You are here

सत्ता वालों ने नहीं ली सुध, बांकेलाल के घर पहुंची अपना दल नेता कृष्णा-पल्लवी पटेल, प्रदर्शन आज

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

उ.प्र. के प्रतापगढ़ में अपना दल नेता बांकेलाल पटेल के 13 साल के पुत्र की बेरहमी से हत्या होने के बाद भी सत्ताधारी नेताओं को इस परिवार का दुख-दर्द नहीं दिखा। हैरत की बात ये है कि कुर्मी समाज की ठेकेदारी लेकर वोट बैंक की खरीद-फरोख्त करने वाले दल भी खामोश बैठे हैं इस नृशंस हत्या पर ना तो उनका कोई बयान आया ना ही उन्होंने मृतक के घर जाने की जहमत उठाई.

इसे देखें-एक थी फूलन : जिसके नाम से सामंती मर्दवाद और मनुवाद की रूहें आज भी कांप उठती हैं !

इस पूरे प्रकरण ने प्रदेश में कुर्मी समाज को एक संदेश दिया है कि एकजुट होकर जब तक संघर्ष नहीं किया जाएगा. सत्ता बदलती रहेगी लेकिन आपकी स्थिति पर कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है. सत्ता में शामिल लोग सिवाए अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करने के और कुछ नहीं करते.  लगता है कि समाज का दुख-दर्द तकलीफ समझने की राजनीति सत्ता के साथ ही खत्म होती जा रही है।

अपना दल अध्यक्ष कृष्णा पटेल व उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल पहुंची- 

प्रतापगढ़ में पट्टी क्षेत्र के पहाड़ा मुरार पट्टी गांव निवासी अपना दल के नेता बांकेलाल पटेल के 13 वर्षीय मासूम पुत्र की पत्थर से कूचकर हत्या होने के बाद सोमवार को पूर्व सपा विधायक राम सिंह पटेल पट्टी पहुंच थे. मंगलवार को अपना दल की अध्यक्ष कृष्णा पटेल और उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल पीड़ित परिवार को सांत्वना देने के लिए पहुंची.

इसे भी देखें-नगर विकास मंत्री के जिले में EO अनिरुद्ध पटेल को पीटने वाले BJP नेता मनोज तिवारी की गिरफ्तारी नहीं

अभी तक नहीं हुआ अंतिम संस्कार- 

बांकेलाल पटेल का कहना है कि मेरे बेटे की हत्या करने वाले दोनों भाई विजय कमार मिश्र और राजेन्द्र कुमार मिश्र मेरी राजनीतिक सक्रियता से जलते है। मेरे विद्यालय को लेकर तमाम कुचक्र रचे जा रहे हैं। मेरे बेटे की तरह ही ये लोग मेरी हत्या भी करा सकते हैं।

मैंने इस बारे में पुलिस प्रशासन को बताकर अपनी सुरक्षा की गुहार भी लगाई है लेकिन अभी तक एक सिपाही भी उपलब्ध नहीं कराया गया। मांगे ना मानने तक वह ना तो अंतिम संस्कार करेंगे न ही अन्न जल ग्रहण करेंगे। इसके बाद नेताओँ ने किसी तरह समझाकर बांकेलाल पटेल को अंतिम संस्कार बुधवार को कराने के लिए राजी कर लिया.

इसे भी पढ़ें-बेटे का शव रखकर अनशन पर बैठे हैं अपना दल नेता बांकेलाल पटेल, प्रशासन मांगे मानने को तैयार नहीं

प्रतापगढ़ में बड़ा आंदोलन करेगा अपना दल- 

अपनी नेता को सामने देख बांकेलाल बिफर पड़े और रोकर अपना दुखड़ा सुनाया. पल्लवी पटेल और कृष्णा पटेल ने उन्हें तसल्ली देते हुए न्याय के लिए संघर्ष का आश्वासन दिया और कहा कि बुधवार को मासूम की अंत्येष्टि के बाद प्रतापगढ़ में भाजपा सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन किया जाएगा क्योंकि यह सरकार किसान विरोधी सरकार है जिसमें हत्या जैसी बात बहुत सामान्य हो चुकी है.

आज पूरे प्रदेश में होगा धरना- प्रदर्शन- 

अपना दल प्रवक्ता आरबी सिंह पटेल ने बताया कि अपना दल का प्रदेश स्तरीय धरना बुधवार 26 जुलाई को आरक्षण के जनक क्षत्रपति शाहू जी के जन्म दिवस पर प्रत्येक जिला मुख्यालय पर होगा। जिसमें 10 बिन्दुओं का ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से दिया जाएगा।

  • कुर्मी समाज के युवाओ की की गई हत्याओं की उच्चस्तरीय जांच.
  • किसान बचाओ, स्वामीनाथन आयोग लागू करो.
  • डॉ सोनेलाल पटेल जी की मृत्यु की सीबीआई से जांच कराई जाय.
  • रायबरेली के हलोर में बीएससी छात्र सुमित पटेल के हत्याकाण्ड की तथा आप्टा काण्ड में घायल अमृतलाल प्रजापति की उपचार दौरान हुई मृत्यु की जांच कराते हुए 50-50 लाख रूपये की आर्थिक सहायता उनके आश्रितों को उपलब्ध कराई जाय.
  • अपना दल विधि मंच के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बांकेलाल पटेल प्रतापगढ़ के पुत्र सूरज पटेल की निर्मम हत्याकांड की सीबीआई से जांच कराई जाए.
  • एक देश एक टैक्स (जीएसटी) की तर्ज पर देश में एक जैसा न्याय, एक जैसी शिक्षा, एक जैसी सुरक्षा तथा नौकरियों में आबादी के हिसाब से प्रतिनिधित्व दिया जाय।

इसे भी पढ़ें-चल रहा मौतों का खेल, मारे जा रहे बेगुनाह पटेल….शायर मुज़म्मिल अय्यूब की झकझोर देने वाली नज़्म

कुर्मी समाज में सरकार के प्रति पनप रहा है असंतोष- 

इलाहाबाद में ब्राह्मणों द्वारा अनुज पटेल की पीट पीटकर हत्या, फतेहपुर में फार्मासिस्ट दिलीप पटेल की गोली मारकर हत्या और झांसी में पीतांबर पटेल के साथ ठाकुर समाज के लागों द्वारा की गई मारपीट अभद्रता, प्रतापगढ़ में अपना दल की ब्लाक प्रमुख को धमकी, रायबरेली मेे हत्या के बााद पीड़ितों को ही जेल मेें ठूंस देने की घटना और अब प्रतापगढ़ में अपना दल नेता के बेटे की हत्या और हत्या के बाद प्रशासन और सत्ताधारी दल के रवैये से कुर्मी समाज में सरकार के प्रति असंतोष बढ़ता जा रहा है.

(प्रतापगढ़ से सूरज वर्मा के इनपुट के साथ)

Related posts

Share
Share