You are here

बछड़ों-पड़रों का इंतजाम करे योगी सरकार नहीं तो पशुपालक इन्हें DMऑफिस में बांध देंगे- अखिलेश

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो।

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष औऱ सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चेतावनी देते हुए ट्वीट किया है कि ‘ योगी सरकार गाय के बछड़ों और भैंस के पड़रों के खाने-पीने की शीघ्र ही उचित व्यवस्था करें.

सरकार को चेतावनी देते हुए ट्वीट किया कि यदि जल्द ही गाय के बछड़ों और भैंस के पड़रों के खाने-पीने की व्यवस्था नहीं की गई तो किसान और पशुपालक अपने बछड़ों और पड़रों को अपने-अपने जिलों के जिलाधिकारी कार्यालय में भेंट करेंगे.

इसे भी पढ़ें…सोशल मीडिया पर विकलांग किसान की फोटो देख अखिलेश यादव ने घर भिजवा दी बैलों की जोड़ी

खेती किसानी में ट्रैक्टर के उपयोग ने बैलों और पड़रों को अनुपयोगी बना दिया है- 

आपको बता दें कि पहले खेती में बैलों को हल में चलाकर उपयोग में लिया जाता था पर अब ट्रेक्टर आने से जुताई का काम बैलों से न करके ट्रेक्टर से होने लगा, इससे बैल बेकार हो गए हैं और किसानों पर बैलों को खिलाने-पिलाने का अतिरिक्त बोझ बढ़ गया है। वहीं अन्ना जानवरों के कटने पर सरकार की रोक से गांवों में फसल बर्बाद करने वालों जानवरों की संख्या बढ़ती ही जा रही है.

भैसों के पड़रों को पहले बोझा ढ़ोने के काम में लाया जाता था पर अब ट्रैक्टर से ढ़ुलाई का भी काम किया जाने लगा है. इससे भैंस के पड़रे भी अब बेकार हो गए हैं.  किसानों को गाय के बछड़ों को और भैंस के पड़रों को पालना आर्थिक रूप से घाटे का सौदा हो गया है। ऐसे में गांव में किसान इन जानवरों को छुट्टा ही छोड़ दे रहे हैं जिससे ये जानवर दूसरे किसानों की फसलों के लिए भीं गंभीर संकट बन गए हैं। किसानों की इसी समस्या को समझते हुए ही अखिलेश यादव ने योगी सरकार से इन छुट्टा जानवरों के समुचित खाने – पीने की व्यवस्था करने की मांग की है।

आपको बता दें कि इस समय सारे उत्तर प्रदेश का किसान अन्ना जानवरों ( ऐसे जानवर जिनके मालिकों ने उन्हें चारे और पानी के अभाव में खुला छोड़ दिया है) के आतंक से परेशान है. भाजपा नेताओं द्वारा गाय पर की जाने वाली राजनीति के चलते अब जानवर बेचना भी आसान नहीं रह गया है।

इसे भी पढ़ें…फकीर पीएम झारखंड के दौरे पर खा गए 44 लाख का खाना , 75 मिनट के दौरे पर 9 करोड़ रूपए खर्च

ऊना आंदोलन औऱ लालू यादव से मिला अखिलेश को आइडिया

आपको बता दें कि गुजरात के ऊना में दलितों द्वारा जानवरों की खाल उतराने पर कुछ लोगों ने दलित युवकों की पिटाई कर दी थी। इसी से नाराज होकर पूरे गुजरात के दलितों ने मृत जानवरों को जिलाधिकारी के कार्यालय के गेट पर फेंक दिया था. अखिलेश यादव ने भी ऊना के आंदोलनकारियों से सीख लेकर योगी सरकार के चेतावनी दी है कि यदि योगी सरकार ने बछड़ों और पड़रों के खाने-पीने की उचित व्यवस्था नहीं की तो जल्द ही यूपी के पशुपालक औऱ किसान जिलाधिकारी कार्यालय पर अपने जानवर बांधेंगे।

इसे भी पढ़ें…दलित आक्रोश से घबराया संघ, जुटा वोट मैनेजमैंट में, गुजरात चुनाव से पहले निकालेगा दलित रथयात्रा

लालू यादव ने किसानों से कहा था दूध न देने वाली गायों को भाजपा नेताओ के दरवाजे पर बांध दो- 

कुछ दिन पूर्व बिहार के राजगीर में राष्ट्रीय जनता दल के सम्मेलन में राजद अध्यक्ष लालू यादव ने अपने कार्यकर्ताओं से कहा था कि ‘ भाजपा वाले गाय को माता कहते हैं,  ऐसा करिए आप लोग अपने घर की दूध न देने वाली गायों को भाजपा नेताओं के घरों में बांध दीजिए। देखते हैं भाजपा वाले अपनी माता की सेवा करते हैं या नहीं। इसी तर्ज पर हो सकता है कि अखिलेश यादव ने योगी प्रशासन की परीक्षा लेने का मन बनाया हो।

चूंकि सीएम योगी लगातार गाय और पशुधन को बचाने की बाते करते हैं। इसीलिए अखिलेश ने योगी सरकार को अपना वादा याद दिलाते हुए कहा है कि योगी सरकार के गाय के बच्चों यानि बछड़ों के खाने-पीने की उचित व्यवस्था करनी चाहिए।

Related posts

Share
Share