You are here

बीफ राजनीति करने वाली BJP ने मेघालय में वोटरों को लुभाया, सत्ता में आए तो नहीं होगा बीफ बैन

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

बीफ बैन की नौटंकी के बीच गौमांस की राजनीति करने वाली बीजेपी ने मेघालय के मतदाताओं से वादा किया है कि अगर पार्टी राज्य में सरकार बनाती है तो बीफ बैन नहीं किया जाएगा।

इतना ही नहीं अपने ही मुद्दे से पलटी मारते हुए मेघालय बीजेपी ने कांग्रेस के इस दावे को भी गलत करार दिया कि केन्द्र सरकार ने देश भर में जानवरों के काटने पर रोक लगा दी है। मेघालय में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं।

मेघालय बीजेपी के उपाध्यक्ष जे ए लिंगदोह ने कहा, ‘केन्द्र द्वारा बनाए गये कानून से किसी भी स्तर पर गायों को काटने पर रोक नहीं है।’ लिंगदोह के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को भारत से बाहर जानवरों के स्मगलिंग पर रोक लगाने के लिए दिशा निर्देश बनाने को कहा है।

उन्होंने कहा कि इस बारे में केन्द्र की ओर से जारी अधिसूचना का मकसद जानवरों के खरीद बिक्री बाजार को नियंत्रित करना है। जे ए लिंगदोह के मुताबिक गायों के काटने पर प्रतिबंध पूर्णरूप से नहीं है।

स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक लिंगदोह ने कहा, ‘कानून ऐसा नहीं कहता है, यदि ऐसा कहता भी है तो इसे हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट द्वारा अवैध करार दे दिया जाएगा।

बता दें कि केन्द्र सरकार ने गौमांस पर रोक लगाने के लिए बाजार से गौवध के लिए गाय खरीदने पर रोक लगा दी है। इस नये नियम के दायरे में गाय के अलावा गोवंश के दूसरे पशु भी हैं। लिंगदोह ने इसी साल मई में केन्द्र के इस नियम का विरोध किया था और कहा था कि “हम पशुओं की खरीद-फरोख्त और उनके वध को लेकर जारी किए गए नए आदेश को स्वीकार नहीं कर सकते।

हम अपनी खाने-पीने की आदतों के खिलाफ नहीं जा सकते हैं।” लिंगदोह के मुताबिक केन्द्र के इस कानून की गलत व्याख्या की गई है। उन्होंने बताया कि राज्य के जनजातियों की खान-पान की आदतों पर किसी भी हालत में प्रहार नहीं किया जाएगा।

बता दें कि मेघालय की आबादी लगभग 32 लाख है। यहां की जनसंख्या का ज्यादा हिस्सा क्रिश्चयन है। राज्य की दो मुख्य जनजातियां खासी और गारो हैं, जो गोमांस खाती हैं। ये दोनों जनजातियां राज्य की आबादी का तीन चौथाई हिस्सा हैं।

गुजरात में BJP का प्लान B: भूख, बेरोजगारी, मंहगाई के जवाब देने के बदले पूरी राजनीति को धर्म से रंग दो

नरेश उत्तम पटेल के नेतृत्व में गरीबों के चेहरे पर मुस्कान बिखेरकर सपाईयों ने मनाई दिवाली

पिछड़ों, दलितों, आदिवासियों, मुस्लिमो के हित में बीजेपी-कांग्रेस दोनों का खात्मा जरूरी है !

यै कैसी ‘देशभक्त’ सरकार ? मोदी-राजनाथ पर सवाल उठाने वाला जवान निलंबित, फिर गिरफ्तार

CM योगी का मोदी पुराण, मोदी सरकार के कामों से देशवासियों को जो सुख मिल रहा है, वही रामराज्य है

शब्दों से भेदभाव मिटाने की निकली केरल सरकार, ‘दलित-हरिजन’ शब्दों के इस्तेमाल पर रोक

AU छात्र संघ: समाजवादी छात्रसभा की जीत सामाजिक न्याय की जीत है, 1 यादव, 1 पटेल, 1 दलित, 1 ठाकु

 

Related posts

Share
Share