You are here

छात्राओं से छेड़छाड़ करने वाले CRPF जवानों के विरोध में खड़ी हुईं सोनी सोरी को पुलिस ने धमकाया

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों राखी बंधवाने के बहाने स्कूल के हॉस्टल में घुसकर छात्राओं से छेड़छाड़ करने के आरोप लगेने के बाद पुलिस मामले को दबाने के प्रयास  में लग गई है। छत्तीसगढ़ पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। हॉस्टल के वार्डेन ने इस बारे में पुलिस में लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार के मुताबिक पालनार में सीआरपीएफ कैम्प से 100 मीटर की दूरी पर ही हॉस्टल है।

सीआरपीएफ के सिपाहियों ने राखी के बहाने आदिवासी लड़कियों के स्कूल में घुस कर उनके साथ छेड़खानी की। लड़कियों ने शिकायत की तो अधिकारियों ने जाकर लड़कियों को चुप रहने की हिदायत दी। लेकिन सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने जाकर लड़कियों से मुलाक़ात की उसके बाद इस घटना के बारे में सारे देश को पता चला।

घबरा कर पुलिस ने अपनी जान छुडाने के लिए एक रिपोर्ट दर्ज़ कर ली। लेकिन हास्टल वार्डेन और पुलिस अधिकारी लड़कियों पर सच ना बताने के लिए बराबर दबाव बना रहे हैं। आज सोनी सोरी और बस्तर की पहली आदिवासी पत्रकार पुष्पा उस स्कूल की वार्डन से मिलने के लिए गयीं, लड़कियों के स्कूल के भीतर दंतेवाडा का एडीशनल एसपी अभिषेक पल्लव मौजूद था।

एसएसपी ने की अभद्रता-  

सोनी सोरी को देख कर एडिशनल एसपी घबरा गया। एडिशनल एसपी ने गालियां बकते हुए सोनी सोरी पर शारीरिक हमला किया। सोनी सोरी ने बताया कि एडिशनल एसपी का हाथ मेरे चेहरे के नज़दीक तक आ चुका था. लेकिन सोनी सोरी के साथ मौजूद आदिवासी महिला पत्रकार पुष्पा ने बीच में आकर सोनी को बचाया।

इसके बाद एडिशनल एसपी ने सोनी सोरी से कहा कि अगर आज के बाद तू इस मामले में आयी तो मैं तुझे जान से मार दूंगा। एडिशनल एसपी ने सोनी सोरी से यह भी कहा कि जा तू हमारी शिकायत सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट जहां चाहे कर देना हमारा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता सोनी सोरी इस मामले की रिपोर्ट दर्ज़ करवाने की कोशिश कर रही हैं।

सोनी सोरी कह रही हैं कि हमें पहले से ही अंदेशा था कि पुलिस इस मामले को दबाने की कोशिश करेगी। अब सोनी सोरी पर पुलिस के इस हमले से यह बिलकुल स्पष्ट हो गया है कि इस मामले में आवाज़ उठाने के कारण पुलिस सोनी सोरी से बदला ले सकती है। सीआरपीएफ द्वारा आदिवासी स्कूली लड़कियों के साथ यौन दुराचार के मामले पर बोलने के कारण अब सोनी सोरी की सुरक्षा खतरे में है।

Related posts

Share
Share