You are here

‘दूध से धुली’ BJP सरकार ने KBC वाली ईमानदार महिला तहसीलदार के किए 14 साल में 25 ट्रांसफर

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

खुद को पाक साफ और देश की हर विपक्षी पार्टी को देशद्रोही और भ्रष्ट साबित करने पर तुले बीजेपी नेतृत्व को जरा अपना गिरबान झांकने की जरूरत है। मध्य प्रदेश में ही व्यापम  घोटाले, भगवाधारियों की गुंडागर्दी समेत आकंठ भ्रष्टाचार में डूबी इस दूध की धुली सरकार का पर्दाफाश अब एक ईमानदार तहसीलदार अमिता सिंह तोमर ने किया है। तहसीलदार को 14 साल की बीजेपी शासन की नौकरी में 25 बार ट्रांसफर किया गया है।

इसे भी पढ़ें-शिवराज में बजरंगियों की गुंडागर्दी, प्रांतीय नेता कमलेश ठाकुर तो जबरन थाने से छुड़ा ले गए

केबीसी वाली मैडम से बन गई तबादलों वाली मैडम- 

तहसीलदारअमिता सिंह तोमर। 14 साल की नौकरी में 25 तबादले। 9 जिले और 25 तहसीलों में पोस्टिंग। फिलहाल चर्चा इसलिए कि ब्यावरा से 800 किमी दूर सीधी तबादला होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र औैर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ट्वीट कर न्याय की गुहार लगाई है। एक समाचार पत्र से बातचीत में अमिता सिंह ने कहा कि पहले कभी उन्हें केबीसी वाली मैडम के नाम से पुकारा जाता था, लेकिन अब तबादले वाली मैडम कहकर मजाक उड़ाया जाता है। कहती हैं कि रसूखदारों के अवैध कब्जे हटाने पर बुधवार शाम को मेरा तबादला सीधी कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें- दलितों को गुलाम बनाने का नया पैंतरा, शंकराचार्य ब्राह्मण ही बनेगा लेकिन दलितों को बनाएंगे नागा साधु

पीएम मोदी से लगाई गुहार

इसे भी पढ़ें- मुस्लिमों को देश से भगाने वाले बयानवीर बीजेपी एमएलए का नया पैंतरा, सुरक्षा दो मुझे धमकी मिल रही है

अतिक्रमण हटाया तो कर दिया तबादला- 

‘कौन बनेगा करोडपति’ में 50 लाख रुपये जीतने के बाद सुर्खियों में रहीं अमिता ने बताया कि सरकार ने दो दिन पहले ही मेरा तबादला 500 किमी. दूर सीधी में कर दिया है. उन्होंने आरोप लगाया कि ब्यावरा में उन्होंने जिन प्रभावशाली लोगों का अतिक्रमण हटाया था, उनके कहने पर सरकार ने उनका तबादला किया है.

तीन महीने पहले ही हुआ था तबादला- 

सिंहस्थ कुंभ मेला के दौरान और अन्य कई अवसरों पर अच्छे काम के लिए प्रमाण-पत्र, पुरस्कार एवं मेडल पाने वाली अमिता ने कहा कि केवल तीन महीने पहले ही मुझे ब्यावरा में भेजा गया था. अब मेरा तबादला सीधी कर दिया गया है. मैंने अपने तबादले के बारे में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा प्रदेश के मुख्य सचिव और राजस्व विभाग के प्रमुख सचिव को भी पत्र लिखा है.

एक समाचार पत्र से बातचीत का अंश-   

आपको तबादले के पीछे क्या वजह लगती है?

 पढ़ें- पिछड़ों को डॉक्टर नहीं बनने देगी मोदी सरकार, मेडीकल की पहली सूची में ओबीसी को मिला सिर्फ 2 फीसदी आरक्षण

वजह पता होती तो तबादला रुकवा नहीं लेती। सिंहस्थ में दो पुरस्कार मिले। हर साल पुरस्कार मिल रहे हैं। 120 फीसदी राजस्व वसूली की। अच्छा काम करना गुनाह है।

क्या आपको संघ-भाजपा से जुड़े नेताओं के कब्जे हटाने की वजह से हटाया गया है?

ब्यावरा में गणेश मंदिर की जमीन पर दो मंजिला अवैध मकान बना था। हाईकोर्ट के आदेश के पालन में 15 दिन पहले कब्जा हटाया। एबी रोड पर उपाध्याय परिवार के अवैध निर्माण 5 दिन पहले तोड़े। ये लोग रसूखदार हैं, भाजपा से जुड़े हैं। मुझे तबादले की धमकी दी थी।

क्या पीएम-सीएम से न्याय मिलने की उम्मीद है?

मैंने उन्हें ट्वीट किया है। मैंने गृह जिले ग्वालियर और शिवपुरी का आवेदन दिया था, लेकिन सीधी भेज दिया गया।

Related posts

Share
Share