You are here

अमेजॉन द्वारा महिला को ‘प्रोडक्ट’ बनाने के बाद महिलाओं से तीखा सवाल करती एक कविता

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

अमेज़न इंडिया ने अपनी साइट पर एक प्रोडक्ट रिलीज़ किया है. प्रोडक्ट क्या रिलीज किया है, निहायत ही घटिया स्तर की मार्केटिंग तकनीकि का इस्तेमाल किया है. जिसे लेकर देश की महिलाओं में काफ़ी गुस्सा है और इस गुस्से को सोशल मीडिया पर निकाल भी रही हैं. बहरहाल अब महिलाओं की मांग है कि अमेजन को इस प्रोडक्ट को हटाने के साथ ही देश की महिलाओं से माफी भी मांगनी चाहिए.

ये भी पढ़ें-क्या बलात्कार को बढ़ावा दे रही है अमेजन इंडिया, महिलाओं ने कहा माफी मांगनी होगी

ऐसी ही एक कविता जो उल्टा महिलाओं से ही सवाल दाग रही है-

मैं हैरान हूँ
यह सोच कर
किसी औरत ने उठाई नहीं ऊँगली
तुलसी पर
जिसने कहा —
“ढोल गवांर शूद्र पशु नारी
ये सब ताड़ना के अधिकारी!”
.
मैं हैरान हूँ
किसी औरत ने
जलाई नहीं
‘मनुस्मृति’
पहनाई जिसने
उन्हें, गुलामी की बेड़ियाँ.
.
मैं हैरान हूँ
किसी औरत ने
धिक्कारा नहीं उस ‘राम’ को
जिसने गर्भवती ‘पत्नी’ को
अग्नि-परीक्षा के बाद भी
निकाल दिया घर से
धक्के मारकर.

इसे भी पढ़ें- योगीराज नियम जूते पर रखकर एक दलित शिक्षक की नियुक्ति नही होने दे रहा ठाकुर प्रबंधक
.
मैं हैरान हूँ
किसी औरत ने
नंगा किया नहीं उस ‘कृष्ण’ को
चुराता था जो नहाती हुई
बालाओं के वस्त्र
‘योगेश्वर’ कहलाकर भी
मानता था रंगरलियाँ
सरेआम.
.
मैं हैरान हूँ
किसी औरत ने
बधिया किया नहीं उस इन्द्र को
जिसने किया था अपनी ही
गुरुपत्नी के साथ
बलात्कार.
.
मैं हैरान हूँ
किसी औरत ने
भेजी नहीं लानत
उन सबको, जिन्होंने
औरत को समझ कर एक ‘वस्तु’
लगा दिया उसे जुए के दाव पर
होता रहा जहाँ ‘नपुंसक योद्धओं’ के बीच
समूची औरत जात का
चीरहरण.
.
मैं हैरान हूँ
यह सोचकर
किसी औरत ने किया नहीं
संयोगिता-अम्बालिका के दिन-दहाड़े
अपहरण का विरोध
आज तक.

इसे भी पढ़ें- सीएम योगी और डीप्टी सीएम शर्मा के जाति वालो को बांटे जा रहे हैं मलाईदार पद, मौर्या किनारे

और …….
मैं हैरान हूँ
इतना कुछ होने के बाद भी
क्यूँ अपना ‘श्रद्धेय’ मानकर
पूजती हैं मेरी माँ-बहनें
उन्हें देवता और
भगवान बनाकर.
.
मैं हैरान हूँ!
.
शर्म से पानी-पानी हो जाता हूँ
उनकी चुप्पी देखकर.
इसे उनकी
सहनशीलता कहूँ, या
अंधश्रद्धा
या, फिर
मानसिक गुलामी की
पराकाष्ठा?

Related posts

Share
Share