You are here

नपा चुनाव: कांग्रेस का अजब खेल, नामांकन करने पहुंचे आसिफ खान से SDM बोले आपका टिकट कट गया है

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले सभी दलों के लिए उत्तर प्रदेश के ये निकाय चुनाव किसी सेमीफाइनल से कम नहीं हैं। इसलिए बीजेपी, कांग्रेस, समेत सपा, बसपा समेत तमाम पार्टियों ने चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी है। लेकिन लगातार बीजेपी से पिछड़ने के बाद भी कांग्रेस पुरानी गलतियों से सबक लेती नहीं दिख रही।

इस कड़ी में लखीमपुर खीरी की तहसील मोहम्मदी से नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद का मुद्दा चर्चा में है। ये प्रकरण बताता है कि आज भी कांग्रेस जैसी पार्टी को कुछ लोग जातिगत आधार पर चलाना चाहते हैं। दरअसल जिले के वरिष्ठ कांग्रेसी और जिला उपाध्यक्ष नत्थू ख़ान के पुत्र आसिफ़ ख़ान ने टिकट के लिए आवेदन किया था।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री का ही है सारा खेल- 

प्रयासों के बाद आसिफ़ खान का टिकट फाइनल भी हो गया और प्रदेश पार्टी कार्यालय लखनऊ से जारी की गई लिस्ट में उनका नाम भी घोषित कर दिया गया। लेकिन शाम होते होते ख़बर आई की कांग्रेस के एक पूर्व ब्राह्मण केन्द्रीय मंत्री के प्रयासों से टिकट काट दिया गया।

 

टिकट होने और कटने का ये ड्रामा कोई एक बार नहीं बल्कि चार बार टिकट हुआ और काट दिया गया। जिसके बाद आसिफ़ ने कांग्रेस प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर से मुलाक़ात की। मुलाकात के बाद फिर एक पत्र जारी किया गया जिसमें फिर से आसिफ का टिकट हो गया, लिस्ट फिर से जारी कर दी गई।

नामांकन करने पहुंचे तब आरओ से मिली जानकारी- 

10 नवंबर दिन शुक्रवार को जब आसिफ खान पूरे जोर-शोर के साथ कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में नामांकन करने पहुंचे तो वहां एसडीएम मोहम्मदी (जो रिटर्निंग ऑफीसर थे ) ने फैक्स दिखाते हुए कहा कि आपका टिकट काट दिया गया है, और आप कांग्रेस के निशान पर नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव नहीं लड़ सकते हैं।

जिसके बाद नगर के कांग्रेस समर्थक आक्रोश में आ गए, हालांकि कांग्रेस ने ज़िले की सभी नगर पालिका, नगर परिषद की सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, फिर अंतिम समय में इस तरह से टिकट काटा जाना और कांग्रेस का कोई प्रत्याशी ना होना, किसी बड़े राजनीतिक दवाब की ओर इशारा करता है।

मोहम्मदी में कांग्रेस ने प्रत्याशी ही नहीं उतारा- 

सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ रहे ब्राह्मण उम्मीदवार ने कांग्रेस के ब्राह्मण समाज के ही पूर्व मंत्री से कहकर टिकट कटवाया है। महत्वपूर्ण बात ये है कि प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के टिकट घोषित करने के बाद फिर टिकट कैसे कट गया।

कांग्रेस के जिला पदाधिकारियों का कहना है कि ब्राह्मणवाद के चलते आसिफ का टिकट काटा गया है, हालांकि टिकट कटने के बाद जिला अध्यक्ष ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को पत्र लिखकर एक बार फिर से पुनर्विचार करने का अनुरोध भी किया है।

पलिया से भी एक मुस्लिम कांग्रेस प्रत्याशी का अंतिम समय में टिकट काटे जाने की खबर है, पेशे से सॉफ्टवेयर इंजानियर युवा आसिफ का कहना है कि खुद को मुसलमानों का सबसे बड़ा हितैशी बताने वाली कांग्रेस पार्टी में भी अब मुसलमानों के लिए कोई जगह नहीं है, कांग्रेस के इस कृत्य से आने वाले आगामी चुनाव में नगर की जनता इसका जवाब देगी।

BJP के शत्रु का PM मोदी पर तंज, उम्मीद करते हैं ये दौरा फोटो खिंचाने, गले मिलने तक सीमित नहीं रहेगा

नजरिया: जन्म से पहले ही मेरी जाति-धर्म तय हो गया, मेरे दुश्मन भी तय हो गए और मेरे झंडे का रंग भी

CD कांड पर हार्दिक पटेल का पलटवार, मर्द हूं, नपुंसक नहीं, चुनाव हार रही BJP की गंदी राजनीति

पत्नी के ‘आप’ से नपा अध्यक्ष चुनाव लड़ने पर, जेल में बंद पत्रकार शरद कटियार बोले, ना झुका हूं, ना झुकूंगा

सुप्रीम कोर्ट में प्रशांत भूषण चीफ जस्टिस पर क्यों चिल्लाए, पढ़िए पूरा सच जो मीडिया ने छुपा लिया !

वक्त की कमी का रोना रोने वालों के लिए नजीर है, RED के इंजी. नरेन्द्र सिंह पटेल-प्रमिला सिंह की जिंदगी

 

Related posts

Share
Share