You are here

भोजपुरी को संवैधानिक मान्यता के लिए संतोष पटेल के नेतृत्व में संसद मार्ग पर जुटेंगे भोजपुरिया

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

भोजपुरी की संवैधानिक मान्यता और आठवीं अनुसूची में शामिल कराने के लिए “भोजपुरी जन जागरण अभियान” के बैनर तले 21 फरवरी 2018 को आठवें विशाल धरना प्रदर्शन का आयोजन दिल्ली के संसद मार्ग पर किया जायेगा।

अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष पटेल के नेतृत्व में राष्ट्रीय स्तर पर चलाए जा रहा भोजपुरी भाषा मान्यता आंदोलन के तहत आयोजित इस धरना प्रदर्शन में पूरे देश के भोजपुरी बोलने वाले जुटेंगे।

पूरे अभियान के बारे में ‘नेशनल जनमत’ से बातचीत करते हुए संतोष पटेल ने कहा कि भोजपुरी भाषा मान्यता आंदोलन “भोजपुरी जन जागरण अभियान” देश भर मे भोजपुरी को संवैधानिक दर्जा दिलाने के लिए संघर्ष कर रहा है तथा साहित्य एवं संस्कृति को सहेजने का काम कर रहा है।

2015 से लगातार चल रहा है अभियान- 

इससे पहले “भोजपुरी जन जागरण अभियान” के बैनर तले

6 अगस्त 2015,

10 दिसम्बर 2015,

21 फ़रवरी 2016

8 अगस्त 2016

15 नवम्बर 2016

21 फ़रवरी 2017

9 अगस्त 2017

को धरना प्रदर्शन हो चुका है और ज्ञापन और माँग पत्र प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, अन्य मंत्री, सांसदों को दिया गया है। कुछ सांसद और मंत्री समर्थन में आगे भी आये है परन्तु सरकार अपनी मनसा अभी तक स्पष्ट नहीं कर पाई है। इसी को लेकर यह आठवाँ धरना प्रदर्शन अंतरराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस के दिन रखा गया है।

पूरे देश से जुटेंगे भोजपुरी दिग्गज- 

भोजपुरी जन जागरण अभियान के राष्ट्रीय संयोजक सह झारखंड प्रभारी राजेश भोजपुरिया ने सभी भोजपुरी की संस्था, भोजपुरी प्रेमी, साहित्यकार,पत्रकार, समाजसेवी, गायक कलाकार, रंगकर्मी, राजनेता, भोजपुरी से जुड़े सभी लोगों से इस धरना प्रदर्शन में इस बार शामिल होने की अपील की है।

इस धरने में छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश, चम्पारण, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखंड, के अलावा मुम्बई, कोलकाता, असम और देश के कई भोजपुरी क्षेत्र से भोजपुरी भाषा भाषी व प्रतिनिधि शामिल होंगे। भोजपुरी भाषा के सम्मान और अपने हक के लिये भोजपुरी भाषा भाषियों का जुटान होगा।

योगी बोले, राहुल गांधी को पूजा में बैठना भी नहीं आता, लोग बोले आपको पूजा-पाठ के अलावा क्या आता है?

लोकतंत्र पर चाटुकार हावी, BJP अध्यक्ष बोले मोदीजी की तरफ उठने वाली उंगली तोड़ देंगे, हाथ काट देंगे

हाईकोर्ट ने CBSE से कहा, RTI आवेदक को केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शिक्षा का रिकॉर्ड बताओ

पढ़िए, पश्चिमी देशों का विज्ञान जब वर्ण, जाति, गोत्र से भरे ‘महान’ भारत में घूमने आया तो क्या हुआ ?

डरी हुई BJP ने UP में पहली बार किसी CM को चुनाव प्रचार में उतारा है, अब PM का इंतजार है- नरेश उत्तम पटेल

कोई लड़ रहा है तो कोई मौन है, आओ देखते हैं क्रांतिकारी कौन हैं…सूरज कुमार बौद्ध की कविता

Related posts

Share
Share