You are here

आखिर अपने स्टूडेंट की ही थीसिस चुराने वाले शिक्षक की याद में कौन मनाता है शिक्षक दिवस ?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।  पांच सितंबर यानि बच्चोे के लिए व्यवसायिक हो चुके शिक्षकों को गिफ्ट देने का दिन। शिक्षक दिवस के दिन अगर छुट्टी करनी भी पड़े तो कि एक दिन पहले ही प्रोफेशनल शिक्षकों को उपहार पहुंचा दिए जाते हैं। वो भी उन बच्चों के द्वारा जिनको इस बात की समझ भी नहीं होती कि आखिर हम…

Read More

आरक्षण खत्म करने की बात करने वालों, आओ मेरे साथ मैं तुम्हे जातिवाद दिखाता हूं

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो। आजकल जहाँ भी दो चार सवर्ण एकत्रित होते हैं, वहाँ एक ही चर्चा होती है कि इस आरक्षण ने देश को बर्बाद कर दिया है, अब तो सभी बराबर हो गए हैं कोई जातिवाद नहीं है इसलिए अब इस आरक्षण को खत्म कर देना चाहिए। अफसोस की बात यह की हमारे कई नेता भी बोलने…

Read More

दरअसल हम अपने सम्प्रदाय, पंथ, मठ की मानसिक गुलामी को ही धर्म समझकर ‘केकड़ा’ बन बैठे हैं

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो  गुरमीत राम रहीम के करोड़ों शिष्य हैं। उनमें विज्ञान की पढ़ाई पढ़े हुए डाक्टर, इंजीनियर, आईएएस, आईपीएस, नेता, अफसर सभी हैं, वह शराबी, अय्याश, गुंडा और बलात्कारी था, उसे यह सभी बुद्धिमान लोग भगवान मानते थे। इन किताबी ज्ञान से पढ़े लिखे लोगों के मूर्ख बने रहने का सिलसिला कोई एक दो घंटे के लिए…

Read More

शिक्षा पर रूढ़िवादिता हावी: पीरियड्स के धब्बों पर शिक्षिका की डांट से आहत 7वीं की छात्रा ने की खुदकुशी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  भारतीय समाज आज भी दकियानूसी और बेहद ही संकुचित सोच रखने वालों का समाज है। भले ही कोई शिक्षित हो या अशिक्षित उसकी सोच पर रूढ़िवादी परम्पराएं हावी रहती हैं। ऐसा ही एक मामला तमिलनाडु के पालायमकोट्टाई का सामने आया है जहां शिक्षिका की संकुचित सोच की वजह से एक छात्रा ने खुदकुशी कर ली।…

Read More

अंधविश्वास और जातिवाद से लबरेज इस देश को ‘छुआछूत, दंगा और बाबा म्यूजियम’ चाहिए !

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।   जर्मनी और रवांडा जैसे कुछ अफ्रीकी देशों में कई सारे होलोकॉस्ट म्यूजियम हैं स्कूल कॉलेज के बच्चों को वहां दिखाया जाता है कि हिटलर के दौर में या हुतु तुत्सी जातीय हिंसा के दौर में किस नंगई का नाच हुआ था, कैसे पढ़े लिखे समझदार लोग जानवर बन गए थे और एकदूसरे की खाल…

Read More

नोटबंदी की साजिश सफल: UP चुनाव में BJP के 32 हेलीकॉप्टर्स के मुकाबले, SP+BSP+कांग्रेस के 5 हेलीकॉप्टर थे

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो नोटबंदी जैसे बेतुके फैसले पर बात करने से अब बीजेपी के नेता भी कतराने लगे हैं। सिवाए छद्म ज्ञान के किसी भी भाजपाई, संघी या इस मानसिकता के गुलाम किसी व्यक्ति के पास नोटबंदी से जुड़े कोई तथ्यात्मक आंकड़े नहीं हैं। लेकिन हैरत की बात तो देखिए मोदी भक्त, नासमझ लोगों को आज भी इस…

Read More

समझिए इस कर्मकांडी देश में स्मार्ट सिटी का सपना क्यों कठिन है ?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो। स्मार्ट सिटी का सपना भारत मे क्यों कठिन है ये समझना होगा। इस मुद्दे को आप भारत के धर्म की नागर जीवन के प्रति दी गयी सलाह को समझे बिना नहीं समझ सकते। मनुस्मृति, याज्ञवल्क्य स्मृति, आपस्तंब धर्मसूत्र सहित अन्य धर्म शास्त्रों में नगरीय जीवन की निंदा की गई है। वर्तमान इस्लामिक (अरबी) और ईसाई…

Read More

पंजाब-हरियाणा के करिश्माई बाबाओं के डेरो में आखिर दलित-वंचित समाज जाता ही क्यों है ?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो  लोग डेरों में क्यों जाते हैं? किसी श्रद्धालु के डेरे जाने के आध्यात्मिक मूल्य को कमतर आंके बिना यह कहना गलत नहीं होगा कि इसके पीछे कुछ बेहद दुनियावी कारण हैं, जो कम अहमियत नहीं रखते. मिथकीय मूल्यों और बाबाओं की निजी करिश्माई अपील के अलावा पंजाब के डेरे अपने अनुयायियों में एक किस्म की…

Read More

जहरीले वेदांत, गुलाम मानसिकता और अध्यात्म का मुकाबला सिर्फ नास्तिकता ही कर सकती है

नई दिल्ली. नेशनल जनमत ब्यूरो।  डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को रेप केस में 10 साल की सज़ा मिलने के बाद बाबाओं के प्रति लोगों का भरोसा उठने लगा है। राम रहीम से पहले भी कई ऐसे बाबा थे जो ईश्वर के नाम पर पर्दे के पीछे सेक्स रैकेट चलाते थे। इस वेदांत और अध्यात्म से दूर रहने में…

Read More

आखिर दलित-पिछड़ा बाहुल्य इलाकों से ही मायावी बाबा धर्म का काला धंधा क्यों शुरू करते हैं ?

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।  डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सीबीआई अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद देश में अफरा-तफरी का महौल है। बाबा राम रहीम के उन्मादी समर्थकों द्वारा फैलाई गई हिंसा में अभी तक 32 लोगों की मौत की खबरें आ रहीं हैं। पंजाब-हरियाणा में आपाकाल जैसे हालात हैं। हिंसा के चलते सैकड़ों रेलगाड़ियों को रद्द…

Read More
1 2 3 4 5 37
Share
Share