You are here

खामोशी से बैठे पिछड़ों ! अगला नंबर मेरा या आपका हो सकता है, वे आंदोलनकारियों को कुचल रहे हैं

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  अगला नाम मेरा या आपका या किसी का भी हो सकता है, तैयार रहें. वे एक-एक करके सबको कुचल रहे हैं, अगर हम नहीं सुधरे तो कभी तो हमारी बारी भी आयेगी. रोहित वेमुला को न्याय नहीं मिला. रोहित चौधरी को न्याय नहीं मिला. नज़ीब को न्याय नहीं मिला. अख़लाक़ को न्याय नहीं मिला. अफराजुल…

Read More
Share
Share