“योगी ने जेल भेजा तो, जेल से ही लड़ूंगा चुनाव”- चंद्रशेखर आज़ाद

नूपेन्द्र सिंह

“अगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तानाशाही कर जेल भेजेंगे, तो जेल से चुनाव लड़ूंगा और कमंडल के खिलाफ मंडल की इस लड़ाई को हर हाल में जीतकर रहूँगा” आज़ाद समाज पार्टी (ASP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आज़ाद ने लखनऊ में ‘सामाजिक परिवर्तन मोर्चा’ की घोषणा करते हुए उक्त बातें कहीं। 35 दलों के साथ गठबंधन का ऐलान करते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि “अब समुद्र में नहीं कूदना, छोटे-छोटे दलों को साथ लेकर खुद समुद्र बनना है“।

प्रेस वार्ता में चंद्रशेखर ने कुल 35 दलों को साथ लेकर यूपी की सभी 403 विधानसभाओं में लड़ने की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि यह गठबंधन बहुजन समाज के लोगों का है, जिसमें यूपी के दलित-पिछड़े और अल्पसंख्यक समाज के लोग शामिल हैं। चंद्रशेखर ने बहुजन एकता के सवाल पर कहा कि बीजेपी को हराने के लिए उन्होंने विपक्ष की स्थापित पार्टियों के साथ गठबंधन करने का पूरा प्रयास किया ताकि बहुजन एकता बनी रहे लेकिन सपा-बसपा जैसी पार्टियों के अहंकार के कारण यह संभव नहीं हो पाया। ASP ने निर्णय लिया है कि अब छोटे-छोटे दलों के साथ यूपी की 403 सीटों पर सामाजिक परिवर्तन मोर्चा को चुनाव लड़ाकर भाजपा को हराएंगे।

चंद्रशेखर ने अखिलेश यादव- मायावती के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा ” मैं दोनों का बहुत सम्मान करता हूं, बीजेपी को रोकने के लिए दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं से लगातार गठबंधन के लिए प्रयास भी किए लेकिन वक्त रहते समझ आ गया कि दोनों बहुजन हिस्सेदारी में किसी को हिस्सा नहीं देना चाहते, इसलिए विकल्प बनने के लिए अब पूरी ताकत से मैदान में हूं”

जेल भेजेंगे योगी तो जेल से ही लडूंगा चुनाव

नेशनल जनमत के सवाल योगी जेल भेज देंगे तो का जवाब देते हुए चंद्रशेखर बोले “अगर मुख्यमंत्री तानाशाही कर जेल भेजेंगे तो जेल से चुनाव लड़ूंगा और कमंडल के खिलाफ मंडल की इस लड़ाई को हर हाल में जीतकर रहूँगा”। “योगी सरकार में पहले ही 16 महीने जेल रह चुका हूँ इसलिए योगी जेल भेज दें या काला पानी की सजा करार दें चुनाव तो लड़कर रहूँगा। उन्होंने आगे कहा कि यूपी की जनता ने सभी सरकारों को मौका देकर देख लिया है। भाजपा के शासन काल में दलित-पिछड़ों की हालत बद से बदतर हुई और भाजपा से पूर्व की सरकार में भी दलित-पिछड़ों के साथ अन्याय हुआ, 13 पॉइंट रोस्टर जैसे मुद्दों का कोई समाधान नहीं हुआ, इसलिए जनता अब बदलाव चाहती है और अब सामाजिक परिवर्तन मोर्चा जनता के लिए एक नया विकल्प है।

गोरखपुर में 90% जनता देगी वोट

चन्द्रशेखर ने कहा पिछले पांच सालों में उन्होंने सरकार के खिलाफ कई लड़ाइयां लड़ीं और जीती इसलिए जनता अब घर में बैठकर राजनीति करने वाले नेताओं को नहीं चुनेगी। उन्होंने बताया कि गोरखपुर में उनका मूल वोट दलित-पिछड़े-अल्पसंख्यक तो हैं ही लेकिन सवर्णों में भी जो शूद्र है (कायस्थ और बनिया) भाई भी उन्हें वोट देंगे। वो लोग जिन्होंने चंद्रशेखर को इस सरकार के खिलाफ लड़ते हुए देखा वो लोग मदद करेंगे। चंद्रशेखर बोले उनकी लड़ाई अब 85 बनाम 15 की नहीं बल्कि 90 बनाम 10 की हैं। गोरखपुर में ASP की वर्चुअल रैली अभी जारी है, करीब 400 बूथों पर पूरी तैयारी हो चुकी है।

AIMIM के साथ जाने की अटकलों पर बोले

AIMIM नेता असदुद्दीन ओवेसी के साथ जाने के सवाल पर चंद्रशेखर बोले “मैं पार्टी का एक कार्यकर्ता हूँ, जो पार्टी का आदेश होता हैं मैं उसी को फॉलो करता हूँ और मीडिया के समक्ष रखता हूँ, हमारी पार्टी एक लोकतांत्रिक दल हैं जो पार्टी का आदेश होगा मैं उसका सम्मान करूँगा लेकिन अभी तक मेरी पार्टी का ऐसा कोई आदेश नहीं आया है “

मैदान पर है पूरी तैयारी

मैदान पर क्या तैयारी है? सवाल पर, चंद्रशेखर बोले आज़ाद समाज पार्टी की वर्चुअल रैली चल रही है। ASP भीम आर्मी का ही एक राजनीतिक धड़ा है, किसी भी पार्टी को चुनाव कार्यकर्ता या संगठन लड़ाता है, भीम आर्मी के कार्यकर्ता पूरे उत्तर प्रदेश में हैं, इस बात को विपक्ष और सरकार भी जानती है। भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं का डोर टू डोर अभियान निरंतर जारी है। कार्यकर्ताओं ने अपनी मेहनत से मैदान में पूरी तैयारी कर ली है।

2 Comments

  • gralion torile , 27 July, 2022 @ 7:25 am

    I was more than happy to search out this internet-site.I wished to thanks to your time for this excellent learn!! I definitely having fun with every little bit of it and I’ve you bookmarked to take a look at new stuff you weblog post.

  • zoritoler imol , 14 August, 2022 @ 11:14 pm

    Hello, i believe that i noticed you visited my web site so i got here to “return the favor”.I am trying to find issues to improve my site!I assume its ok to make use of some of your ideas!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.