You are here

दलित के खेत में बीजेपी MLA त्रिपाठी का बेटा करा रहा था अवैध खनन, विरोध किया तो बेटे की हत्या कर दी

बहराइच/नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

योगी सरकार में खनन माफियाओं और अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि अब वह छोटे बच्चों को भी निर्ममता के साथ जान से मार दे रहे हैं. अवैध खनन अब भी जारी है बस फर्क ये है चेहरे बदल गए हैं पहले सपा के करीबी अपना खेल दिखा रहे थे अब खनन में भगवा रंग चढ़ गया है. प्रदेश भर में भगवाधारी गैर कानूनी तरीकों से किसानों के खेतों पर अवैध खनन कर रहे हैं।

बीजेपी नेताओं पर हत्या करने का आरोप- 

हालिया मामला बहराइच के भौंरी गांव के पास घाघरा के कछार में अवैध खनन का है. दलित किसान चेतराम द्वारा दी गई तहरीर के अनुसार विधायक पयागपुर सुभाष त्रिपाठी के लड़के निशंक त्रिपाठी की शह पर बीडेपी के जिला पंचायत सदस्य पति मनोज शुक्ला और इनका करीबी रिश्तेदार रामजी मिश्रा खनन कर रहा है. गांव वालों का आरोप है कि ई टेडरिंग के तहत निकले ठेके वाली जगह पर खनन ना करने की बजाए सत्ता की ताकत से खनन दलित चेतराम के खेत में किया जा रहा था.

इसे भी पढ़ें- दलित राष्ट्रपति बनाना दलित की श्रेष्ठता नहीं बल्कि सवर्णें का बड़प्पन साबित करने का प्रयास है

दो दिन पहले ही चेतराम ने जताया था विरोध- 

दो दिन पहले ही चेतराम ने इसका विरोध करते हुए शासन-प्रशासन को पत्र लिखकर अवैध खनन की शिकायत दर्ज कराई थी. इस बात से नाराज सत्ता पक्ष के गुंडों ने चेतराम के विरोध करने पर उसे जिंदा गाड़ देने की धमकी भी दी थी. अब दो दिन बाद ही उसके 10 साल के बेटे करन की हत्या कर शव को बालू में दफना दिया गया. इतना ही नहीं आज उसके साथ खेत पर गए साथी निसार की लाश भी तालाब में मिली है. निसार की चप्पल कल ही घाघरा नदी के तट पर पड़ी मिली थीं.

निसार के शव बरामद होने पर निसार के चाचा का आरोप है कि कल हमने पूरा तालाब छान मारा था लेकिन लाश नहीं मिली आज इस लाश को कहीं से लाकर खनन माफियाओं ने यहां डाल दिया है.

इसे भी पढ़ें- जस्टिस कर्णन के समर्थन में पोस्टर जारी दलित सांसदों और विधायकों तुम पर धिक्कार है शर्म करो

चेतराम का आरोप मेरे बेटे को मारकर गाड़ दिया गया है- 

बुधवार की दोपहर में चेतराम घर पर था। उसका 10 वर्षीय बेटा करन अपने मित्र निसार (10) पुत्र रहमत के साथ खनन स्थल पर पहुंच गया। अपने खेत में जेसीबी मशीन देखकर उस छोटे बच्चे ने खनन का विरोध किया। इस पर  ठेकेदार के लोगों ने दोनों बच्चो को पकड़ लिया.

सूचना पाकर परिवारीजन पहुंचे तो दोनों बच्चे वहां से  गायब मिले। खोजबीन के दौरान खदान स्थल और नदी के बीच बालू का टीला देखकर चेतराम व अन्य लोगों ने खोदाई शुरू की तो करन का शव बरामद हुआ। कुछ दूरी पर निसार की चप्पल पड़ी मिली। इस पर क्षेत्र के अन्य लोग एकत्रित हो गए। गुस्साए किसान व ग्रामीणों ने मौके पर मौजूद बालू खनन करवा रहे ठेकेदार व मजदूरों का छप्पर फूंक दिया।

इसे भी पढ़ें- जस्टिस कर्णन की गिरफ्तारी के बाद छिड़ी बहस, देश क्या आज भी मनु की मनुस्मृति के चल रहा है

जेसीबी मशीन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया, हंगामे की स्थिति बन गई। सूचना मिलते ही उपजिलाधिकारी नागेंद्र कुमार के अलावा बौंडी, फखरपुर, हरदी, कैसरगंज और नानपारा थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी और एसपी को बुलाने की मांग करते हुए करन का शव रखकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। गांव में अभी भी स्थिति काफी तनावपूर्ण है। वहीं एडीएम संतोष कुमार के मौके पर पहुंचने पर ग्रामीण शांत हुए।

एसपी सुनील सक्सेना ने बताया भौंरी गांव के निकट घाघरा के कछार में बच्चों की मौत के मामले में निशंक त्रिपाठी, और मनोज शुक्ला के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है.

Related posts

Share
Share