You are here

धार्मिक CM का रामराज बना बच्चों के लिए कब्रगाह, अब फर्रुखाबाद सरकारी अस्पताल में 49 बच्चों की मौत

नई दिल्ली/लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो 

उत्तर प्रदेश में इन दिनों कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। ऐसा लगता है कि धार्मिक सीएम की प्राथमिकताओं में सिर्फ गाय, योगा और मंदिर है। इसलिए राह चलते न तो लड़कियां सुरक्षित हैं और न ही अस्पताल में भर्ती नवजातों की जान।

देश के लोग गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत के सदमे से अभी उबर नहीं पाए हैं कि फर्रूखाबाद में के जिला अस्पताल में पिछले महीने 49 बच्चों के मौत की खबर आई है।

बड़ी संख्या में हुई बच्चों की मौत पर फर्रूखाबाद के जिलाधिकारी सहित दो मेडिकल ऑफिसर का तबादला कर दिया गया है। फर्रूखाबाद के सिटी मजिस्ट्रेट जैनेंद्र कुमार जैन ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई थी। उन्होंने अपनी एफआईआर में कहा, राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इतनी बड़ी संख्या में बच्चों की मौत ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी के चलते हुई।

एफआईआर में कहा गया कि जिला प्रशासन और उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग बच्चों की मौत पर अपना रुख साफ करें। वहीं संवाददाताओं से बात करते हुए प्रमुख सचिव परिवार कल्याण प्रशांत त्रिवेदी, और सूचना सचिव अविनीश अवस्थी ने ऑक्सीजन और दवा की कमी से बच्चों की मौत हो जाने के आरोप को नकार दिया।

उन्होंने कहा, स्वास्थ्य निदेशक की अगुआई में टेक्नीकल टीम का गठन किया गया है जो मंगलवार को अस्पलात का दौरा करेगी। त्रिवेदी के मुताबिक, टेक्नीकल टीम की रिपोर्ट के बाद अधिकारियों और डॉक्टर्स के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

फर्रूखाबाद जिला अस्पताल में बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई के सवाल पर त्रिवेदी के कहा जिला प्रशासन और जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के बीच समन्वय नहीं है उन्होंने आगे कहा, डीएम, सीएमओ, और सीएमएस का तबादला कर दिया गया है, बच्चों से जुड़ी मौत की रिपोर्ट सीएमओ ने प्रदेश स्वास्थ्य विभाग को नहीं भेजी।

इस घटना के बाद जिलाधिकारी रवींद्र कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधीक्षक का तबादला कर दिया गया है। आपको बता दें बीते महीने गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में सैकड़ों बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी के के चलते हो गई थी।

इन्हे भी पढ़ें-

भगवाराज: गौभक्ति में लीन, धार्मिक CM के गोरखपुर में अगस्त माह में ही 296 बच्चों की मौत

PM का सियासी ट्विट: गोरखपुर में बच्चों की मौत पर खामोश, ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर 10 मिनट में आया बयान

गोरखपुर: “मंत्री जी का निरीक्षण है बच्चे को कंबल में ऐसे लिपेटकर रखो लगे कि जिंदा है”

सफाई देते रह गए धार्मिक CM, वहीं पूर्व CM अखिलेश यादव 2-2 लाख की मदद का ऐलान कर गए

 

Related posts

Share
Share