You are here

अल्पेश ठाकोर का तंज, 4 लाख का मशरूम हर रोज खाकर लाल हुए हैं PM मोदी, पहले मेरी तरह थे सांवले

नई दिल्ली, अहमदाबाद, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पुरानी पुरानी तस्वीरों और वर्तमान में कपड़े बदलने के शौक को लेकर सोशल मीडिया पर अक्सर सवाल उठते रहे हैं। अब कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने पीएम के गोरेपन पर ही सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं।

गुजरात के युवा ओबीसी नेता और अब कांग्रेस के सदस्य अल्पेश ठाकोर ने कहा कि जो मोदी साहब खाते हैं वो आप नहीं खा सकते। मोदी जी ताइवान से मंगा कर मशरूम खाते हैं।

ताइवान से आता है मशरूम- 

अल्पेश ने कहा है कि पीएम मोदी ताइवान से मशरूम मंगवा कर खाते हैं। पीएम जो मशरूम खाते हैं उस एक मशरूम की कीमत 80 हजार रुपए है। पीएम दिनभर में ऐसे पांच मशरूम खाते हैं।

अल्पेश ठाकोर का कहना है कि पीएम मोदी अपना रूप निखारने और गोरा होना के लिए ये मशरूम खाते हैं। दरअसल मंगलवार को गुजरात में एक जनसभा को संबोधित करते हुए अल्पेश ठाकोर ने कहा कि, किसी ने मुझे ये बोला कि जो मोदी साहब खाते हैं वो आप नहीं खा सकते।

80 हजार रुपये पीस का मशरूम मंगाते हैं प्रधान सेवक- 

मोदी जी ताइवान से मंगा कर मशरूम खाते हैं। ताइवान से जो मशरूम आता है उसके एक पीस की कीमत 80 हजार रुपए है और मोदी साहब हर रोज के 5 मशरूम खाते हैं।

अल्पेश ठाकोर ने ये भी कहा कि नरेंद्र मोदी पीएम बनने से पहले जब गुजरात के सीएम थे तभी से वह ऐसा कर रहे हैं। इसी मशरूम के इस्तेमाल से मोदी जी गोरे हो गए नहीं तो वो पहले मेरे जैसे ही काले थे।

अल्पेश ने मंच से वहां मौजूद लोगों से ये भी कहा कि आप समझ लिजिए कि जो प्रधानमंत्री दिन के 4 लाख और महिने के 1 करोड़ 20 लाख के मशरूम खा जाता हो उसे यहां का दाल चावल पसंद नहीं आएगा।

गुजरात चुनाव: हार-जीत से परे इन 3 युवा शख्सियतों ने पूरे देश के युवाओं को ऊर्जा से भर दिया है

नीतीश की स्कीम पर मोदी सरकार ने लगाई रोक, रेल कर्मचारियों के बच्चों को नहीं मिलेगा VRS का लाभ

‘भारत माता की जय’ से लोगों को बेवकूफ बनाया जा रहा है, लेकिन मैंने बेवकूफ बनने से मना कर दिया है !

क्या ये बदलाव की आहट है? अब शिवसेना भी बोली, गुजरात चुनाव में मोदी ने खुद को छोटा बना लिया है

अगर देश के PM सच बोल रहे हैं, तो कांग्रेस नेताओं पर क्यों नहीं चलाते ‘राष्ट्रदोह’ का मुकदमा ?

लखनऊ: सामाजिक चिंतक PCS डॉ. राकेश पटेल की पुस्तक विमोचन में, 17 को होगा बुद्धिजीवियों का जुटान

Related posts

Share
Share