सहारनपुर हिंसा में दलितों के साथ यादव-मुस्लिम वकील, सुप्रीम कोर्ट में डाली याचिका

नई दिल्ली। सोबरन कबीर यादव

सहारनपुर जातीय हिंसा में दलितों के साथ हुए अन्याय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के दो अधिवक्ता गौरव यादव और मुनव्वर अली कुरैशी आगे आए हैं. सामाजिक न्याय और वंचितों द्वारा एक दूसरे के दुख साझा करने की मुहिम के लिए दोनों वकीलों का प्रयास एक नया आयाम होगा. दोनों ने संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत जनहित याचिका फाइल कर दी है.

इसे भी पढ़ें-देश की राजनीति में बड़े बदलाव के संकेत, दिल्ली में एकजुट हुए मायावती अखिलेश

क्या है याचिका में- 

इस रिट पिटीशन के जरिए गौरव यादव और मुनव्वर अली कुरैशी ने  जांच, पीड़ितों को क्षतिपूर्ति, पुलिस-संरक्षण तथा दोषियों को दंडित करने की मांग की है.  पिछले एक महीने से सहारनपुर जातीय हिंसा की आग में झुलस रहा है. राज्य की योगी सरकार पर आरोप लग रहा कि वह ठाकुर बिरादरी के लोगों को ही बचा रही है और दलितों के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण रवैया अपना रही है. पुलिस की एकपक्षीय कार्रवाई से ही सहारनपुर में हिंसा बढ़ गई है.

इसे भी पढ़ें- क्या अंबानी के पैसों से चल ही वेबसाइट का एजेंडा ही है लालू-नीतीश का अलगाव

सोशल मीडिया में मिल रही हैं बधाई- 

सोशल मीडिया पर सामाजिक समता के पक्षधर इन दोनों वकीलों की जमकर प्रशंसा हो रही है. बीएचयू के रिटायर्ड प्रो. चौथीराम यादव ने इन दोनों वकीलों को सामाजिक न्याय का योद्धा बताया है. प्रोफसर साहब ने कहा कि इस बात का सूचक है कि भारत अभी देश बनने की प्रकिया से गुजर रहा है. दोनों ने वंचित समाज के दर्द को समझते हुए जो कदम  उठाया है वो सराहनीय है.

इसे भी पढ़ें- शादी के कार्ड पर यादव जी का सामाजिक न्याय, फेसबुक पर हुआ वायरल

सभी वंचितों को एक दूसरे के हक के लिए आगे आना होगा- 

वरिष्ठ पत्रकार और चिंतक दिलीप मंडल लिखते हैं कि जब तक इस देश में दलितों के ऊपर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ लड़ाई में पिछड़े शामिल नहीं होंगे, जब तक आदिवासियों के खिलाफ हो रहे अत्याचार से लड़ने के लिए दलित और पिछड़े शामिल नही होंगे और जब तक मुसलमानों के साथ हो रहे अन्याय में दलित, पिछड़े,आदिवासी शामिल नहीं होंगे तब तक हम कबीलों में बंटे समूह ही हैं. हमें देश नहीं कहा जा सकता. देश तो वो होता है जहां लोगों का दर्द भी साझा होता है और संघर्ष भी साझा होता है.

सहारनपुर हिंसा के खिलाफ केस फाइल करने वाले इन दोनों वकीलों ने भारत को कबीले से देश बनने की राह पर खड़ा कर दिया है.

2 Comments

  • C P Mayur , 27 May, 2017 @ 3:27 pm

    आज की तारीख में भारत वर्ष में रहने वाले लोगो के पूर्वजो ने बिना किसी जाति और धर्म की दीवारो को पैदा किये एक ऐसे भारतवर्ष की कल्पना की थी जिसमे इंसान रहे और इंसानियत उनका आभूषण हो।लेकिन उनकी इस मंशा को उन दुष्टो तार तार कर दिया जिन्हें ना इस देश से पहले कभी प्यार था ना है।
    आज तो देश और प्रदेश में भय और आतंक फ़ैलाने वाले देशभक्त बने खुले आम घूम रहे है सीधे सच्चे व्यक्ति को देश भक्त होने का प्रमाण देना पढ़ रहा है।
    उन पूर्वजो की तीसरी या चौथी पीढ़ी आज इस देश की नागरिक है और ये नागरिक इस देश के हर क्षेत्र में किसी ना किसी रूप में योगदान करते हुए देश के सर्वांगीण विकास में सहयोग कर रहे है तो ये देशभक्त है या वह सिरफिरे लोग जो इस देश मै आतंक फैलाकर इंसानियत को जाति और धर्म में बांटकर देश को बर्वाद करना चाहते, देश में पनप रहा ऐसा आतंकवाद बाहरी आतंकवाद से भी ज्यादा खतरनाक है।इस देश के हर नागरिक का दायित्व है की चाहे वह किसी भी उम्र का हो चाहे वह किसी जाति या धर्म का हो,चाहे वह स्त्री हो या पुरुष हो इस देश में ऐसी विचारधारा का समर्थन करें जो एक ऐसे भारतवर्ष का विकास करें जहाँ सुख हो,चैन हो,भाई चारा हो इंसानियत हो,धर्म और जाति की दीवारो को तोड़कर एक इंसान दूसरे इंसान के सुख दुःख में काम आये और मिटा दे हम ऐसे मंसूबो को जो हमें धर्म और जाति में बटने को मजबूर कर रहे है।फिर हम सब मिलकर कहे
    मेरा भारत महान् ।
    जय भारत ।
    जय भारतीय ।

  • GVK Biosciences , 14 July, 2017 @ 9:33 pm

    291663 578448Its like you read my mind! You appear to know a good deal about this, like you wrote the book in it or something. I feel which you could do with some pics to drive the message home a bit, but other than that, this really is amazing weblog. A terrific read. Ill surely be back. 672254

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share