You are here

अब बिहार में भी ‘गंदी ड्यूटी’, का विरोध, शिक्षक बोले शौच करते लोगों की फोटो खींचना हमारा काम नहींं

नई दिल्ली/पटना, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

राजस्थान में खुले में शौच कर रही महिला की फोटो लेने के विवाद में एक समाजसेवी की जान चली गई थी। इसके बाद सरकार को अपना ये नौटंरीपूर्ण फरमान वापस लेना पड़ा था। लेकिन इस घटना से बिहार के प्रशासन ने कोई सीख ना लेते हुए शिक्षकों को ये ‘गंदी ड्यूटी’ थमा दी है। जिसका जमकर विरोध हो रहा है।

बिहार में शिक्षकों ने ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर (बीडीओ) के उस आदेश का विरोध किया है जिसमें उन्हें खुले में शौच से मुक्ति (ओडीएफ) मुहिम के तहत ऐसे लोगों की तस्वीर लेने को कहा गया था जो खुले में शौच करते हैं।

शिक्षकों को कहना है कि हमारी नियुक्ति पढ़ाने के लिए हुई है या शौच करते लोगों की फोटो खींचने के लिए। शिक्षक नेताओं ने कहा कि हम इस अजीब से फैसले का पूरा विरोध करते हैं।

61 प्राइमरी शिक्षकों को दी गई जिम्मेदारी- 

दरअसल औरंगाबाद जिला प्रशासन ने ओडीएफ मुहिम के तहत पवई पंचायत को 31 दिसंबर, 2017 तक खुले में शौच से मुक्त कराने का निर्णय लिया। इस काम को पूरा करने के लिए प्रशासन ने 61 प्राइमरी और मिडिल स्कूल के टीचरों को ऐसे लोगों को तस्वीर लेने के लिए कहा जो खुले में शौच जाते हैं। ये मुहिम 18 नवंबर में शुरू की गई।

वहीं मुजफ्फरनगर में कुंडी ब्लॉक प्रशासन ने इस काम में 144 शिक्षकों को नियुक्त किया है। मामले में टीचर्स एसोसिएशन ने कहा है कि वो ओडीएफ की मुहिम को समर्थन करते हैं लेकिन उनके निर्देश को पूरा कर पाना शिक्षकों के लिए खासा मुश्किल हैं। क्योंकि इससे शिक्षकों को अपमान होगा और ये शिक्षकों की सुरक्षा को भी खतरे में डाल सकता है।

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ (बीएमएसएस) जनरल सेक्रेटरी और पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लिखित में इसकी जानकारी भी दी है।

उन्होंने सरकार से मांग की है इस आदेश को वापस लिया जाए। जिसमें शिक्षकों को सुबहर-शाम खुले में शौच करने वाले लोगों की तस्वीर खींचने को कहा गया था

गौरतलब है कि बिहार में शिक्षकों को पढ़ाई के साथ-साथ खुले में शौच करनेवालों पर भी निगरानी रखने का काम भी दिया गया है। इसमें सुबह और शाम शिक्षकों की ड्यूटी निगरानी की होगी वहीं प्रधानाचार्यों को पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिया गया है।

आदेश के तहत शिक्षकों को निर्देश दिया गया है कि वे सुबह 5 बजे और शाम 4 बजे रोजाना खुले में शौच जाने वाले लोगों पर निगरानी रखेंगे। ऐसा करने वाले लोगों के साथ सेल्फी लेकर अधिकारियों को भेजेंगे।

भोजपुरी को संवैधानिक मान्यता के लिए संतोष पटेल के नेतृत्व में संसद मार्ग पर जुटेंगे भोजपुरिया

योगी बोले, राहुल गांधी को पूजा में बैठना भी नहीं आता, लोग बोले आपको पूजा-पाठ के अलावा क्या आता है?

लोकतंत्र पर चाटुकार हावी, BJP अध्यक्ष बोले मोदीजी की तरफ उठने वाली उंगली तोड़ देंगे, हाथ काट देंगे

हाईकोर्ट ने CBSE से कहा, RTI आवेदक को केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शिक्षा का रिकॉर्ड बताओ

पढ़िए, पश्चिमी देशों का विज्ञान जब वर्ण, जाति, गोत्र से भरे ‘महान’ भारत में घूमने आया तो क्या हुआ ?

 

Related posts

Share
Share