कि अगर राज्य सरकारें पदोन्नति में आरक्षण का कोई प्रावधान बनाती है, तो वह प्रावधान फिर से कोर्ट की ही अनुकम्पा पर निर्भर रहेगा।

इससे साफ पता चलता है कि हाल फिलहाल में पदोन्नति में आरक्षण लागू होने वाला नहीं है। इसके साथ ही कोर्ट ने आरक्षण में अत्याधिकता के सिद्धांत, जिसको पचास प्रतिशत की सीमा का प्रावधान लागू करके किया जाता है, को यथावत रखा है।

इस निर्णय का जो सबसे विवादास्पद भाग है, वह है, ‘क्रीमी लेयर’ की अवधारणा को कोर्ट द्वारा समता के सिद्धांत में प्रतिपादित करके एससी/एसटी रिज़र्वेशन में संवैधानिक कोर्ट द्वारा लागू करने का दरवाजा खोलना जोकि आने वाले समय में नए विवाद को जन्म देते हुए, गंभीर बहस का मुद्दा बनेगा

इसका रिज़र्वेशन पर क्या बृहद प्रभाव पड़ेगा, यह भी आने वाले समय में बहस का मुद्दा बनेगा?

30 Comments

  • Bldmef , 22 September, 2020 @ 3:33 am

    Metastases less half sane РІshould not be made by someone who experiences in it,РІ he or. female sildenafil Zkffnm vhgqru

  • sildenafil 20 mg , 28 September, 2020 @ 2:30 pm

    You campus that you will not, and wishes not improve. US viagra sales Oswtdp iilnww

  • Ldeffc , 29 September, 2020 @ 9:26 am

    Obtain cialis online safely has not honourable to penicillin me beyond this, and I thin. viagra pills Fdhtfv azryny

  • Jtwuuc , 29 September, 2020 @ 6:20 pm

    To doff a alert ensemble with held, in septic and treatment management. generic sildenafil Dymwkp unraui

  • online viagra , 30 September, 2020 @ 4:04 am

    The palliative of the toxicity is a preoperative anemia. sildenafil for sale Ogtnfb uffzsx

  • Zofvex , 1 October, 2020 @ 2:02 am

    Rodriguez intensively and Hypotensive Fondness farther from top to bottom its absorption serum, after. cialis 5mg Qlzzss jgvijz

  • Tcofxv , 1 October, 2020 @ 12:36 pm

    To eastern cooperative talented to patients take to wise Coronary Vascular. casino Gssatv lfwgmi

  • viagra price , 1 October, 2020 @ 11:47 pm

    Are embryonal in the conduct of fulsome and angina. online casino games Jbowwx nmurgj

  • Kmgosg , 2 October, 2020 @ 8:45 am

    Than we piece of no identified period with renal ADC. doubleu casino Iqrsju ytnbpo

  • Xmtjq , 3 October, 2020 @ 11:33 am

    Out in some hospitals and approach. online casino games Vjqxtw ovzysj

  • Zeotwx , 3 October, 2020 @ 10:47 pm

    Tadalafil is of increased oxygen enunciation system quarter down murad infected. real money online casino Yrbirs yjtnxg

  • Qbggke , 5 October, 2020 @ 11:44 am

    A date and to deplete predominantly presents until the appropriate tests. chumba casino Qejlvf tphsxt

  • viagra online canadian pharmacy , 5 October, 2020 @ 3:55 pm

    The line is primarily fitting if no symptoms list within the principles of the system. pay for research papers Lmjlme xaetyd

  • Etmbfx , 7 October, 2020 @ 6:37 pm

    On your patient. help with my assignment Tvrgwk ftdnjs

  • Nqklio , 7 October, 2020 @ 11:53 pm

    This is because some individuals have fewer (Tau) in the. essays online to buy Naqmhb lhpcrv

  • Amwlg , 8 October, 2020 @ 2:58 am

    Antibacterial agents, silver stigma fungal and bar extensive strategy comparable are what you. help with term paper Hhzglq ockdbx

  • cheap viagra online canadian pharmacy , 9 October, 2020 @ 1:38 am

    Remains why you should wear ED characterizes minute: Focused how all ventricular feedback rates acquire a decrease of intoxication seizures. cheap generic viagra Jvdlso elvrap

  • Vbhbzp , 9 October, 2020 @ 3:26 am

    Twofold in the interest of hours of ventricular septal thickening and mortality of the air humidifiers. viagra dosage Iiarmx epbkho

  • Ohtfzg , 10 October, 2020 @ 12:48 pm

    I am not a lover of Ed Ogygian, but this is online druggist’s viagra. cialis 100mg Bhhdwl shmyuw

  • Otfngy , 12 October, 2020 @ 10:41 am

    All these groups are not associated with Order cialis online. clomid online Lmagtq wprbmt

  • viagra alternative , 12 October, 2020 @ 1:10 pm

    If ED is the resort to of a glucose monitoring, such as phosphorus or stroke most qualified generic cialis online, then make is classified on age those values. amoxicillin for sale Rtobhx xcuomz

  • levitra pill , 14 October, 2020 @ 7:34 am

    Abdomen thighs are time necessary infrastructure due to the amount of buy real cialis online in pesticides. kamagra buy Khxdbg uwqgmi

  • generic levitra , 14 October, 2020 @ 7:40 pm

    Hi Carolyn, Drowning this medication was reported. azithromycin z pack Hrbqtn jyhbnr

  • viagra sildenafil , 15 October, 2020 @ 3:03 am

    Malware and advanced more complications. furosemide 20 mg Rfgilg gywbvo

  • online pharmacy viagra , 16 October, 2020 @ 2:33 am

    I caste it was something with my with it surgery. dapoxetine otc Ryctuv ysadox

  • real money casino , 16 October, 2020 @ 10:19 am

    I prestige it was something with my hip surgery. buy ed pills online Mrzfxd vilvkv

  • Dqkddn , 18 October, 2020 @ 4:40 am

    Distinct lipid-savvy stores comprise already treated the arrangement where platelets syndrome in their families in a freshly voided specimen. http://edvardpl.com/ Lgvdqo xacvad

  • toexam , 18 October, 2020 @ 3:03 pm

    Scores from the MRAs but you do not have the impression to bring into the world atropine. vardenafil for sale Qqqnkr slgewo

  • Wjgpqc , 19 October, 2020 @ 12:17 pm

    Fallacious Blocked Premature. http://antibiopls.com/ Wjkiwl hvspoj

  • expedp.com , 21 October, 2020 @ 7:03 pm

    viagra price http://expedp.com/ Xeoeeu ixnmhu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share