You are here

BJP सांसद ने दिखाई हिम्मत, बोलीं सांसद रहूं या न रहूं, संविधान व आरक्षण पर आंच नहीं आने दूंगी

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

मोदी व शाह की जोड़ी से घबराकर अच्छे-अच्छे बीजेपी के शूरवीर अपने मन की बात कहने से घबराते हैं लेकिन बीजेपी की एक महिला सांसद ने अपनी अन्तर्रात्मा को सुनकर हिम्मत वाला बयान दिया वो भी लाखों लोगों के सामने।

कांशीराम स्मृति उपवन, लखनऊ के लिए रविवार का दिन ऐतिहासिक हो गया। यहां नमो बुद्धाय जनसेवा समिति के तत्वाधान में ‘‘भारतीय संविधान व आरक्षण बचाओ महारैली‘‘ आयोजित की गई जिसमें प्रदेश भर से लाखों की संख्या में दलित, पिछड़े, महिलाओं व अल्पसंख्यकों ने भाग लिया।

जबरदस्त भीड़ से उत्साहित लोगों ने आरक्षण बचाने को लेकर खूब नारे बाजी की। इस दौरान पूरा पण्डाल नीले व पंचशील के झंडों से पटा रहा। पण्डाल में भगवान बुद्ध, बाबा साहब अम्बेडकर व बहुजन नायक कांशीराम के अनेकों कटआउट बहुजन समाज के प्रेरणास्रोत के रूप में लगाये गये थे।

मुख्य अतिथि के रूप में हुंकार महारैली को सम्बोधित करते हुए भाजपा से बहराइच की सांसद सावित्री बाई फुले ने कहा कि पूरे देश में बाबा साहेब की मूर्तियां तोड़ी जा रही हैं। संविधान बदलने का षडयंत्र किया जा रहा है, आरक्षण पर कुठाराघात हो रहा है और वहीं दूसरी ओर आरक्षण को समाप्त करने के लिये बड़े पैमाने पर निजीकरण भी किया जा रहा है।

इसके लिये 85 प्रतिशत बहुजन समाज को एकजुट होकर इनके मन्सूबों को कामयाब नहीं होने देना है। उन्होंने कहा मैं सांसद रहूं या न रहूं, लेकिन मैं संविधान बदलने की साजिश कतई बर्दाशत नहीं करूंगी। मेरे शरीर पर जो पीला वस्त्र देख रहे हैं यह गौतम बुद्ध का कपड़ा चीवर है।

पूरे देश को बुद्धमय करन होगा- 

जब तक पूरा देश बुद्धमय नहीं होगा तब तक समाज आगे नहीं जा सकता। उन्होंने सभा में अनेकों बार सभी का हाथ उठवाकर यह संकल्प दिलाया कि आखिरी लड़ाई तक आप सभी उनका साथ देंगे।

सांसद ने कहा कि पदोन्नति में आरक्षण का बिल लंबित है, अनेकों बार उनके द्वारा संसद में यह बात उठायी गयी लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। अन्त में उन्होंने यह भी घोषणा की कि इस प्रकार के कार्यक्रम प्रत्येक जिले में आयोजित किये जायेंगे।

दलित घोड़े पर बैठता है तो उसकी हत्या कर दी जाती है, पूरे देश व प्रदेश में दलितों व महिलाओं पर अत्याचार बढ़ गया है। अब बहुजन समाज इसे बर्दाश्त नहीं करेगा।

विशिष्ट अतिथि के रूप में हुंकार महारैली को संबोधित करते हुए आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति, उ0प्र0 के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार जब संविधान निर्माता बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर के नाम में संशोधन करके ‘‘डा0 भीमराव रामजी आम्बेडकर‘‘ करके वाहवाही लूट रही है, तो आने वाले समय में उसे संविधान बदलने में कोई झिझक नहीं होगी।

भाजपा की उलटी गिनती शुरू- 

पिछले 4 साल से पदोन्नति में आरक्षण का बिल लम्बित है, आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के प्रतिनिधि मण्डल ने 2015 में  राज्यपाल राम नाईक को ज्ञापन दिया था। जिस पर राज्यपाल ने पूरा मामला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भेजा भी लेकिन आज तक उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

वहीं महामहिम के पत्र पर बाबा साहब के नाम में तुरन्त संशोधन हो गया। आज के दिन से भाजपा को यह समझ लेना चाहिए यह हुंकार महारैली बगावत का बड़ा संकेत है। बिजली का निजीकरण आरक्षण पर बड़ा कुठाराघात है। प्रदेश की 85 प्रतिशत जनता अब एक साथ आ चुकी है इससे भाजपा की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है।

हुंकार महारैली को प्रमुख रूप से संबोधित करने वालों में सुवचन राम, प्रधान आयुक्त, इन्कम टैक्स भारत सरकार, अशोक कुमार, राष्ट्रीय महामंत्री एससी-एस0टी रेलवे, मिल्कियत सिंह बहल, अन्तर्राष्ट्रीय विचार मंच, लन्दन, इं0 खेमचन्द्र कोली, भवन नाथ पासवान, राष्ट्रीय अध्यक्ष, डा0 अम्बेडकर राष्ट्रीय एकता मंच, मनीराम बेहलाल, राष्ट्रीय अध्यक्ष, बामसेफ कांशीराम सहित अनेकों बहुजन नेताओं ने अपनी बात रखी।

महारैली में 14 सूत्रीय प्रमुख एजेण्डे पर भी चर्चा हुई, जिसमें पदोन्नति में आरक्षण सम्बन्धी 117वां बिल अविलम्ब पास कराना, पिछड़े वर्ग को भी पदोन्नति में आरक्षण सहित अनेकों मुद्दों पर चर्चा हुई।

अंबेडकर के नाम में UP सरकार ने रामजी जोड़ा, JDU का हमला, योगी अपना नाम ठाकुर अजय सिंह बिष्ट क्यों नहीं लिखते?

पीलीभीत: पुलिस की शह पर 2 पत्रकारों पर गुंडों ने किया हमला, कोतवाल मनोज त्यागी की बर्खास्तगी की मांग

रास चुनाव हारने के बाद भी मायावती बोलीं, अखिलेश में अनुभव की कमी, मैं ये गठबंधन टूटने नहीं दूंगी

अवैध उगाही और भ्रष्टाचार के दोषी, जालौन के डाइट प्राचार्य एमपी सिंह पर कार्रवाई आखिर कब ?

अब बिजली विभाग में निजीकरण करके आरक्षण खात्मे की ओर बढ़ी योगी सरकार, कर्मचारी आंदोलनरत

Related posts

Share
Share