You are here

BJP के भ्रष्टाचारी पवित्र हैं, देशभक्त हैं वो क्यों इस्तीफा देंगे? इस्तीफा तो ‘शूद्र’ तेजस्वी यादव को देना होगा

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

‘दुध से धुले’ बीजेपी के नेता बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव से उस आरोप के लिए इस्तीफा मांग रहे हैं जो उन्होंने 13 वर्ष की उम्र में किया था या नहीं किया था. खैर उस समय तेजस्वी का राजनीति से कोई वास्ता नहीं थी वह तो उस दौरान क्रिकेट खेला करते थे . माहौल बनाने में माहिर बीजेपी-मीडिया गठजोड़ को मसाला मिला हुआ है, टीवी की टीआरपी चल रही है, बीजेपी को जरूरी मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए मुद्दा मिला हुआ है।

इसे भी पढ़ें-पीएम मोदी के मित्र अंबानी-अडानी समेत देश के 10 बड़े बिजनेस समूहों पर देश का 5 लाख करोड़ बकाया

वरिष्ठ पत्रकार महेन्द्र यादव बता रहे हैं कि बीजेपी के भ्रष्टाचारी कितने पवित्र और देशभक्त टाइप के लोग हैं-

तेजस्वी यादव का इस्तीफा चाहिए ? ठीक है, पर-

नरोत्तम मिश्रा को तो मंत्री पद से हटा दीजिए न. आरोप साबित हो गए हैं। कदाचारी साबित हुए हैं। विधायकी चली गई है। बहुत बदनामी हो रही है।
*-देखिए, वो मामला अलग है।

-तो सुषमा स्वराज को ही हटा दीजिए, ललित मोदी की हेल्पर हैं। उनकी बेटी ललित मोदी की वकील हैं। सुषमा ने इस भगोड़े के लिए सिफारिशी चिट्ठी लिखी थी।
*-वो मामला भिन्न है।

इसे भी पढ़ें- सपा प्रवक्ता मैडम पाठक के नाम समाजवादी विचारधारा की बीएचयू छात्रा नेहा यादव का खुला खत

वसुंधरा को ही देख लेते..वो भी ललित की हेल्पर हैं। वसुंधरा के बेटे की कंपनी में ललित का इनवेस्टमेंट है। ललित मान चुका है कि वह वसुंधरा का साथी है।
*-वो भी मामला जुदा ही है।

-डीडीसीए वाले मामले पर आपके ही सांसद कीर्ति आजाद ने अरुण जेटली जी के बारे में कुछ गंभीर आरोप लगाए हैं। माल्या को भी उन्होंने ही भगाया है…
*-वो मामला तो “उलटा” ही है।

-येल यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट करने वाली ईरानी मैम का तो बनता है..
*-वो मामला तो एकदम ही “अनरिलेटेड” है। कुछौ रिलेशन हो तो बताइए, सिर काटकर चरणों में रख देंगे।

-तो मंत्री निहालचंद तो बलात्कार के मामले में फंसा है. कम से कम उसे तो.
*-वो मामला तो डिफरेंट है।

इसे भी पढ़े-जातिवादी असभ्य समाज का घिनौना सच, सीवर सफाई के दौरान एक साल में हुई 22327 लोगों की मौत

-व्यापम और डंपर घोटाले वाले शिवराज को. इतने लोग मार डाले गए व्यापम में।
*-वो मामला तो एकदम अलहदा है।

– पर, रमन सिंह तो धान-नान घोटाले के साथ-साथ न जाने कितने आदिवासियों को खाए बैठे हैं…
*-वो मामला तो मुख्तलिफ है।

गडकरी जी तो साफ-साफ घोटाला किए, ड्राइवर को डायरेक्टर दिखाया..पूर्ति घोटाला तो उन्हीं का किया है न। सिंचाई स्कैम भी उसके सिर पर है। .
*- वो मामला तो अलग किस्म का है।

– जोगी ठाकुर आदित्यनाथ पर तो इतने केस हैं कि गिन ही नहीं सकते। अटैंप्ट टू मर्डर भी लगा है। उनकी अपनी एफिडेविट देख लीजिए..
*-वो मामला तो स्पेशल है

इसे भी पढ़ें- पीएम मोदी के आंसुओं को तोगड़िया की खुली चुनौती, गौौरक्षकों को किसी से डरने की जरूरत नहीं

-उनके डिप्टी केशव मौर्य पर तो मर्डर तक का..
*-इसमें उसमें फर्क है

-खुद मोदी साहेब पर भी तो दंगों समेत न जाने कितने केस हैं। अनार पटेल को 400 एकड़ जमीन 92% डिस्काउंट में दे दी. सहारा डायरी में साहब के पैसा लेने का तो प्रमाण भी है. अडानी का प्लेन भी चुनाव में खूब उड़ाया था….

*वो तो मामला ही अलग प्रकार का है. ..

नरेंद्र भाई के मंत्री बाबूभाई बोखारिया पर 2008 में हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ। मामला 2005 में कांग्रेसी नेता मुलु मोढवाडिया की हत्या का था। मोढवाडिया के शव के पास उनकी लिखी एक चिट मिली थी, जिसमें उन्होंने बोखारिया से अपनी जान को ख़तरा बताया था। बोखारिया पर मार्च 2008 में FIR हो गई। निचली अदालत और फिर हाईकोर्ट ने बोखारिया को अभियुक्त बनाए जाने को सही ठहराया।

बोखारिया मार्च 2008 से लेकर अप्रैल 2014 तक हत्या के आरोपी और नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री दोनों बने रहे। इस बीच पोरबंदर की एक अदालत ने माइनिंग स्कैम में उन्हें सज़ा सुना दी। नरेंद्र मोदी ने इसके बावजूद उनका इस्तीफ़ा नहीं लिया। इससे राजनीति की नैतिकता पर कोई असर नहीं हुआ।

लेकिन नैतिकता के आधार पर तेजस्वी यादव के इस्तीफ़ा देते ही भारत की राजनीति की घड़ी डिटर्जेंट टिकिया से धुलाई हो जाएगी।
अब इससे क्या फ़र्क़ पड़ता है कि उन्हें 2006 के एक मामले में फँसाया जा रहा है, जब उनकी उम्र 13 या 14 साल रही होगी। मामले का अभी कोर्ट ने संज्ञान तक नहीं लिया है न ही चार्ज शीट फ़ाइल हुई है।

अब इतने सारे लोगों को इस्तीफा कराएंगे तो दिक्कत हो जाएगी न..इसलिए केवल तेजस्वी ही इस्तीफा दे दे तो उससे ही राजनीति स्वच्छ मान ली जाएगी। इससे क्या फर्क पड़ता है कि उस पर 2006 का एक केस हमने लगवाया है, जब उसकी उम्र यही कोई 13-14 साल रही होगी. क्रिकेट खेलता था शायद वह बच्चा.

Related posts

Share
Share