You are here

मंडल मसीहा वीपी सिंह को श्रद्धांजलि, मंडल सेना ने शुरू किया ‘मोदी हटाओ-देश बचाओ’ अभियान

नई दिल्ली/पटना। नेशनल जनमत ब्यूरो

बिहार के मधेपुरा से मंडल सेना के तत्वाधान में मंडल मसीहा वीपी सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए ‘मोदी हटाओ-देश बचाओ’ आंदोलन की शुरूआत की गई. अभियान के तहत मुख्यालय के कॉलेज चौक पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला दहन किया गया.

पढ़िए मंडल सेना पीएम मोदी से क्यों इतनी खफा है है कि उसे ये अभियान शुरू करना पड़ा.

मोदी सरकार आरक्षण और रोजगार खत्म कर रही है-

जहाँ एक ओर देश में किसानों की लगातार आत्महत्याएं हो रही हैं. सरहद पर जवान मारे जा रहें हैं. बैंकिंग सिस्टम में मनमाने नियमों के तहत जनता को लूटा जा रहा है. वहीं दूसरी ओर देश में अराजकता और भगवा गुंडों का आतंक बढ़ता जा रहा है. केंद्र सरकार के 5 लाख कर्मियों को निकाला जा रहा है। मोदी सरकार रोजगार और उसके साथ आरक्षण ख़त्म कर रही है। रेलवे से आरक्षण खत्म करने के लिए उसको बेचा जा रहा है। रेलवे में हजारों नौकरियां समाप्त कर दी गयी है, जिससे आरक्षण अपन आप खत्म हो जाएगा.

इसे भी पढ़ें- पिछड़ो-गरीबों के मसीहा वीपी सिंह जयंती पर नमन, पढ़िए जातिवादियों के आंख की किरकिरी कैसे बन गए

किसान आत्महत्या करें नहीं तो उनको सरकार मार रही है-

बैंक से अपना ही पैसा नहीं मिलता है। अगर मिलेंगे तो प्रति निकासी या जमा 300 रुपये तक देने होंगें। किसान आत्महत्या कर रहें हैं या उन्हें भाजपा सरकार गोली का शिकार बना रही है। कॉर्पोरेट का अरबों लोन माफ़ है पर किसानों के लिए केंद्रीय मंत्री बैंकेया नायडू फैशन बता रहे हैं।

उच्च शिक्षा में ओबीसी-एससी-एसटी को रोकने की साजिश-

उच्च शिक्षा का निजीकरण करने के लिए बेताब मोदी सरकार यूजीसी के माध्यम से यूनिवर्सिटी और कॉलेज में सीटें कम कर रही है। दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यक छात्रों का दाखिला कम से कम करने के रोज नए कदम उठाए जा रहें है। मोदी सरकार अडानी और अम्बानी को लेकर विदेश यात्रा में इनके लिए लॉबिंग कर रही है. इससे देश के स्वाभिवान पर निरंतर कुठाराघात हो रहा है।

विपक्ष पर हमला कर उसकी आवाज दबाई जा रही है-

लालू प्रसाद यादव, मायावती, ममता बनर्जी, करुणानिधि, पी चिदंबरम, मीसा भारती पर राजनीतिक हमले करके विपक्ष को खत्म करने की साजिश रची जा रही है. प्रो. सूरज मंडल ने कहा कि इसलिए मंडल सेना का अभियान है मोदी हटाओ, देश बचाओ.

मंडल सेना ने चेतावनी दी कि 9 अगस्त, 2017 तक युवाओं के रोजगार की संख्या दोगुना बढ़ाने की घोषणा नहीं की गयी, तो मंडल सेना मोदी सरकार को हटाने के लिए मंडल मार्च या सामाजिक न्याय मार्च 9 अगस्त को शुरू करेगी।

इसे भी पढ़ें- निजीकरण से खत्म हो रहीं आरक्षित वर्ग की नौकरी से नाराज छात्रों का बिहार में उग्र प्रदर्शन

