You are here

इलाहाबाद: हाईकोर्ट के वकील विजय गुप्ता की हत्या, भाजपा विधायक के भाई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

इलाहाबाद। नेशनल जनमत ब्यूरो।

इलाहाबाद हाइकोर्ट में प्रेक्टिस करने वाले वकील विजय गुप्ता की हत्या कर दी गई है. हत्या कर उसका शव कुए में फेक दिया गया. दो दिन पहले शाम को जब ग्रामीणों ने पानी पर तैरती हुई लाश देखी तो शव बाहर निकाला गया. शव की पहचान हाइकोर्ट के अधिवक्ता विजय कुमार के रूप में हुई है. इस हत्या में बीजेपी के विधायक का भाई नामजद है. शव मिलने के बाद ग्रामीणों ने सड़क पर शव रख कर हंगामा कटा तो कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची. पुलिस ने डंडा पटक कर ग्रामीणों को खदेड़ा और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

बीजेपी विधायक के भाई पर था विजय गुप्ता के अपहरण का आरोप

घटना उतरांव इलाके की है. यहां रहने वाले अधिवक्ता विजय कुमार 3 दिन से लापता थे. 7 जून को बीजेपी के फूलपुर विधायक के भाई के विरुद्ध विजय के अपहरण का मुकदमा दर्ज हुआ था. पुलिस मामले की जाँच में जुटी थी की 10 जून को विजय की कुंए में लाश मिली. मामले में उतराव पुलिस ने बताया कि हाईकोर्ट के अधिवक्ता विजय कुमार गुप्ता के अपहरण का मुकदमा 7 जून को पिता बंसीलाल की तहरीर पर लिखा गया.

इसे भी पढ़ें…गोली खाई पटेलों ने और मीडिया चमका रहा RSS वाले शर्मा जी का चेहरा

मुकदमे में आरोपी फूलपुर विधानसभा सीट से भाजपा विधायक के अनुज छोटे सिंह है. तहरीर के अनुसार विजय 3 जून को अपनी बाईक से घर से निकले. उन्होंने घर में बताया कि थोड़ी देर में लौट कर आ रहा हूं लेकिन देर रात तक वह नहीं लौटा. जब फोन पर जानकारी लेने की कोशिश की गई तो फोन भी स्विचऑफ मिला. रात गुजर गई लेकिन विजय का कुछ पता न चला। अगले दिन हर संभव जगह खोजबीन शुरू हुई. यार दोस्त और रिश्तेदारी में खबर दी गई लेकिन विजय कहीं नहीं मिला.

इसे भी पढ़ें…यूपी बोर्ड – नियमों को ताक पर रखकर टॉप कर गईं मिश्रा जी बेटी, अब एफआईआर की तैयारी

विजय को अपनी हत्या का अंदेशा हो गया था इसलिए उसने अपने मित्र मोहम्मद शमीम को अपने सम्भावित ह्त्यारों के बारे में बता दिया था

4 जून को पिता बंसीलाल के पास मोतिया गांव के मोहम्मद शमीम पहुचे तो उन्होंने जो राज खोला उससे सब चौक गए. बंसीलाल के अनुसार शमीम ने बताया कि 3 जून की रात में 9:20 पर उसे विजय का फोन आया था. तब उसने कहा था क़ि अगर मेरी हत्या हो जाती है या मैं गायब हो जाता हूं तो मेरे घरवालों से कह देना कि उसमें भाजपा विधायक के भाई छोटे सिंह का हाथ है. वह ही इस सब के पीछे जिम्मेदार है. उसके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा देंगे. बंसीलाल ने तत्काल थाने में संपर्क किया.

मामला भाजपा विधायक से जुड़ा होने के कारण पुलिस ने कार्यवाही नहीं की

लेकिन विधायक से मामला जुड़ा होने के कारण कार्यवाही नहीं हुई. पुलिस ने तहरीर ले ली और जांच का भरोसा दिलाया. परिजनों ने किया प्रदर्शन पुलिस कोई कारवाही कर नहीं रही थी और विजय का कोई पता नहीं चल रहा था. जिससे नाराज बंसीलाल परिजनों व ग्रामीणों के संग पुलिस डीआईजी के कार्यालय पर प्रदर्शन करने पहुंचे. प्रदर्शन के बाद अधिकारियो के निर्देश पर आखिरकार बंसीलाल की तहरीर पर भाजपा विधायक के भाई छोटे सिंह निवासी झूंसी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. घटना के बाद से छोटे सिंह फरार हैं.

इसे भी पढ़ें…upsc: विक्लांगों को भी नहीं छोड़ा, लिखित में आगे हैं ओबीसी, लेकिन इंटरव्यू में कम कर दिए मार्क्स

मामले में इलाहाबाद के एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने कहा कि मुकदमा दर्ज करके जांच की जा रही थी. लाश मिली है. पानी में होने की सड़ गई है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह साफ होगी. फिलहाल बवाल की आशंका को देखते हुए गांव में फोर्स लगा दी गई है.

Related posts

Share
Share