You are here

ब्लॉक प्रमुख पति के बाद अब अनुप्रिया पटेल के साथ ही अभद्रता, लोग बोले अब तो कुछ बोलिए मंत्री जी !

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

अपना दल (एस) के लिए वोट बैंक की उर्वरा भूमि माने जाने वाले प्रतापगढ़ में अपना दल एस समर्थित ब्लॉक प्रमुख कंचन पटेल और अपना दल एस के प्रदेश सचिव कुलदीप पटेल पर लगातार हमले हो रहे हैं लेकिन अभी तक अपना दल एस की सबसे बड़ी नेता केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने इस मामले में एक बयान तक जारी करना जरूरी नहीं समझा।

प्रतापगढ़ से जुड़े पार्टी के लोग दबी जुबान स्वीकार करते हैं कि केन्द्रीय मंत्री जब प्रतापगढ़ के दौर पर आईं थीं उस समय उनसे निवेदन किया गया था, इन हमलों के पीछे बीजेपी के कैबिनेट मंत्री मोती सिंह का हाथ हैं। इसलिए अपने लोगों में भरोसा पैदा करने के लिए इस प्रकरण पर कुछ बोलिए लेकिन बताया जाता है कि मंत्री महोदया उस समय भी बिना कुछ बोले मंच से उतर गईं।

इतना ही नहीं प्रतापगढ़ में ही अपना दल से जुड़े बॉकेलाल पटेल के बेटे की हत्या हो या इलाहाबाद में अनुज पटेल की हत्या अपना दल (एस) का शीर्ष नेता इन मामलों में खामोश ही रहीं।

इसी बीच में प्रतापगढ़-इलाहाबाद में कुर्मियों की हत्याओं और उत्पीड़न का गिराफ बढ़ता गया लेकिन विश्वनाथगंज से अपना दल एस विधायक डॉ. आर के वर्मा के अलावा कुर्मी के नाम पर राजनीति करने वाला कोई आगे आता नहीं दिखा।

अब एक ओर कुलदीप पटेल लखनऊ के केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती हैं लेकिन शीर्ष पर बैठे अपना दल (एस) के दोनों नेताओं ने उनसे अस्पताल में जाकर मुलाकात करना जरूरी नहीं समझा।

सोशल मीडिया पर लोगों ने उठाए सवाल- 

इस मामले से लोग पहले से ही आक्रोशित थे कि अचानक मिर्जापुर में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल के साथ अभ्रदता की खबर आ गई।

इसके बाद ही केन्द्रीय मंत्री के पति एमएलसी आशीष पटेल ने कहा कि मंत्री जी के साथ मिर्जापुर में कई बार ऐसा होता रहा है। बस फिर क्या था सोशल मीडिया पर लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि अब तो विरोध दर्ज कराइए मंत्री जी कब तक अपमान सहकर शांत बनीं रहेंगी।

सोशल मीडिया पर लोगों ने  प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि समाज के उत्पीड़न को लेकर पूरे प्रदेश के कुर्मी समाज में उबाल है, अब किस बात का इंतजार है। सड़क पर आपका ब्लॉक प्रमुख और पार्टी नेता दौड़ा-दौड़ाकर पीटा जा रहा है अब तो कुछ बोल दीजिए मंत्री जी।

क्या हुआ केन्द्रीय मंत्री के साथ- 

रविवार रात मिर्जापुर से वापस जाते वक्त बगैर नंबर की फोर्ड कार सवार तीन युवकों ने केंद्रीय मंत्री की फ्लीट में कई बार घुसने की कोशिश की। स्कॉर्ट वाहन में मौजूद पुलिसकर्मियों और पीआरओ ने कार सवार तीनों को ऐसा करने से मना किया तो सभी बदसलूकी पर उतर आए।

मामले को गंभीर होता देख केंद्रीय मंत्री ने पुलिस अधिकारियों को फोन कर घटना की जानकारी दी तो मिर्जामुराद में पुलिस ने हाईवे पर बैरिकेडिंग कर कार रोकी और तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। तीनों भदोही निवासी बीएएमएस के छात्र बताए गए हैं।

फब्तियां कस रहे थे युवक- 

अपना दल (एस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व एमएलसी आशीष पटेल ने बताया कि मिर्जापुर के चील्ह से आगे बढ़ने पर तीनों छात्रों ने बिना नंबर की अपनी कार को आगे-पीछे करके फब्तियां कसनी शुरू कर दीं। पहले तो इसे नजरअंदाज किया गया।

औराई से वाराणसी के रास्ते पर छात्रों ने फिर से फब्तियां कसनी शुरू कर दीं। इस दौरान वह गाली भी बक रहे थे और कार से हाथ निकालकर इशारे भी कर रहे थे। युवक ये हरकतें करते हुए एनएच दो पर स्थित कछवां रोड तक गए।

इस पर मंत्री की सुरक्षा में लगे सीआरपीएफ के जवानों ने दौड़ाया तो तीनों भाग गए और फिर कुछ आगे जाकर बदतमीजी शुरू कर दी। इस पर अनुप्रिया पटेल ने वाराणसी पुलिस को सूचना दी। इसके बाद मिर्जामुराद में तीनों को पकड़ लिया गया।

आशीष पटेल बोले सीएम से करेंगे शिकायत- 

घटना पर नाराजगी जाहिर करते हुए आशीष पटेल ने कहा कि हर बार मिर्ज़ापुर में मंत्री के साथ ऐसा होता है। इसकी शिकायत सीएम योगी आदित्य नाथ और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से की जाएगी।

मिर्जापुर के एसपी आशीष तिवारी ने बताया कि तीनों छात्र मंत्री के काफिले और स्कॉट को ओवरटेक करने की कोशिश कर रहे थे। इस दौरान स्कॉट से उनकी कहासुनी भी हुई। जब तीनों नहीं माने तो उन्हें मिर्जामुराद पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

गजब UP ! CM के प्रमुख सचिव पर रिश्वत मांगने का आरोप, आरोप लगाने वाला ही गिरफ्तार, आरोप वापस

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की इस सूची ने साबित कर दिया कि RSS के लिए हिन्दु का मतलब सिर्फ ब्राह्मण है !

नरेन्द्र मोदी के PM बनने के बाद हुए 27 लोकसभा उपचुनाव में BJP एक भी नई सीट जीत नहीं पाई

UPSC को भेजे गए प्रस्ताव में OBC/SC/ST के खिलाफ साजिश और ‘वफादार’ नौकरशाही तैयार करने की बू है

Related posts

Share
Share