इस अवसर पर मोदी सरकार द्वारा किसान, व्यापारी, युवा तथा जन विरोधी नीतियों आक्रोश जताते हुए प्रो. जवाहर पासवान, प्रो सूरज मंडल, प्रो. ललन साहनी, अरुण कुमार, प्रांतीय संयुक्त सचिव  शिक्षक संघ कृष्ण कुमार,  जिलाध्यक्ष शिक्षक संघ अंगद यादव, गूगल पासवान द्वारा सम्बोधित किया गया।

संविधान से छेड़छाड़ ना करने की नसीहत- 

प्रो. जवाहर पासवान ने भी आरक्षण हटाने का विरोध करते हुए मोदी सरकार को संविधान से छेड़छाड़ नहीं करने की सलाह दी। प्रो. ललन साहनी ने आह्वान किया अगर देश दलित, पिछड़े अपने अधिकारों के प्रति सजग रहें तो फिर कोई भी आरक्षण पर हमला करने की सोच नहीं सकता। अरुण कुमार और कृष्णा कुमार ने माध्यमिक शिक्षा और शिक्षक की दयनीय हालत पर चिंता जाहिर की। अंगद यादव ने कहा कि मोदी सरकार में भ्रष्टाचार केंद्रित हुआ है, अब मंत्री नहीं, पार्टी पैसे उसूलती है।

प्रमुख मांगे- 

1. सरकारी रोजगार के अवसर कम करने या समाप्त करने के सभी कदम केंद्र व राज्य सरकार तुरंत वापस लें। रेलवे के निजीकरण पर तुरंत रोक लगे। एयर इण्डिया की बिक्री का आदेश वापस लिया जाय।

2. आरक्षण व्यवस्था को संविधान सम्मत रखा जाए तथा आरक्षण में मोदी सरकार द्वारा की गई गैरकानूनी छेड़छाड़ को तुरंत रोका जाय।

इसे भी पढ़ें- बीएचयू कुलपति प्रोफेसर त्रिपाठी के राज्य में खत्म हुए ओबीसी-एससी-एसटी के पद, सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

3. सुप्रीम कोर्ट द्वारा आरक्षित वर्ग में नौकरी के संबंध में दिए गए आदेश कि आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार को आरक्षित वर्ग में ही नौकरी मिलेगी, चाहे उसने सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों से ज्यादा अंक क्यों न हासिल किए हों, को तुरंत निरस्त किया जाए.

4. मंडल आयोग को पूर्ण रूप से लागू किये बगैर और सिफारिशों पर ‘एक्शन टेकन रिपोर्ट’ प्रस्तुत किये बगैर मोदी सरकार द्वारा नए पिछड़े वर्ग आयोग का गठन को तुरंत रोका जाए।

5. राष्ट्रिय स्तर पर निजी मेडिकल कॉलेजों के परास्नातक कोर्स में से एससी, एसटी और ओबीसी का कोटे को अविलम्ब बहाल किया जाए।

6. न्यायपालिका में आरक्षण लागू किया जाए।

7. निजी क्षेत्र और ठेकेदारी व्यवस्था में आरक्षण लागू किया जाए।

8. OBC आरक्षण से गैर संवैधानिक क्रीमी लेयर (Creamy Layer) हटाया जाय ।

इसे भी पढ़ें-कश्मीरा पंडितों की जन्मजात श्रेष्ठता पैरों तले रौंद डीयू की मेरिट में आगे निकले आरक्षण वाले छात्र

सामाजिक न्याय के मुद्दे पर वोट लेने वाले चुप हैं- 

मंडल सेना ने आरोप लगाया कि सामाजिक न्याय मुद्दे पर जनता से वोट लेने वाले तमाम राजनैतिक दल और नेता चुप हैं। मोदी सरकार उन्हे ब्लैकमेल कर चुप करा रही है। भाजपा में शामिल अनुसूचित जाति/जनजाति/OBC के अधिकांश नेता अपने स्वार्थ में डूबे हुए हैं और समाज की हितों की रक्षा करने में असमर्थ हैं। संघर्ष हमें स्वयं करना होगा।

Related posts

Share
Share