You are here

राष्ट्रवाद की दुहाई देने वालों की सरकार के गृहमंत्री राजनाथ सिंह इतने लाचार क्यों हैं ?

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  प्रतीकों की राजनीति के इस दौर में राष्ट्रपिता मोहन दास करमचंद गांधी, सरदार पटेल, बाबा साहेब अंबेडकर समेत तकरीबन सभी महापुरुषों का इस्तेमाल केवल उनके अनुयायियों के वोट पाने के लिए किया जाता है। लोकसभा चुनाव से पहले पूरे देश से सरदार पटेल की प्रतिमा के नाम पर लोहा इकट्ठा करने वाली बीजेपी चुनाव जीतने…

Read More

झारखंड के बाद UP के ‘रामराज’ में भी बिना आधार नहीं मिला राशन, बीमार महिला की भूख से मौत

नई दिल्ली/लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो।  लगता है मोदीराज में महिमामंडित करके घोषित की गई योजनाओं को आधी-अधूरी तैयारियो के साथ जनता के ऊपर थोपने की परिपाटी बन गई है। फिर चाहे वो नोटबंदी हो, जीएसटी हो या आधार कार्ड से विभिन्न चीजों को जोड़ने का फरमान। देश की जनता की जमीनी हकीकत, उनकी शिक्षा, गरीबी और मानसिक स्तर समझे बगैर…

Read More

नजरिया: जन्म से पहले ही मेरी जाति-धर्म तय हो गया, मेरे दुश्मन भी तय हो गए और मेरे झंडे का रंग भी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  मानवाधिकार कार्यकर्ता हिमांशु कुमार इस समाज में जन्म के साथ तय की गई जाति, धर्म की दीवारों पर करारा प्रहार करते हैं। सवाल खड़ा करते हैं कि आखिर किसी बच्चे पर जन्म के साथ अपनी मानसिकता थोपना कितना उचित है- आप भी पढ़िए हिमांशु कुमार के मन की वेदना- जन्म लेते ही मुझे हिन्दू, मुसलमान…

Read More

साहेब की अपील भी नहीं सुन रहे भक्त, गो-तस्‍करी के शक में दो मुस्लिमों की पिटाई, एक की मौत

जयपुर/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अपने हिन्दुवादी भक्तों से की गई गुंडई ना करने की अपील का कोई असर होता नहीं दिख रहा। देश भर में बीजेपी शासित राज्यों से इस तरह की खबरें आती रहती हैं जिसमें गौ-गुडों की गुंडई का शिकार मुस्लिमों या दलितों को होना पड़ता है। बीजेपी शासित राजस्थान के अलवर में…

Read More

परशुराम को इंजीनियर बताने वाले CM मनोहर पर्रिकर की मीडिया को वैज्ञानिक सोच रखने की नसीहत

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  अपनी मां का गला काटने वाले परशुराम जैसे नृशंस व्यक्ति को प्राचीन भारत का इंजीनियर बताने वाले गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर मीडिया को वैज्ञानिक सोच रखने की नसीहत दे रहे हैं। इंजीनियरिंग को प्राचीन भारत की कला बताने वाले पर्रिकर ने कहा कि मीडिया के लिए वैज्ञानिक सोच ज़रूरी है जिससे कि खबरों के माध्यम से समाज…

Read More

जस्टिस मुख्तार अहमद ने चंद्रशेखर की गिरफ्तारी को राजनीति से प्रेरित मानते हुए जमानत मंजूर की

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। सहारनपुर जातीय हिंसा मे आरोपी बनाकर जेल भेजे गए भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद को जमानत मिल गई है। उन्हे यूपी पुलिस ने जून में गिरफ्तार किया था।  इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चंद्रशेखर को दंगे से जुड़े सभी चार मामलों में जमानत दे दी है। जस्टिस मुख्तार अहमद की बेंच के निर्णय में खास बात…

Read More

सर छोटूराम और चौ. चरण सिंह का इतिहास गवाह है कि कांग्रेस, RSS, BJP को छोड़े बिना जाटों का भला नहीं होगा

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। राजस्थान में पिछले दिनों जोधपुर की जयनारायण व्यास यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ कार्यालय के उद्घाटन को लेकर आयोजित कार्यक्रम में बवाल मचा रहा. सामाजिक न्याय समर्थकों ने कार्यक्रम के कांग्रेसीकरण पर सवाल उठाते हुए इसका विरोध किया। छात्रों ने छात्रसंघ अध्यक्ष कांता ग्वाला और छात्र नेता चेतन ग्वाला पर आरोप लगाया कि उन्होंने हनुमान बेनीवाल का…

Read More

पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी से छत्तीसगढ़ कुर्मी समाज आक्रोशित, विरोध प्रदर्शन, रिहाई की मांग

नई दिल्ली/ रायपुर, नेशनल जनमत ब्यूरो।  मूलत: छत्तीसगढ़ के निवासी दिल्ली में सक्रिय वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा को रमन सिंह सरकार द्वारा राजनैतिक षडयंत्र में फंसाने का आरोप लगाते पत्रकारों और समाज सेवियों का विरोध सोशल मीडिया के बाद अब सड़कों पर भी दिख रहा है। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ कुर्मी समाज के विभिन्न संगठन भी अब खुलकर विनोद वर्मा…

Read More

तो क्या चुनाव आयोग समेत अन्य संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट करने पर तुली है मोदी सरकार ?

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  देश के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी राज्य के मतदान की तारीख से पहले उसके परिणाम की तारीख तय कर दी गई। एक ही दिन हिमांचल प्रदेश और गुजरात के चुनाव परिणाम आने की तारीख घोषित की गई लेकिन गुजरात के मतदान की तिथि नहीं बताई गई। विपक्ष ने इस…

Read More

मौर्य काल से लेकर ब्राह्मणराज की स्थापना तक, शत्रु की हत्या के जश्न में दीप जलाने का रिवाज है ?

नई दिल्ली, मृत्युंजय प्रभाकर (नेशनल जनमत)  श्रमण संस्कृति का जो सबसे बड़ा और विकसित सम्प्रदाय था उसे हम आजीवक समुदाय के रूप में जानते हैं। बौद्धों और जैनों की तरह यह भी उस जमाने में एक बड़ा समुदाय था। चंद्रगुप्त मौर्य के समय में इसे बौद्धों और जैनों की तरह बराबर का महत्व प्राप्त था। हालांकि चंद्रगुप्त ने खुद जीवन…

Read More
1 2 3 40
Share
Share