You are here

अब AIIMS में दिखेगा पटेलों का दम, अभिषेक, सुष्मिता और क्षितिज पटेल का MBBS में चयन

नई दिल्ली। नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत) 

देश के सबसे प्रतिष्ठित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंस यानि एम्स में भी अब पटेल समाज का प्रतिनिधित्व दिखाई देगा. हाल में ही आए एम्स के मेडीकल परीक्षा के रिजल्ट में बाराबंकी के अभिषेक वर्मा, मिर्जापुर की बेटी सुष्मिता पटेल और मिर्जापुर के ही क्षितिज पटेल ने बाजी मार ली है.

अभिषेक वर्मा की नौ वीं रैंक- 

दिनेश वर्मा के बेटे अभिषेक वर्मा ने इतिहास रचते हुए एम्स की परीक्षा में देश में ओबसी वर्ग में 9वीं रैंक हासिल की है। सामान्य वर्ग में अभिषेक की रैंक 72 वीं है।

इसे भी पढ़ेंशर्मनाक- वसुंधरा सरकार के निर्लज्ज और बेहूदे स्वच्छता आदेश ने ली है समाजसेवी जफर खानी की बलि

जिला जेल अस्पताल में तैनात हैं अभिषेक के पिता- 

वर्तमान समय में जेल कॉलोनी बाराबंकी में रह रहे मूल रूप से उन्नाव जिले के भगवंतनगर धनकौली निवासी फार्मासिस्ट दिनेश वर्मा का अभिषेक इकलौते बेटे हैं अभिषेक अभिषेक ने बताया कि वह शुरू से ही डॉक्टर बनने की तमन्ना रखते हं था जिसके लिए उसने इस परीक्षा में भाग लिया है। रैंक के हिसाब से अभिषेक को पढ़ाई के लिए दिल्ली एम्स जैसा कॉलेज मिलने से परिवारीजनों में खुशी की लहर दौड़ गई है। मां गृहणी नीलम वर्मा भी बेटे की सफलता से काफी गदगद हैं।

पिता दिनेश ने बताया कि अभिषेक शुरू से ही पढ़ाई में होनहार रहा है। हाईस्कूल में जहां 10 सीजीपीए मिला था वहीं उसने लखनऊ के एक स्कूल से सीबीएसई बोर्ड से इसी वर्ष इंटर की परीक्षा में भी 96.4 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। दसवीं पास करने के बाद अभिषेक ने लखनऊ स्थित एक इंस्टीट्यूट में पढ़ने के लिए परीक्षा दी थी जिसमें उसका सौ ऐसे बच्चों में 60वां स्थान आाया था जिन बच्चों को निशुल्क कोचिंग दी जाती है।

इसे भी पढ़ें-सुमित पटेल को गोली मारने वाले सिंहों के बचाव में योगी पुलिस, 8 पीड़ित कुर्मियों को ही ठूंसा जेल मेें

जिसके बाद से अभिषेक यहीं से एमबीबीएस की कोचिंग कर रहा था। छात्र की इस कामयाबी पर जेल अधीक्षक आलोक सिंह, जेल पंकज सिंह, डिप्टी जेलर संतोष वर्मा, मोनिका राणा आदि ने उसे बधाई देते हुए उन्नति भविष्य की कामना की है।

कैसा लगा।

मिर्जापुर के क्षितिज पटेल ने 305वां स्थान  हासिल किया.  

अदलहाट मिर्जापुर

जमालपुर विकास खण्ड के खाजगीपुर गाँव के बेटे क्षितिज पटेल ने मेडिकल की सर्वोच्च परीक्षा एम्स की परीक्षा में 305वां स्थान हासिल कर जिले का मान बढ़ाया है।चिकित्सक परिवार के डाॅ०एस.बी.सिंह पटेल वरिष्ठ शिशु एवं बाल राेग विशेषज्ञ एवं डाॅ० रश्मि सिंह पटेल वरिष्ठ चिकित्साधिकारी सोनभद्र के सुपुत्र क्षितिज पटेल का चयन मेडिकल के सर्वोच्च परीक्षा एम्स में चयन होने पर गाँव परिवार व जिले के लोग खुशी से झूम उठे।परिवार के लोगों ने मिठाई खिलाकर बधाई दी।

इसे भी पढ़ें- पत्रिका ग्रुप के मालिक का सरकार पर हमला, मीडिया मैनेज कर जनता तक झूठी खबरें पहुंचा रहे हैं मोदी

क्षितिज का चयन पिछले वर्ष प्रथम प्रयास में ही नीट में हुआ था लेकिन पसन्दीदा कालेज न मिलने से इन्होंने एक बार फिर से परीक्षा देने का फैसला किया आैर इस बार एम्स में सफल रहकर अपने इरादे काे साबित कर दिखाया। उन्होंने डीपीएस वाराणसी से एवं दिल्ली से पढ़ाई की।इनकी बड़ी बहन भी डॉक्टर हैं। संयुक्त परिवार में पिछले साल चचेरी बहन का आई. आई. टी.में चयन हुआ था आैर अभी आई. आई. टी., बी. एच. यू. वाराणसी में अध्ययनरत हैं। जबकि चाचा सीएचएस में शिक्षक हैं एवं छाेटे चाचा तथा चाची महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं।चयन से पूरे जिले में हर्ष का माहौल है।

मिर्जापुर के जमालपुर की सुष्मिता पटेल की 870 वींं रैंक- 

जमालपुर मिर्जापुर- 

मिर्जापुर जिले के जमालपुर क्षेत्र की बेटी ने सुष्मिता पटेल ने प्रतिष्ठित एम्स की परीक्षा मे हासिल की कामयाबी। सुष्मिता पटेल जमालपुर थाना क्षेत्र के मनई गांव के साधारण किसान परिवार से है। पारस नाथ सिंह की पौत्री सुष्मिता को एम्स मेडिकल (AllMS)परीक्षा  में 870 रैंक मिली है. जिसको लेकर पुरे क्षेत्र मे खुशी का माहौल देखा गया, वही बधाईया देने वालो का ताता लगा रहा।

इसे भी पढ़ें- किसानोंं की दुश्मन बनी भाजपा सरकार, अब खेती-किसानी पर भी लगेगा टैक्स

कैंसर स्पेशलिस्ट बनना चाहती हैं सुष्मिता- 

सुष्मिता पटेल की ख्वाहिश कैन्सर मे रिसर्च करने की है, वो कहती हैं मैं डॉक्टर बनकर गरीबों की सेवा के साथ साथ देश का मान सम्मान बढ़ाना चाहती हूं।

Related posts

Share
Share