You are here

15 रु. की चाइनीज झालरों का विरोध करने वालों देख लो, मोदी सरकार ने चीन को दे दिया 851 करोड़ का ठेका

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

चीन हर रोज किसी ना किसी बहाने भारत को धमकी दे रहा है, कभी 1962 के युद्ध की याद दिलाकर तो कभी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से भारत में घुसपैठ करके हमला करने की बात कहकर। इन धमकियों के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठ ही रहे हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर मोदी सरकार का एक पुराना फैसला सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें चीन की एक कंपनी को नागपुर मेट्रो के लिए 851 करोड़ का ठेका दिए जाने का जिक्र किया गया है।

इसे भी पढ़ें-शर्मनाक: पैराआलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली कंचनमाला को बर्लिन में भीख मांगकर रहना पड़ा

चीन को मिला नागपुर मेट्रो के 69 कोच बनाने का ठेका- 

भारत की पहली मेट्रो रोलिंग स्‍टॉक मैनुफैक्‍चरिंग यूनिट नागपुर में 1,500 करोड़ रुपए की लागत से लगाई जाएगी। महाराष्‍ट्र सरकार ने इसके लिए चीन रेलवे रोलिंग स्‍टॉक कॉर्पोरेशन (CRRC) के साथ एमओयू साइन किया है जिसके तहत चीनी फर्म नागपुर मेट्रो के लिए 69 कोच उपलब्‍ध कराएगी।  CRRC इलेक्ट्रिक लोको‍मोटिव्‍स और मेट्रो व्‍हीकल्‍स के मामले में चीन की सबसे बड़ी रिसर्च और उत्‍पादन कंपनी है।

भारतीय कंपनियों को दरकिनार कर दिया गया ठेका- 

इस प्रोजेक्ट के लिए भारतीय कंपनियों बीईएमएल और टिटाघर वैगन ने भी अप्लाई किया था लेकिन इनको दरकिनार कर चीन की कंपनी को ठेका दिया गया। इस मामले में कपंनी टिटाघर सुप्रीम कोर्ट भी गई थी लेकिन कोर्ट ने उसकी याचिका मंजूर करने से मना कर दिया। कंपनी का आरोप था कि मेक इन इंडिया की बात करने वाली सरकार ने निविदा में गड़बड़ी करके चीन की कंपनी को फायदा पहुंचाया है।

इसे भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर फर्जी वीडियो डालकर नफरत फैलाने वाला बीजेपी काी आईटी सेल का नेता गिरफ्तार

38 किलोमीटर का लंबा मेट्रो रेल ट्रेक- 

नागरपुर मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के तहत पहले चरण में 38.215 किमी लंबा ट्रेक बनाया जाएगा। जिसमें 36 स्टेशन और मेट्रो के रात्रि ठहराव के लिए दो डिपो शामिल हैं।

चीन को न्योता दिया था बीजेपी के सीएम ने – 

2106 में अपनी चीन यात्रा के दौरान बीजेपी शासित महाराष्ट्र के मुख्‍यमंत्री ने CRRC को नागपुर में मैनुफैक्‍चरिंग यूनिट लगाने की संभावनाएं तलाशने का खुद जाकर न्‍योता दिया था।

इसे भी पढ़ें- आत्ममुग्ध पीएम से देश बचाना है तो कांग्रेस को नेतृत्व नीतीश को सौंप देना चाहिए- इतिहासकार रामचंद्र गुहा

नेशनल जनमत का सवाल-

दो देश आपसी समझौतों के तहत ही व्यापार को बढ़ाते हैं इसमें कोई हर्ज भी नहीं है। लेकिन एक तरफ चीन को ड्रेगन और दुश्मन कहने वाले भगवाधारी जिनमें बीजेपी के जिम्मेदार पदाधिकारी भी शामिल होते हैं 15-20 रुपये की चाइनीज झालरों का विरोध करते हैं। रेहड़ी पटरी और गरीबी में जीवनयापन करने वालों की दुकान में तोड़फोड़ करते हैं। दिवाली के आसपास नौटंकी शुरू होती है तो उनका ठेला पलट देते हैं। ऐसे में चीन के साथ करोड़ों रुपये का व्यापार सरकार की दोहरी मानसिकता को दर्शाता है। या तो सरकार ऐसा करने वाले भाजपाईयों को सजा दिलाए या चीन को लेकर स्वदेशी इस्तेमाल के नाम पर अपनी नौटंकी बंद करे।

Related posts

Share
Share