You are here

2019 में ‘बड़े खिलाड़ी’ बनने की तैयारी में अखिलेश, पूरे प्रदेश में संघियों भारत छोड़ो का नारा बुलंद

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने मोदी और योगी सरकार के खिलाफ हल्‍ला बोल दिया है। रामनगरी आयोध्‍या से शुरू हुआ अखिलेश का ‘देश बचाओ, देश बनाओ’ अभियान एक साथ पूरे प्रदेश में शुरू हुआ है। इस दौरान अखिलेश की रैली में जुटे हजारों की तादात में सपा कार्यकर्ताओं ने ‘संघियों भारत छोड़ो, मोदी भारत छोड़ो’ का नारा बुलंद किया।

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर केंद्र की नरेंद्र मोदी और प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ ‘देश बचाओ-देश बनाओ’ का आगाज किया. इस आंदोलन के जरिए प्रदर्शन करने खुद अखिलेश यादव जहां फैजाबाद जिला मुख्यालय पहुंचे तो वहीं पार्टी कार्यकर्ता अपने-अपने जिला मुख्यालयों में सड़क पर उतरे.

बेरोजगारी को लेकर मोदी पर हमला-

अखिलेश यादव ने देश में फैली बेरोजगारी पर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला किया। सपा का आरोप है कि तीन साल का शासन बीत जाने के बाद भी मोदी सरकार ने युवाओं से किए अपने वादे पूरे नहीं किए हैं। जिससे देश भर के युवा हतोत्साहित हैं।

अखिलेश की इस कवायद को 2017 के विधानसभा चुनाव में खोया जनाधार वापस पाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. हालांकि अखिलेश 2019 के सियासी संग्राम की भी तैयारी कर रहे हैं, ताकि बीस महीने बाद होने वाले इस रण में वे सुल्तान बन सकें.

अयोध्या से ही आगाज क्यों ?

अखिलेश यादव मोदी और योगी सरकार के खिलाफ संघर्ष करने उतरे हैं. एसपी कार्यकर्ता ‘देश बचाओ-देश बनाओ’ अभियान के तहत जहां अपने अपने गृह जनपद के जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर रहे थे. तो वहीं अखिलेश यादव खुद फैजाबाद पहुंचे. फैजाबाद में उनके पहुंचने के कई मायने हैं.

राममंदिर विवाद वाला अयोध्या फैजाबाद जिले में ही आता है. बीजेपी की पूरी राजनीति आयोध्या के सहारे आगे बढ़ी है. मौजूदा समय में देश और सूबे दोनों जगह बीजेपी की सरकार है. ऐसे में अखिलेश बीजेपी के अस्त्र से उसे ही मात देने की कोशिश में हैं. अखिलेश ने राम नगरी की सड़कों पर उतरकर बता दिया है कि संघर्ष की बदौलत वो लोगों को छलने वाले मुद्दे पीछे छोड़ देंगे।

अगस्त क्रांति के बहाने नई क्रांति का आह्वान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले हफ्ते ही मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि अगस्त का महीना एक तरह से क्रांति का महीना है. इस महीने को क्रांति के महीने के रूप में मनाया जाना चाहिए, ताकि देश की युवा पीढ़ी आजादी के लिए दिए गए बलिदान को समझ सके. एक अगस्त को असहयोग आंदोलन और नौ अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन शुरू हुआ था.

15 अगस्त को देश आजाद हुआ. मोदी की इस अगस्त क्रांति के जवाब में सपा प्रमुख अखिलेश ने 9 अगस्त यानी क्रांति दिवस के दिन ही ‘देश बचाओ-देश बनाओ’ का आगाज किया. दरअसल पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रवाद का मुद्दा सियासत के केंद्र में रहा है और बीजेपी उसे भुनाती रही है. ऐसे में बीजेपी और मोदी दोनों के मुकाबले अखिलेश ने खड़े होने की कोशिश की है.

विपक्ष का मजबूत चेहरा बनने की कवायद- 

मौजूदा दौर में नरेंद्र मोदी के खिलाफ विपक्ष का कोई ऐसा चेहरा नहीं, जो 2019 में विपक्ष का नेतृत्व कर सके. कुछ समय पहले तक लोग नीतीश कुमार को विपक्ष के चेहरे के तौर पर देख रहे थे, लेकिन भाजपा के संग उनके मिल जाने से ये जगह पूरी तरह से खाली है.

अखिलेश यादव इस बात को बखूबी समझ रहे हैं कि वो मोदी के खिलाफ बिगुल फूंकने में कामयाब हो जाते हैं, तो निश्चत रूप से वो विपक्ष का एक मजबूत चेहरा बन जाएंगे. सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल भी यही दावा कर रहे हैं कि अखिलेश यादव साफ सुथरी छवि के नेता हैं, उन्होंने पांच साल यूपी के मुख्यमंत्री रहकर जो विकास के काम किए हैं, उतना काम पिछली किसी भी सरकार में नहीं हो सका है.

विपक्षी नेताओं से अखिलेश के रिश्ते मधुर- 

अखिलेश यादव के विपक्षी पार्टियों से रिश्ते मधुर हैं. राहुल गांधी के साथ गठबंधन करके तो वो विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं. जीत भले ही न मिली हो लेकिन ये रिश्ते अब भी बरकरार हैं. इसके अलावा मायावती के साथ एसपी के रिश्ते में जो खटास थी उन कांटों को भी अखिलेश ने निकालने का प्रयास किया है.

मायावती का सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव से छत्तीस का आंकड़ा रहा है. एसपी में इन दिनों दोनों नेताओं की फिलहाल दखलअंदाजी नहीं रह गई है. ऐसे में मायावती को भी अखिलेश के साथ जाने में अब कोई बड़ी दिक्कत नहीं होगी. पिछले दिनों अखिलेश ने तो साफ तौर पर कहा था कि बीएसपी के साथ जाने में उन्हें कोई दिक्कत नहीं है.

बीजेपी को हराने के लिए वो किसी के साथ भी जा सकते हैं. बीएसपी और एसपी दोनों इन दिनों सूबे में अपना आधार खो चुकी हैं, ऐसे में कोई भी पार्टी अकेले मोदी का मुकाबला नहीं कर सकती.

सपा के लिए 2019 का चुनावी आगाज- 

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने ‘नेशनल जनमत’ से कहा कि मोदी सरकार ने तीन साल में देश का बेड़ा गर्क कर दिया है. बीजेपी सरकार द्वारा अलोकतांत्रिक तौर-तरीके से असहमति की आवाज दबाई जा रही है.

योगी राज में किसान तबाह हैं और महिलाएं असुरक्षित हैं. यही नहीं छात्रों और नौजवानों के भविष्य के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस अभियान के जरिए सपा 2019 का चुनावी आगाज कर रही है.

Related posts

Share
Share