You are here

ये कैसी राष्ट्रभक्ति? बाढ़ पीड़ितों के बीच एक्सपायरी डेट का सामान बंटवाकर विवाद में फंसे बाबा रामदेव

नई दिल्ली/असम। नेशनल जनमत ब्यूरो। 

देश के मौजूदा हालातों में तथाकथित देश भक्तों की बाढ़ सी आ गई है। मौजूदा सरकार के देशभक्ति के पैमाने में लोगों की सेवा करने से ज्यादा जरूरी देशभक्ति का भाषण देना और देशभक्ति के नाम पर तस्वीर खिचा लेना शामिल है।

ऐसे ही एक स्वयंभू देशभक्त हैं बाबा रामदेव और उनका पतंजली योग संस्थान। बाबा रामदेव कागजों में पतंजलि के असली मालिक नहीं है उसका मालिकाना हक रामदेव के करीबी बालकृष्ण के पास है। बाबा जी तो पतंजलि प्रोडक्ट्स के ब्रांड अंबेसडर मात्र हैं। ऐसी ही देशभक्ति दिखाने के चक्कर में बाबा रामदेव की पतंजलि एक नए विवाद में फंस गई है।

असम की स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक असम में बाढ़ पीड़ितों के बीच पतंजलि आयुर्वेद ने जो सामान वितरित करवाया उसमें ज्यादातर सामान की एक्सपाईरी डेट निकल चुकी थी। इस समान को यूज करने से कई लोगों के बीमार होने की भी खबर है।

स्थानीय टीवी चैनल टाइम 8 की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पतंजलि ने मजुली जिले में करीब 12 लाख रुपये मूल्य का सामान भेजा है। इनमें से अधिकांश सामान की एक्सपायरी डेट निकल चुकी है।

पतंजलि के मजुली जिला शाखा प्रमुख रोहित बरुआ ने मीडिया में इस बात की पुष्टि की है कि वहां 30 अगस्त को बांटे गए सामान जिनमें दूध पाउडर और जूस भी शामिल है, या तो एक्सपायर हो चुके थे या एक्सपायर होने वाले थे। उन्होंने कहा कि शुरुआत में हम लोगों ने यह नोटिस नहीं किया और सारे सामान बाढ़ पीड़ितों में बांट दिए लेकिन जब कुछ युवकों ने इसकी शिकायत जिला आयुक्त से की, तब इसका खुलासा हुआ।

खबर के मुताबिक जिन सामानों पर एक्सपायरी डेट अक्टूबर 2016 लिखा है, उसे भी बाढ़ पीड़ितों के बीच बांट दिया गया। दूध पाउडर के कुछ डिब्बों पर 5 सितंबर 2017 एक्सपायरी डेट लिखा था। इधर, जिला प्रशासन ने एक्सपायरी सामान बांटे जाने से इनकार किया है।

जिलाधिकारी ने कहा कि एक्सपायरी सामान आए थे लेकिन उन्हें बाढ़ पीड़ितों के बीच बांटा नहीं गया। जिलाधिकारी ने बताया कि उन्होंने इस बारे में पतंजलि आयुर्वेद को पत्र लिखा है।

JNU छात्र संघ: जय श्रीराम-लाल सलाम के लिए मुसीबत बनता जा रहा है दलितों-पिछड़ों का संगठन बापसा

JNU का भगवाकरण करने की रणनीति फेल, ABVP चारों खाने चित, अध्यक्ष समेत सभी पदों पर लाल सलाम

ब्राह्मण वैज्ञानिक ने लगाया कुक निर्मला यादव पर भगवान को अपवित्र करने का आरोप, दर्ज कराया केस

UPPSC के गेट पर ‘यादव आयोग’ लिखने वालों के राज में APO पद पर 40 फीसदी ब्राह्मणों का चयन

भगवाराज: UP की बेसिक शिक्षा मंत्री का फरमान, रविवार को भी स्कूल खोलकर मनाएं PM मोदी का जन्मदिन

 

Related posts

Share
Share