You are here

बाल तस्करी में BJP सांसद रूपा गांगुली को CID ने भेजा नोटिस, कैलाश विजयवर्गीय पर भी आरोप

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

कुछ दिन पहले पश्चिम बंगाल जाने वाली महिलाओं का 15 दिन में रेप हो जाने की बात कहने वाली बीजेपी सांसद पर अब संगीन आरोप लगा है। सीआईडी ने इसके लिए उनको नोटिस भी जारी कर दिया है। आरोप पश्चिम बंगाल के प्रभारी और बीजेपी महासचिव कैलाश विजय वर्गीय पर भी हैं।

पश्चिम बंगाल महिला मोर्चा की अध्यक्ष भी हैं रूपा – 

पश्चिम बंगाल सीआईडी ने गुरुवार को बीजेपी सांसद रूपा गांगुली को बाल तस्करी मामले में नोटिस जारी किया है। पश्चिम बंगाल महिला मोर्चा की अध्यक्ष राज्यसभा सांसद रूपा गांगुली का नाम उस समय सामने आया जब इस मामले में मुख्य आरोपी चंदना चक्रवर्ती ने गांगुली के चाइल्ड ट्रैफिकिंग रैकेट में शामिल होने की बात कही थी।

इसे भी पढ़ें-बीफ बैन नौटंकी के बीच संसद में सरकार ने माना, मोदी राज में 17 हजार टन बढ़ा मांस का निर्यात

इतना ही नहीं इस मामले में बीजेपी के राज्य प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय का नाम भी सामने आया था। विमला शिशु गृह एनजीओ की अध्यक्ष चंदना चक्रवर्ती को बच्चों को गोद लेने के बहाने बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इसके अलावा बीजेपी की महिला मोर्चा की नेता जूही चौधरी को राजनीतिक प्रभाव का इस्तेमाल करके सरकारी फंडिंग और लाइसेंस दिलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

हालांकि, रूपा गांगुली और कैलाश विजयवर्गीय ने कुछ भी गलत करने अथवा बाल तस्करी गिरोह की कथित जानकारी की बात से इनकार किया है।

सीआईडी का दावा मेरे पास सबूत हैं- 

वहीं, दूसरी ओर सीआईडी के अधिकारियों का दावा है कि उनके पास सबूत है जो बताते हैं कि जूही चौधरी ने सेंट्रल कोलकाता में रूपा गांगुली से मुलाकात की थी। वह यह भी मानते हैं कि जूही की पहुंच पार्टी के शीर्ष नेतृत्व तक थी। सीआईडी के मुताबिक एनजीओ को चलाने में दिक्कत आने पर चौधरी ने चक्रवर्ती की दिल्ली में अधिकारियों से मुलाकात कराई थी।

इसे भी पढ़ें-चुनाव के समय सर माथे पर बिठाते थे मंत्रीजी, अब कुर्सी पर बैठा कार्यकर्ता तो करवा दिया गिरफ्तार

जांचकर्ताओं ने यह भी कहा कि महिला दो बार दिल्ली की यात्रा कर चुकी है। सीआईडी का दावा है कि रेड के दौरान नॉर्थ ब्लॉक एंट्री और एग्जिट रसीद बरामद की गई थी। बाद में बीजेपी ने चौधरी और उसके पिता को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

कैलाश विजयवर्गीय ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए दावा किया, “राज्य में बीजेपी की छवि को खराब करने की तृणमूल कांग्रेस की यह कोशिश है। मेरे इस मामले में शामिल होने का सवाल ही नहीं होता। मैं चंदना नाम की किसी भी शख्स को नहीं जानता हूं। जहां तक मुझे ध्यान है, मैं जूही चक्रवर्ती से एक बार मिल चुका हूं।

मेरे ऊपर लगाए गए सभी आरोप बकवास है। हम सभी जानते हैं कि बंगाल में पुलिस सिर्फ टीएमसी के आदेश पर काम करती है। इससे पहले भी इस तरह बीजेपी नेताओं पी मजूमदार और अन्य के खिलाफ मामले दर्ज किए गए थे। यह एक दूसरी कोशिश है।

Related posts

Share
Share