You are here

200 से ज्यादा गायों की मौत के आरोपी BJP नेता के चेहरे पर कोर्ट परिसर में कालिख पोती

नई दिल्ली/रायपुर। नेशनल जनमत ब्यूरो 

छत्तीसगढ़ के दुर्ग और बेमेतरा जिले में 200 से ज्यादा गायों की मौत के जिम्मेदार भाजपा नेता हरीश वर्मा पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उस वक्त हमला कर दिया जब उन्हें कोर्ट में सुनवाई के लिए लाया जा रहा था। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा नेता पर अचानक से हमला करके उनके मुंह पर कालिख पोत दिया।

आखिरकार काफी मुश्किलों के बाद पुलिस ने उनको कांग्रेसियों के चंगुल से छुड़ाया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ कई ग्रामीण भी थे, जो वर्मा को देखकर आक्रोषित हो गए। इस दौरान ग्रामीणों और कार्यकर्ताओं ने वर्मा को पीटने की की भी कोशिश की। बता दें कि पुलिस ने इस मामले में भाजपा नेता के खिलाफ पशु अत्याचार अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है।

इस बीजेपी नेता की दुर्ग और बेमेतरा जिले में तीन गौशालाएं हैं। तीनों ही गौशालाओं में गायों की दयनीय स्थिति और बेमौत मारे जाने को लेकर लोग भड़के हुए हैं।

वहीं इस मामले में राज्य के कृषि एवं पशुपालन मंत्री ने विभाग के नौ अफसरों को निलंबित कर दिया है और ‘कारण बताओ’ नोटिस जारी कर उनसे जवाब तलब किया है। मंत्री बृजमोहन अग्रवाल हालांकि इन दिनों अध्ययन यात्रा के क्रम में इजराइल में हैं, वह वहीं से इस मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

दुर्ग के धमधा विकासखंड के ग्राम राजपुर स्थित शगुन गोशाला, बेमेतरा जिले के साजा विकासखंड के ग्राम गोडमर्रा स्थित फूलचंद गोशाला और साजा क्षेत्र के ही ग्राम रानों स्थित मयूरी गोशाला में बड़ी संख्या में गायों की मौत हुई है। इस मामले में मंत्री अग्रवाल ने पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. एस.के. पांडे को 19 अगस्त की सुबह तक रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे।

शनिवार सुबह रिपोर्ट आने के बाद पाया गया कि गोशालाओं में गंभीर अनिमितताएं थीं, इसके बावजूद जिम्मेदार अधिकारी लापरवाह बने रहे। इसलिए भाजपा शासित राज्य की गोशालाओं में 250 गायों की मौत के रूप में बड़ी घटना सामने आई।

कृषिमंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने दूरभाष पर कृषि सचिव को दुर्ग जिले के उपनिदेशक (पशुपालन) डॉ. एम.के. चावला, बेमेतरा के उपनिदेशक (पशुपालन) डॉ. ए.के. सिंह, धमधा क्षेत्र के वीएएस डॉ. सत्यम मिश्रा व डॉ. भारतेश शर्मा, एवीएफओ एलएस सोरी, साजा क्षेत्र के वीएएस डॉ. एम.एन. झा, डॉ. पुष्पराज खटकर, एवीएफओ के.के. ध्रुव और एलडी चंद्राकार को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के निर्देश दिए हैं।

Related posts

Share
Share