You are here

इलाहाबाद में डॉ. सोनेलाल पटेल जयंती पर ‘अपना दल’ की महारैली आज, मुख्य अतिथि हैं हार्दिक पटेल

नई दिल्ली/लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो 

किसानों कमेरों के नेता बोधिसत्व डॉ. सोनेलाल पटेल जयंती के उपलक्ष्य में इलाहाबाद में अपना दल पटेल दिवस मनाएगी। पटेल दिवस पर आयोजित किसान महारैली में मंच अपना दल का होगा. भीड़ किसानों-कमेरों की होगी और मंच पर हाथ हिलाने वाले नेता भी किसान और कमेरे ही होंगे।

इसे भी पढ़ें- यहां दलितों का नहींं ब्राह्मणवादियों का प्रवेश वर्जित है…देखिए ये भीमवादी गेट

जी हां इलाहाबाद के सहसो चौराहा पर आयोजित किसान महारैली में पटेल नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष पाटीदार नेता हार्दिक पटेल मुख्यअतिथि होंगे और दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णा पटेल अध्यक्षता करेंगी। विशिष्ट अतिथि के बतौर अपना दल की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल संबोधित करेंगी।

कुर्मियों का उत्पीड़न होगा मुद्दा-

पीएनएस और जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार ने बताया कि मंच पर हार्दिक पटेल प्रदेश में हो रहीं कुर्मियों की हत्याओं और पुलिस द्वारा फर्जी मामले दर्ज कर हो रहे उत्पीड़न को मुख्य मुद्दा बनाएंगे। इसके अलावा केन्द्र सरकार किसान विरोधी नीतियों से पूरे देश में मर रहे किसानों की बात भी मंच से उठाई जाएगी.

इसे भी पढ़ें- मोदी-योगी के उत्पीड़न का जवाब कुर्मियों को रामस्वरूप वर्मा के संघर्षों से देना होगा- हार्दिक पटेल

जीएसटी से किसानों की बर्बादी पर होगा हल्ला बोल- 

अपना दल की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पल्लवी सिंह पटेल ने बताया कि किसान महारैली में प्रदेश में योगी सरकार द्वारा कुर्मी-किसान-पटेल समेत दलित और पिछड़ी जातियों का उत्पीड़न मुख्य मुद्दा होगा. इसके अलावा पहले से कर्ज के बोझ तले दबे किसानों को जीएसटी की मार से बर्बाद करने की सरकार की मंशा पर हल्ला बोला जाएगा।

अपना दल के संस्थापक डॉ. सोनेलाल कमेरों और किसानों के नेता थे- 

किसानों में राजनीतिक चेतना जगाने वाले डॉ. सोनेलाल पटेल ने 30 अक्टूबर 1994 को कुर्मी स्वाभिमान योजना रथ यात्रा के माध्यम से प्रदेश के 38 जिलों में भ्रमण कर रैली करने करने निर्णय लिया । 19 नवम्बर 1994 का लखनऊ के बेगम हजरत महल पार्क में कुर्मी समाज के लोगों ने देश के राजनैतिक दलों को अपनी ताकत का एहसास करा दिया। जिससे राजनैतिक दलों मे खलबली मच गयी।

इसे भी पढ़ें- देश तो अर्धगुलामी के प्रजा भाव में जी रहा है, कहां गए हक छीनकर लेने वाले नेता, जिंदा तो हैं ना

इस रैली के मुख्य अतिथि डा0 सोनेलाल पटेल थे। इस रैली में डा0 पटेल ने एहसास करा दिया कि प्रदेश में कुर्मी समाज किसी से पीछे नही है। बल्कि स्वयं आगे चलने में सक्षम है। इस कार्यक्रम के 9 माह तक विचार मंथन के बाद पुनः कुर्मी स्वाभिमान राजनैतिक चेतना रथ यात्रा के माध्यम से लगभग 47 दिन का कार्यक्रम तय किया गया जो 17 सितम्बर 1995 को कानपुर से शुरू हुआ।

जिसमें रथ यात्रा प्रदेश के अधिकांश जिलों में जनसभा के माध्यम से कुर्मी समाज को ललकारा गया और राजनैतिक सोच पैदा की गई। जिसका समापन 31 अक्टूबर 1995 को पटेल जयन्ती के दिन खीरी जनपद से किया गया और रथ यात्रा को सीतापुर मे रोक दिया गया।

4 नवम्बर 1995 को लखनऊ के बेगम हजरत महल पार्क में कुर्मी स्वाभिमान राजनैतिक चेतना रैली प्रस्तावित थी परन्तु स्थान न मिल पाने के कारण बारादरी के मैदान में रैली की गयी। जिसमें लाखों लोगो की उपस्थिति थी जो आज तक की सबसे बड़ी समाज की रैली साबित हुई। इसी रैली में ‘‘अपना दल’’ नाम की राजनैतिक पार्टी का गठन किया गया। इस रैली के मुख्य अतिथि डा0 सोनेलाल पटेल थे। अपना दल की घोषणा इं0 बलिहारी पटेल ने की जो डॉ. साहब के निकटतम सहयोगी थे।

इसे भी पढ़ें- मोदीराज ओबीसी-एससी-एसटी के साथ इंजीनियरिंग में भी साजिश, ओपन सीट में सिर्फ सवर्णों का चयन

Related posts

Share
Share