You are here

रैली में उमड़ा जनसैलाब देखकर गरजे लालू यादव, फांसी पर लटक जाएंगे, BJP के साथ नहीं जाएंगे

नई दिल्ली/पटना, नेशनल जनमत ब्यूरो

बिहार की राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की ‘देश बचाओ, बीजेपी भगाओ’ रैली में विरोधी दलों की एकता की मिसाल देखने को मिली। रैली में उमड़े जनसैलाब से उत्साहित नेताओँ ने बीजेपी पर जमकर शब्दों के तीर चलाए।

आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव के परिवार के अलावा जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद, सीपीआई नेता डी राजा, डीएमके के एलांगोवन और एनसीपी के तारिक अनवर ने  देश बचाओ रैली में शिरकत की।

लालू यादव- 

भीड़ से खचाखच भरे गांधी मैदान में रैली को संबधित करते हुए उत्साहित लालू प्रसाद यादव ने कहा, इस समय NDA में बिहार से जो बड़े नेता हैं वे सब मेरे प्रोडक्ट हैं। नीतीश कुमार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, उन्हें तो कभी भी नीतीश कुमार पर भरोसा नहीं था।

लेकिन सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन किया था, नीतीश कुमार के बारे में मैं पहले से जानता था ये आदमी विश्वास करने के काबिल नहीं है

शरद यादव के मामले पर बोलते हुए कहा, जिस शरद यादव ने नीतीश कुमार को अंगुली पकड़ कर राजनीति की राह दिखाई, उन्हीं को नीतीश कुमार धमकी दे रहे हैं। नीतीश को पता नहीं है कि शरद यादव के साथ लोगों का समर्थन है।

लालू ने आगे कहा, बिहार की राजनीति में तेजस्वी यादव के बढ़ते कद से नीतीश अंदर-ही-अंदर जलते थे। वह इस बात से दुखी थे कि उनके आगे का लड़का जनता में खासा लोकप्रिय हो रहा है।

नीतीश पर तंज कसते हुए आरजेडी मुखिया ने कहा, जब नीतीश बीमार पड़े, तो हम समझ गए कि कोई गड़बड़ है, तीन बार कॉल किए, लेकिन फोन पर बात नहीं किया, हम समझ गए कि कुछ गड़बड़ है। सीबीआई छापेमारी को लेकर उन्होंने कहा कि बिना सरकार की इजाजत के सीबीआई नहीं आ सकती है, दिल्ली में जेडीयू कोटे से मंत्री बनने वाला है। नीतीश कुमार के ऊपर 302 का केस है, नीतीश पहले संघ मुक्त का नारा देते थे, अब संघ की गोद में जाकर बैठ गए।

ममता बनर्जी- 

बीजेपी भगाओ, देश बचाओ रैली में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि एक तरफ पूंजीपति लोग हैं और दूसरी तरह आम आदमी। केंद्र सरकार पर जमकर बरसते हुए उन्होंने मोदी सरकार को सभी मोर्चे पर विफल बताया।

गुलाम नबी आजाद- 

रैली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की गैरमौजूदगी में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने उनका बयान पढ़ा। बयान में कहा गया कि बिहार में जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस ने साथ-साथ चलने की शपथ ली थी, लेकिन नीतीश कुमार ने प्रदेश के लोगों को धोखा दिया। सोनिया ने कहा, नीतीश कुमार ने जो किया वो ना सिर्फ बिहार के जनादेश का अपमान है बल्कि देश का अपमान है।

शरद यादव- 

इस अवसर पर शरद यादव ने कहा, राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन किया जाएगा। उन्होंने पंचकुला हिंसा पर केंद्र सरकार को खरी खोटी सुनाते हुए कहा कि हिंसा के लिए खट्टर नहीं, बल्कि केंद्रीय नेतृत्व जिम्मेदार है, जिनकी राम रहीम के साथ दोस्ती है।

अखिलेश यादव- 

रैली को संबोधित करते हुए यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, मैं लालूजी को बधाई देना चाहता हूं, जिनके कारण इतना जनसैलाब यहां इकठ्ठा हुआ है। बीजेपी डिजिटल पार्टी है, अगर वो गूगल से देख रहे होंगे तो जानते होंगे कि हालात क्या है. हम देश बचाना चाहते है, क्योंकि देश इन्होंने पीछे कर दिया है. अब तो 3 साल गुजर गए. अच्छे दिन वाले न्यू इंडिया की बात करने लगे। उन्होंने आगे कहा, देश के किसान, मजदूर, युवा परेशान है।

तेजस्वी यादव-

तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री और सीएम नीतीश कुमार की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा, नीतीश 28 साल के नौजवान से डर गए। सृजन घोटाले पर बोलते हुए तेजस्वी ने कहा कि इसमें बीजेपी और जेडीयू के लोग शामिल है। तेजस्वी ने कहा, तेजस्वी तो बहाना था, उन्हें तो सृजन घोटाला छुपाना था। सृजन घोटाले में 2 लोगों की मौत हो चुकी है. जो मुख्य आरोपी था, जो सब जानता था, उसकी मौत हो गई.

नीतीशजी बताइए अब कहां गया आपका सिद्धांत। नरेंद्र मोदी बिहार आए थे, उन्होंने आगे कहा, ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको नीतीश जी ने ठगा नहीं। उन्होंने जॉर्ज फर्नांडिस, दिग्विजय सिंह, शरद यादव, महागठबंधन के लोगों को धोखा देने का काम किया. तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन टूटा नहीं है. असली जेडीयू हमारे अभिभावक शरद यादव का है।

तेजस्वी ने कहा ये लोग आरक्षण खत्म करने पर तुले हैं। भारतीय जनता पार्टी पूंजीपतियों की पार्टी है, इस पार्टी का गरीब जनता और किसानों से कुछ वास्ता नहीं है।

Related posts

Share
Share