You are here

पीएम मोदी के ‘न्यू इंडिया’ के तमाशे ने ‘महान भारत’ के मूल्यों को संकट में डाल दिया है-तेजस्वी यादव

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

जबसे केन्द्र में पीएम मोदी की सरकार बनी हैं आतातई ताकतों ने देश को अपनी आतंकी घटनाओं से दहला दिया है. चारों तरफ गाय के नाम पर कहीं धार्मिक मान्यता के नाम पर लोगों की हत्याऐं की जा रही हैं. कहीं विरोधी विचारधारा के लोगों को जेल में डाला जा रहा है या फिर उनकी भी हत्या की जा रही है. अगर कोई राजनीतिक दल सत्ता के इस पैशाचिक रूप का विरोध कर रहा है तो उसके खिलाफ आयकर विभाग से लेकर सीबीआई तक के सारे सरकारी हथकंडे लगाकर शांत करने की कोशिश की जा रही है. ऐसे विपरीत माहौल में एक बार फिर बिहार की राजनीति के सबसे  युवा चेहरे डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने देश को चेताने वाला एक लेख लिखा है. इसे पढ़ा जाना चाहिए.

मोदी सरकार के प्रति सहानुभूति रखने वाले लोग भी इस बात को लेकर गंभीर रूप से चिंतित हैं कि लगभग हर क्षेत्र और सरोकार में हताशा और निराशा की डरावनी छवियों का विश्लेषण कैसे करें? प्रधानमंत्री के तमाशे वाली ‘न्यू इंडिया’ ने ‘महान भारत’ की आस्था, मूल्यों और प्राथमिकताओं को गंभीर संकट में डाल दिया है. केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा नफरत, घृणा और भेदभाव/उत्पीड़न की विचारधारा के समर्थकों को हर प्रकार की मदद प्रदान कर प्रोत्साहित किया जा रहा है। उनके द्वारा प्रायोजित गुंडे गाय, धर्म, राष्ट्रवाद और आस्था-विश्वास के नाम पर निर्दोष लोगों का क़त्ल कर रहे हैं। केंद्रीय हुकूमत द्वारा पोषित ये हिंसक भीड़ निडर होकर ‘कानून के राज’ का गला घोंट रही हैं.

इसे भी पढ़ें…BHU कुलपति प्रो. त्रिपाठी के राज में खत्म हुए OBC-SC-ST शिक्षकों के पद, सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

आताताईयों ने देश की शांति का अपहरण कर लिया है

संघ और भाजपा के द्वारा प्रोत्साहित भीड़ ने पूरे देश को डर के गणतंत्र में तब्दील कर दिया है. हर कोई यह डरावना संयोग देख सकता है कि ऐसे सभी घृणित कृत्य बीजेपी शासित राज्यों में हो रहे हैं। भोजन की विविधता, भिन्न पोशाक और अलग पूजा पद्धति/प्रतीकों की उपासना के नाम पर लोगों की हत्या हो रही है. असहमति और विरोध के स्वर चाहे विपक्ष के हों या मीडिया के छोटे से समूह से दिल्ली की सत्ता पर बैठे लोगों को यह नागवार गुजरता है. कुल मिलाकर पूरे देश में एक भयावह अराजक माहौल है, मंदसौर और सहारनपुर जैसी दिल दहला देने वाली घटनाएँ हो रही है और प्रधान मंत्री और उनके मंत्रिमंडल के मंत्रीगण योग के तमाशे में व्यस्त हैं और मोदी फेस्ट के नाम पर तीन वर्षों के असफल कार्यकाल को अरबों रूपये के ‘ऑप्टिकल भ्रम’ से ढंकने का उत्सव मना रहे हैं.

