You are here

उत्तर प्रदेश सरकार ने किया अधीनस्थ सेवा आयोग का गठन, पूर्व IAS अरुण कुमार सिन्हा बने सदस्य

लखनऊ. नेशनल जनमत ब्यूरो। 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्य सचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का गठन कर दिया। अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी चन्द्रभूषण पालीवाल को इसका अध्यक्ष बनाया गया है।

इसके साथ ही साफ छवि के पूर्व आईएएस ऑफीसर अरुण कुमार सिन्हा को आयोग का सदस्य बनाया गया है। श्री सिन्हा योगी सरकार में ही एडिश्नल चीफ सेकेट्री स्वास्थ्य के पद से रिटायर हुए हैं।

मूलत: बिहार के रहने वाले अरुण कुमार सिन्हा 1983 बैच यूपी कैडर के आईएएस ऑफीसर हैं। अपनी साफ और स्वच्छ छवि के कारण किसी भी पार्टी या नेता के करीबी होने का आरोप कभी नहीं लगा।

चन्द्रभूषण पालीवाल सपा सरकार में नगर विकास के प्रमुख सचिव रह चुके हैं। आजम खां के चलते इन्हें वहां से हटाकर राजस्व परिषद भेज दिया गया ‌था। दो साल पहले वह रिटायर हुए थे।

श्री सिन्हा के अलावा हृदय नारायण राव, डॉ. सीमा रानी, डॉ. ओंकार प्रसाद मिश्र और अशोक कुमार अग्रवाल को सदस्य नियुक्त किया गया है।

समूह ‘ग’ की भर्तियों का रास्ता साफ- 

रविवार शाम बहुप्रतीक्षित अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के गठन के लिए अध्यक्ष व सदस्यों के नाम पर सीएम ने सहमति दी ‌‌थी। इसके साथ समूह ‘ग’ की भर्तियां शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है। वर्तमान में प्रदेश में समूह ‘ग’ के करीब 60 हजार पद खाली हैं।

योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद आयोग के तत्कालीन अध्यक्ष राज किशोर यादव व एक को छोड़ बाकी अन्य सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था। उस समय आयोग में तमाम पदों के लिए इंटरव्यू हो रहे थे।

तभी से आयोग के पुनर्गठन का प्रस्ताव लंबित था। अध्यक्ष व सदस्य पदों के लिए बड़ी संख्या में अवकाश प्राप्त प्रशासनिक अधिकारियों, अधिवक्ताओं व समाज के अन्य वर्ग से आवेदन आए थे।

आयोग के गठन की देरी की वजह से प्रदेश में जगह-जगह आंदोलन हो रहे थे। शनिवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह व मुख्यमंत्री वाराणसी गए तो वहां भी रिक्त आयोगों के गठन को लेकर आंदोलन हुए थे।

रविवार को लखनऊ लौटने के बाद मुख्यमंत्री ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के गठन को मंजूरी दे दी थी।

BJP नेता यशवंत सिन्हा बोले, घटिया किस्म की तुगलकशाही है आप विधायकों पर राष्ट्रपति का फैसला

20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की सिफारिश, ‘आप’ का हमला, मोदी का कर्ज चुका रहे हैं चुनाव आयुक्‍त

मेरा देश बदल रहा है ! 5000 की नौकरी के लिए M.Phil, इंजीनियरिंग डिग्री वाले कतार में, 117 पद 18000 आवेदन

कानूनविदों और पत्रकारों ने कहा, अमित शाह का केस देख रहे जज लोया की मौत, पूर्व नियोजित हत्या

कभी स्कूटर पर साथ घूमते थे दोनों, CM बनते ही संबंध बिगड़े तो मोदी ने तोगड़िया को साइड लाइन कर दिया

समझिए पूरा मामला, जिसकी वजह से चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने लोकतंत्र को ताक पर रख दिया !

Related posts

Share
Share