You are here

निजीकरण से खत्म हो रहीं आरक्षित वर्ग की नौकरी से नाराज छात्रों का बिहार में उग्र प्रदर्शन

नालंदा/ नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

रेलवे के निजीकरण से खत्म हो रही आरक्षित वर्ग की नौकरियों से नाराज सैकड़ों छात्रों ने नालंदा रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार को जमकर बवाल किया. छात्रों का कहना था कि केन्द्र सरकार रेलवे समेत सारी सरकारी विभागों को बेचकर उनसे नौकरियां खत्म कर रही है. खासकर के इस निजीकरण से आरक्षण को खत्म करने का प्रयास है. जब निजीकरण हो जाएगा तो एस-एसटी और ओबीसी वर्ग के छात्रों का सबसे ज्यादा नुकसान होगा.

इसे भी पढ़ें- 15 दिनों में 26 किसानों ने की आत्महत्या, ग्रामीण विकास मंत्री बेच रहे हैं ट्यूब लाइट के टिकट

छात्र आरजेडी के कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन- 

रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर छात्र आरजेडी ने सुबह से रेलवे स्टेशन पर हंगामा शुरू कर  दिया. छात्रों ने रेलवे ट्रैक पर आगजनी और पथराव कर रेल परिचालन को बाधित कर दिया है। काफी संख्या में पहुंचे छात्रों ने श्रमजीवी एक्सप्रेस को बिहारशरीफ में ही रोक दिया है।

जानकारी के मुताबिक रेलवे में बहाली की मांग को लेकर शुक्रवार को हजारों की संख्या में छात्र युवा बिहारशरीफ रेलवे स्टेशन पर पहुंचे.
कर्मियों ने बताया कि स्टेशन पर छात्र सरकार के निर्णय से काफी नाराज थे.

इसे भी पढ़ें- उन्मादी बोले ये लोग बीफ खाते हैं इनको खत्म कर दो, 3 भाईयों पर चालू से हमला. जुनैद की मौत

जीआरपी सिपाहियों ने  काफी समझाने की कोशिश की लेकिन उग्र छात्र मानने को तैयार नहीं हुए. झड़प में रेल थानाध्यक्ष कमलेश रजक सहित कई कर्मी भी चोटिल हुए हैं. जीआरपी पुलिस ने  चार से पांच राउंड फायरिंग भी की। जिससे छात्रों का गुस्सा और भड़क गया.

रेलवे ट्रैक व फिस प्लेट के क्षतिग्रस्त होने से इस मार्ग पर गाडिय़ों का परिचालन पूरी तरह से ठप हो गया है। स्टेशन मास्टर श्यामू चौधरी ने बताया कि बिहारशरीफ रेलवे स्टेशन का पूरा सिस्टम ठीक करने में अभी समय लगेगा.

इसे भी पढ़ें-बीएचयू कुलपति प्रोफेसर त्रिपाठी के राज्य में खत्म हुए ओबीसी-एससी-एसटी के पद, सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

Related posts

Share
Share