इसे भी पढ़ें…43 केन्द्रीय वि.वि. में इकलौते दलित कुलपति बने सुरेश कुमार, गर्व करें या मोदी सरकार पर शर्म करें

केवल सामाजिक न्याय की राजनीति से बदल सकता है माहौल

मुझे पता है मौजूदा हालात में देश में विपक्ष भी भ्रम की स्थिति में है और भ्रामक व्यवहार, सरकारी तंत्र के डर और गलत प्राथमिकताओं के कारण विपक्ष बिखरा सा हुआ है। यह समय है जब सभी विपक्षी दलों को एक दुसरे का हाथ पकड़ कर हताशा और संकट से जूझ रहे लोगों और समुदायों के साथ खड़ा होना जरूरी है। विपक्षी पार्टियों को यह भी महसूस करना होगा कि राजनीति एक अंशकालिक उद्यम नहीं हो सकती। आप शाम में दो घंटे खेलें और बाकी समय विश्राम करें. इस तरह की राजनीती नहीं कर सकते और अगर आप ऐसा सोचते हैं तो यह लोकोन्मुख और प्रगतिशील तेवर वाली सामाजिक न्याय की राजनीती नहीं हो सकती.

इसे भी पढ़ें…बीजेपी नेता की गुंडई पर लेडी सीओ बोली, भाजपा के गुंडे हो , कहीं भी दंगा करा सकते हो

अगर इस माहौल में देश की राजनीति के सामने चुनौती है तो अवसर भी हैं

ये वक्त विपक्ष के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण है लेकिन हर चुनौती का दौर अवसर भी देता है. हम सभी को हमारे महान देश और इसके संवैधानिक मूल्य, समतावादी सोच और धर्मनिरपेक्ष स्वरुप को बचाने के लिए एक दीर्घकालिक रणनीति बनानी होगी. हममे से अधिकांश दलों को यह सोचना होगा कि अवसरवादी व्यवहार या राजनीतिक जोड़तोड़ के साथ हम कुछ तात्कालिक लक्ष्य हासिल सकते हैं, सरकार बना या बिगाड़ सकते हैं लेकिन लोकोन्मुख राजनीती की चादर बड़ी होनी चाहिए. इतिहास हर पहलू को संजीदगी से देखता है उसकी समग्रता में व्याख्या करता है और कुछ समकालीन टेलीविजन एंकरों की तरह फौरी उपसंहार नहीं लिखता है.

इसे भी पढ़ें…मोदीराज में OBC-SC-ST के साथ अन्याय, अब मेडिकल में 15 फीसदी सवर्णों को मिलेगा 50.5 फीसदी आरक्षण

अगर आज आवाज न उठाई तो आने वाला समय आपको माफ नहीं करेगा

अगर हम ऐसा करने में असफल होते हैं तो इतिहास इस बात का साक्षी होगा कि जब लोगों को प्रगतिशील और सामाजिक न्याय की धारा के इर्दगिर्द मजबूत करने की जरूरत थी तो हम शुतुरमुर्ग हो गए। जिंदा और गतिमान राजनीतिक दलों के रूप में, हम छद्म राष्ट्रवाद के आकर्षक शोर से अवरुद्ध होने वाले बारहमासी संकट में निर्दोष लोगों के दुःखों और उनकी हताशा की गुहार को अनदेखा नहीं कर सकते. मोदी उत्सव और समर्थित मीडिया में प्रायोजित एजेंडे के इस शोर में क्या यह उचित समय नहीं है कि हम सामूहिक रूप से खड़े हों, आवाज उठाएं, संविधान की रक्षा करें और लोकतंत्र को बचाएं? अगर हम इस वक़्त क्रियाशील नहीं होंगे तो आने वाला वक्त हमें माफ़ नहीं करेगा और सिवाय अफ़सोस के अफसानों के हमारे पास कुछ नहीं बचेगा.

Related posts

One Thought to “पीएम मोदी के ‘न्यू इंडिया’ के तमाशे ने ‘महान भारत’ के मूल्यों को संकट में डाल दिया है-तेजस्वी यादव”

  1. 429252 660925This will probably be an excellent web website, will you be involved in doing an interview regarding how you developed it? If so e-mail me! 279059

Leave a Comment

Share
Share