You are here

आदिवासी के घर दिखावा करने पहुंचे अमित शाह, लग्जरी टॉयलेट बनवाकर विवादों में फंसे

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

बीजेपी द्वारा विस्तार योजना के तहत बुधवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह छोटा-उदेपुर और वड़ोदरा के दौरे पर पहुंचे. दोपहर का खाना उन्होंने एक आदिवासी के घर खाया. हालांकि यही वो घर था तो अमित शाह के आने से पहले ही विवादों में आ गया था. खबरों के अनुसार इस घर में पहुंचने से पहले अमित शाह के लिए एक लग्जरी वॉशरूम बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें-वायरल हुई अमित शाह को चुनौती देती हार्दिक पटेल की कविता अमित शाह गो बैक

लग्जरी टॉयलेट का मामला उठा रहे हैं विपक्षी- 

 बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का आदिवासी के घर जाने से पहले किया जा रहा इंतजाम और लग्जरी टॉयलेट बनाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. विपक्षी आरोप लगा रहे हैं कि अमित शाह जब किसी गरीब के घर जाते हैं तो उसका मजाक उड़ाने जाते हैं. एक आदिवासी के परिवार में खाना खाने पर इतनी तैयारी. आदिवासी के घर पर एक गैस सिलेंडर और चूल्हा और एक लग्जरी टॉयलेट भेज दिया गया है.

ख़बरों के अनुसार, अमित शाह ने पोपटभाई राठवा परिवार के घर दोपहर का भोजन किया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वरिष्ठ स्थानीय भाजपा नेता और अनुसूचित जनजाति से आने वाले राठवा के घर में अमित शाह के आगमन को लेकर उत्सव जैसा माहौल था। भाजपा के स्थानीय नेता नियमित तौर पर अमित शाह के आगमन की तैयारियों का जायजा ले रहे थे.

इसे भी पढ़ें- दलिल के घर खआना खाने का नाटक करने पहुंचे बीजेपी अध्यक्ष, होटल से मंगाया खाना

बताया जा रहा है कि उनकी ग्राम पंचायत ने एक दिन पहले ही टॉयलेट बनवाने का काम शुरू किया था और एक दिन में ही पूरा कर दिया। परिवार के अनुसार, उनके घर के पीछे पहले से ही एक टॉयलेट है लेकिन मेहमानों के लिए अलग से सामने नया टॉयलेट बनवाया गया है। साथ ही राथवा के घर के सबसे बड़े कमरे में अमित शाह के लंच के लिए कुर्सी और टेबल लगाए गए हैं।

यूपी में सीएम के जाने के बाद एसी सोफा ले गए थे अधिकारी- 

आपको बता दें कि हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक शहीद के घर गए थे. उनके जाते ही घर में जो एसी-सोफा लगाये गये थे, उसे योगी आदित्यनाथ के जाने के तुरंत बाद हटा दिये गये थे. इतना ही नहीं उसके बाद भी कुशीनगर के मैनपुर कोट गांव की मुसहर दलित बस्ती का निरीक्षण करने से पहले गांव के लोगों को साबुन और शैंपू से नहाकर आने के लिए कहा गया और इसके लिए वहां के लोगों में साबुन और शैंपू वितरित भी किए गए थे. साथ ही अधिकारियों ने पूरी बस्ती में साबुन-शैम्पू और सेंट बांटे और कहा कि तुरंत नहा-धोकर तैयार हो जायें, तभी सीएम योगी से मिलने दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- जानिए पेरियार ने क्यों की थी अलग देश द्रविड़नाडू की मांग

Related posts

Share
Share